गर्भावस्था का सातवां महीना- लक्षण, बच्चे का विकास और शारीरिक बदलाव

जहां गर्भावस्था की दूसरी तिमाही को हैप्पी टाइम कहा जाता है, वहीं तीसरी तिमाही में पूरी सतर्कता बरतनी होती है। तीसरी तिमाही का मतलब यह है कि डिलीवरी का समय नजदीक है और शिशु गर्भ में तेजी से विकास कर रहा है। इसलिए, तीसरी तिमाही में ऐसा कोई काम न करें, जिससे गर्भवती महिलया या शिशु को हानि पहुंचे। मॉमजंक्शन के इस लेख में गर्भावस्था की तीसरी तिमाही की शुरुआत यानी गर्भावस्था के सातवें महीने (25वें सप्ताह से 28वें सप्ताह तक) से जुड़ी जरूरी जानकारियां दी गई हैं।

लेख के पहले भाग में हम इस महीने में नजर आने वाले लक्षणों के बारे में बोल रहे हैं।

गर्भावस्था के सातवें महीने में लक्षण | Pregnancy Ka 7 Mahina

गर्भावस्था के सातवें महीने में कुछ नए लक्षण नजर आते हैं। जरूरी नहीं कि सभी लक्षण अच्छा ही महसूस कराएं। कुछ लक्षण परेशानियां भी लेकर आते हैं। इस दौरान आपको कुछ ऐसा महसूस हो सकता है :

  • ब्रेक्सटन हिक्स संकुचन : जैसे-जैसे गर्भावस्था का समय बढ़ेगा और आप सातवें महीने में कदम रखेंगी, वैसे-वैसे आपको ब्रेक्सटन हिक्स महसूस हो सकते हैं। यह हल्के-हल्के संकुचन होते हैं, जो 30 सेकंड से एक मिनट तक रह सकते हैं। ब्रेक्सटन हिक्स को ‘फाल्स लेबर’ भी कहा जाता है (1)
  • योनि स्राव में वृद्धि : गर्भावस्था में योनि स्राव होना सामान्य है। शुरुआती समय में यह किसी भी तरह के संक्रमण को गर्भाशय तक पहुंचने से रोकता है। समय के साथ-साथ शिशु का सिर श्रोणि भाग पर दबाव डालता है, जिस कारण योनि से रिसाव होने लगता है। हालांकि, यह सामान्य है, लेकिन अगर आपको इस स्राव से दुर्गंध आने लगे, तो एक बार डॉक्टर से संपर्क कर लें।
  • स्तनों से रिसाव होना : गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में स्तनों से रिसाव होना शुरू हो जाता है। यह गाढ़ा और पीले रंग का पदार्थ होता है, जिसे ‘कोलोस्ट्रम’ कहते हैं। यह रिसाव दिन में किसी भी समय हो सकता है। जैसे-जैसे डिलीवरी का समय नजदीक आता है यह एकदम रंगहीन हो जाता है और ऐसा होना सामान्य प्रक्रिया है। यह जरूरी नहीं कि ऐसा सभी के साथ हो, लेकिन अगर किसी को ऐसा अनुभव हो, तो इसे सामान्य समझें।
  • अपच : गर्भावस्था में अपच की समस्या होना आम है। इस दौरान अक्सर पेट फूलना, छाती में जलन व जी-मिचलाना जैसा महसूस हो सकता है। यह समस्या तीसरी तिमाही में ज्यादा बढ़ जाती है। शिशु के विकसित होने से पाचन तंत्र ठीक से काम नहीं कर पाता, जिस कारण अपच की समस्या होने लगती है।

ऊपर हमने पढ़े सातवें महीने के लक्षण, अब जानिए इस दौरान होने वाले शारीरिक बदलावों के बारे में।

वापस ऊपर जाएँ

प्रेगनेंसी के सातवें महीने में शरीर में होने वाले बदलाव

यह अब आपकी अंतिम तिमाही की शुरुआत है। इस समय तक आपका पेट और बढ़ जाएगा और कई तरह के शारीरिक बदलाव देखने को मिलेंगे। नीचे हम बता रहे हैं कि सातवें महीने के दौरान शरीर में क्या-क्या शारीरिक बदलाव देखने को मिलते हैं (2) :

  • सातवें महीने तक आपका वजन काफी बढ़ जाता है, जो गर्भावस्था में सामान्य है। इस समय तक आपका करीब पांच किलो वजन बढ़ सकता है। इसके अलावा, गर्भाशय बढ़ने के कारण पेट पर खिंचाव के निशान ज्यादा दिखने लगेंगे।
  • इस दौरान आपका गर्भाशय नाभि के ऊपर आ जाएगा और कभी-कभी सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। गर्भाशय ऊपर आने से आपको सोने में भी तकलीफ हो सकती है।
  • पहले के मुकाबले स्तन और बड़े हो जाएंगे। निप्पल के आसपास का रंग और गहरा हो सकता है।
  • इस समय पर आपका पेट लगातार बढ़ता जाता है, जिससे आपको चलने में और झुकने में समस्या हो सकती है।
  • शरीर में हो रहे तेज रक्त प्रवाह के चलते शरीर में सूजन आना सामान्य है।
  • वजन बढ़ने के कारण आपको सांस लेने में तकलीफ हो सकती है।

आइए, अब जानते हैं गर्भावस्था के सातवें महीने में बच्चे का किस तरह विकास होता है।

वापस ऊपर जाएँ

गर्भावस्था के सातवें महीने में बच्चे का विकास और आकार

  1. गर्भावस्था के सातवें महीने तक शिशु का आधे से ज्यादा विकास हो जाता है।
  1. आपका शिशु अब बाहर की आवाजों पर प्रतिक्रिया भी दे सकता है और अंगड़ाइयों के साथ जम्हाइयां भी लेता है।
  1. इस महीने तक शिशु की पलकें और भौं आ जाती हैं।
  1. अब शिशु आंखें खोल भी सकता है और बंद भी कर सकता है।
  1. इसके अलावा, गर्भावस्था के सातवें महीने के अंत तक शिशु लगभग 14 इंच लंबा हो जाता है और उसका वजन एक किलो के आसपास हो सकता है (3)

आइए, अब जानते हैं सातवें महीने के दौरान कैसी देखभाल होनी चाहिए।

वापस ऊपर जाएँ

गर्भावस्था के सातवें महीने में देखभाल

गर्भावस्था का सातवां महीना आखिरी तिमाही की शुरुआत है। इस दौरान खास देखभाल की जरूरत होती है। आपकी जीवनशैली कैसी है, आप क्या खा रही हैं और किन चीजों से आप परहेज करती हैं, यह सब आपकी गर्भावस्था पर असर डालता है। अब हम बात करने जा रहे हैं गर्भावस्था के खान-पान की।

वापस ऊपर जाएँ

गर्भावस्था के सातवें महीने में खाएं ये चीजें | Pregnancy Ke 7 Month Me Kya Khana Chahiye

गर्भावस्था के सातवें महीने में आपको अपने खान-पान का विशेष ध्यान रखना होगा। यह गर्भावस्था की आखिरी तिमाही है, इसलिए आप जो भी खाएं पौष्टिक खाएं, ताकि आपको और शिशु को भरपूर पोषण मिले। जानिए इस दौरान क्या खाना चाहिए (4) :

  • कैल्शियम युक्त भोजन : गर्भावस्था में बच्चे के विकास के लिए कैल्शियम जरूरी है। खासतौर से तीसरी तिमाही में। हालांकि, इस दौरान अतिरिक्त कैल्शियम लेने की जरूरत नहीं होती।
  • मैग्नीशियम युक्त खाना : मैग्नीशियम, कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है। इसके अलावा, यह पैरों में होने वाली ऐंठन से राहत दिलाता है।
  • डीएचए से भरपूर खाना : डीएचए एक फैटी एसिड है, जो शिशु के दिमागी विकास के लिए जरूरी है। इसके लिए आप कम स्तर की मरकरी वाली मछली, संतरे का जूस, दूध व अंडा ले सकते हैं (5)
  • फोलिक एसिड : शिशु के रीढ़ की हड्डी और दिमागी विकास के लिए फोलिक एसिड लेना जरूरी है। यह शिशु को स्पाइना बिफिडा जैसे विकार से बचाने में मदद करता है (6)। इसके लिए डॉक्टर गर्भवती को फोलिक एसिड के सप्लीमेंट्स भी देते हैं।
  • फाइबर युक्त भोजन : सातवें महीने के दौरान गर्भाशय काफी बढ़ जाता है, जिस कारण पेट का पाचन तंत्र ठीक से काम नहीं कर पाता। इस वजह से अक्सर गर्भवती को कब्ज की समस्या रहती है। इससे बचने के लिए जितना हो सके फाइबर युक्त भोजन खाएं।
  • विटामिन-सी : आयरन को ठीक से अवशोषित करने के लिए विटामिन-सी का सेवन करना जरूरी है। विटामिन-सी के लिए आप संतरा व नींबू अपने खान-पान में शामिल कर सकती हैं।

वापस ऊपर जाएँ

गर्भावस्था के सातवें महीने में न खाएं ये चीजें

गर्भावस्था के सातवें महीने में सीने में जलन, पैरों में सूजन व कब्ज जैसी समस्याएं होना आम है। खान-पान में परहेज करने से इन समस्याओं से राहत पाई जा सकती हैं। जानिए, गर्भावस्था के सातवें महीने में क्या नहीं खाना चाहिए :

  • मसालेदार और ज्यादा फैट वाली चीजें : आपको इस दौरान ऐसी सभी चीजें खाने से बचना चाहिए, जिनमें तेल-मसालों का ज्यादा इस्तेमाल किया गया हो। इनसे सीने में जलन की समस्या बढ़ सकती है।
  • सोडियम का ज्यादा इस्तेमाल : शरीर में सूजन आना आम बात है। इससे बचने के लिए आपको सोडियम की मात्रा कम करनी होगी। ज्यादा नमक वाली चीजें जैसे चिप्स, डिब्बाबंद आहार व बाजार का अचार खाना कम करना चाहिए।
  • कैफीन, अल्कोहल : गर्भावस्था में शराब, तंबाकू, सिगरेट और कैफीन युक्त चीजें जैसे चाय-कॉफी के सेवन से बचना चाहिए। इनसे शिशु के विकास में बाधा पहुंचती है (7)
  • जंक फूड : इस दौरान जंक फूड जैसे- पीज्जा, बर्गर और बाहर की चाट-पकौड़ियां खाने से बचें। ये चीजें आपके पाचन को खराब करती हैं और इनमें पोषक तत्व भी नहीं होते हैं। अगर ज्यादा ही मन करे, तो आप घर में ही ताजी सब्जियों जैसे गाजर, खीरा, टमाटर का सैंडविच खा सकती हैं। सैंडविच बनाने के लिए आप गेहूं के आटे की ब्रेड का इस्तेमाल करें।

चूंकि व्यायाम करना काफी फायदेमंद होता है, तो जानिए सातवें महीने के व्यायाम के बारे में।

वापस ऊपर जाएँ

गर्भावस्था के सातवें महीने के लिए व्यायाम

व्यायाम हर किसी के लिए जरूरी है। यह आपको न सिर्फ शारीरिक रूप से स्वस्थ रखता है, बल्कि तरोताजा भी रखता है। चूंकि, यह गर्भावस्था की आखिरी तिमाही है, इसलिए ऐसा कोई आसन नहीं करना चाहिए, जिससे शिशु को नुकसान पहुंचे। आप चाहें, तो इस दौरान अनुलोम-विलोम और हल्की-फुल्की सैर कर सकती हैं, लेकिन ज्यादा शारीरिक गतिविधियां इस महीने में करने से मना की जाती हैं। फिर भी अगर आप व्यायाम करने की इच्छुक हैं, तो एक बार विशेषज्ञ से संपर्क करें, वो आपकी शारीरिक स्थिति देखकर उचित व्यायाम बताएंगे।

सातवें महीने के व्यायाम के बाद आइए अब जानते हैं कि इस दौरान कौन-कौन से मेडिकल टेस्ट होते हैं।

वापस ऊपर जाएँ

गर्भावस्था के सातवें महीने के दौरान स्कैन और परीक्षण

गर्भावस्था में नियमित रूप से डॉक्टर से चेकअप करवाना जरूरी है, ताकि शिशु के विकास और स्वास्थ्य पर नियमित रूप से नजर बनाई जा सके। जानिए, गर्भावस्था के सातवें महीने में कौन-कौन सी जांच की जाती हैं :

  • इस दौरान डॉक्टर शिशु के विकास की पूरी जांच करेंगे। शिशु के दिल की धड़कन की जांच के लिए फीटल हार्ट रेट मॉनिटरिंग, आपका रक्त संचार, गर्भाशय का आकार व किसी तरह का संक्रमण पता लगाने के लिए पेशाब की जांच की जाती है।
  • इसके अलावा, बायोफिजिकल प्रोफाइल टेस्ट (Biophysical profile test) व कॉन्ट्रैक्शन स्ट्रेस टेस्ट (CST) किया जाता है। यह टेस्ट अल्ट्रासाउंड की मदद से होता है, जिसमें शिशु के दिल का स्वास्थ्य जांचा जाता है। यह जांच गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में होती है।

आपने जान लिया कि इस महीने में क्या-क्या जांच होती है। अब जानते हैं कि आपको क्या-क्या सावधानियां बरतने की जरूरत होगी।

वापस ऊपर जाएँ

गर्भावस्था के सातवें महीने के दौरान सावधानियां

इस दौरान, आपको अपनी दैनिक क्रियाओं में सतर्कता बरतनी होगी। यहां हम कुछ सावधानियां बताने जा रहे हैं, जो गर्भावस्था का सातवां महीना स्वस्थ तरीके से पार करने में आपकी मदद करेंगी।

वापस ऊपर जाएँ

गर्भावस्था के सातवें महीने में क्या करें?

  • खानपान : इस दौरान सबसे ज्यादा जरूरी है सही खान-पान। गर्भावस्था के सातवें महीने में आप ओमेगा-3 फैटी एसिड का सेवन करें। डॉक्टर की सलाह लेकर अखरोट और समुद्री भोजन का इस्तेमाल कर सकती हैं।
  • नियमित रूप से सैर करें : सातवें महीने में नियमित रूप से सैर करना, आपके लिए फायदेमंद रहेगा। इससे आपको प्रसव के दौरान आसानी होगी।
  • नियमित रूप से जांच कराएं : डॉक्टर से नियमित रूप से जांच करवाना जरूरी है। इसमें किसी तरह की लापरवाही न बरतें। अगर जांच में लगे कि शिशु के लिए अतिरिक्त पोषण की जरूरत है, तो अपनी खुराक में सुधार लाने की जिम्मेदारी आपकी है।
  • जरूरी सप्लीमेंट्स लें : गर्भावस्था में आप जो खा रही हैं, केवल उतना ही आपके लिए और शिशु के लिए काफी नहीं है। शिशु का ठीक ढंग से विकास हो, उसके लिए डॉक्टर के बताए हुए जरूरी सप्लीमेंट्स लेना आवश्यक है।
  • खुद को व्यस्त रखें : डिलीवरी का समय जितना नजदीक आएगा महिला की घबराहट उतनी ही बढ़ सकती है। इसलिए, ज्यादा न सोचते हुए खुद को व्यस्त रखने की कोशिश करें। आप चाहें, तो अपनी पसंदीदा किताब पढ़ सकती हैं या पसंदीदा संगीत सुन सकती हैं।

वापस ऊपर जाएँ

गर्भावस्था के सातवें महीने में क्या न करें?

  • गलत अवस्था में न सोएं : इस दौरान आप किस अवस्था में सोती हैं, यह काफी मायने रखता है। सीधा सोने से बचें। गर्भवती के लिए बाईं ओर करवट लेकर सोने की स्थिति सबसे सही मानी गई है (8)
  • आगे की ओर न झुकें : सातवें महीने में झुकने के लिए पूरी तरह से मना किया जाता है। अब आपका बेबी बंप बढ़ चुका है, ऐसे में आगे की ओर झुकने से उस पर दबाव पड़ सकता है, जो शिशु के लिए हानिकारक है।

सातवें महीने में कुछ बातें ऐसी होती हैं, जो चिंता का विषय बन सकती हैं। जानिए इनके बारे में।

वापस ऊपर जाएँ

गर्भावस्था के सातवें महीने के दौरान चिंताएं

गर्भावस्था का सातवां महीना कई अनुभव लेकर आता है। एक ओर जहां आप अपने अंदर शिशु की हलचल को महसूस करके सुखद अनुभव लेंगी, वहीं दूसरी ओर कुछ अन्य परेशानियां भी आ सकती हैं। अगर सातवें महीने के दौरान आपको नीचे बताई गई समस्याएं होती हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

  • अधिक रक्तस्राव होने पर : सातवें महीने में अधिक रक्तस्राव होने को नजरअंदाज न करें। कई बार अपरा (placenta) नीचे की ओर गर्भाशय ग्रीवा तक आ जाती है, जिस कारण रक्तस्राव होने लगता है (9)
  • पेट में जोर से दर्द : बढ़ते गर्भाशय के कारण पेट में हल्का-फुल्का दर्द होना सामान्य है, लेकिन अगर यह दर्द आपको तेजी से और असहनीय होने लगे, तो ऐसे में समय बर्बाद न करते हुए डॉक्टर से संपर्क करें।
  • एक घंटे में चार बार से ज्यादा संकुचन : इस दौरान होने वाले संकुचन को ब्रेक्सटन हिक्स संकुचन (फॉल्स लेबर पेन) कहा जाता है। यह ज्यादातर गर्भावस्था के सातवें महीने से शुरू होते हैं और एक घंटे में एक या दो बार हो सकते हैं। इस दौरान आपको पेट की मांसपेशियों में कसाव महसूस होगा। अगर यह संकुचन एक घंटे में चार बार से ज्यादा हो, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। कभी-कभी इससे समय पूर्व प्रसव का खतरा बढ़ सकता है (1)
  • लगातार उल्टियां होने पर : अगर आपको उल्टियां हो रही हैं, तो इसे नजरअंदाज न करें। शरीर में पानी की कमी होने पर डिहाइड्रेशन का खतरा रहता है, जिस कारण उल्टी होती है।

वापस ऊपर जाएँ

होने वाले पिता के लिए टिप्स

अब तक डॉक्टर ने आपको बता ही दिया होगा कि आपका बेबी अब बाहर की आवाजें सुन सकता है। इसलिए, शिशु के जन्म से पहले ही उसके साथ मधुर रिश्ता बनाने का यही समय है। आप बाहर से उसके लिए गीत गाएं, उससे बात करने की कोशिश करें। इसके अलावा, होने वाले पिता के लिए हम कुछ और टिप्स भी दे रहे हैं, जिससे आप अपनी पत्नी की इस दौरान मदद कर सकते हैं

  • काम में मदद करें : घर के कामों में हाथ बंटाकर पत्नी की मदद कर सकते हैं। अगर आप खाना नहीं बना सकते, तो साफ-सफाई के जरिए गर्भवती का काम हल्का कर सकते हैं।
  • संयम बनाएं रखें : गर्भावस्था की आखिरी तिमाही में महिला को भूलने की समस्या होने लगती है। इसलिए, हो सकता है कि खाने में नमक डालना भूल जाए या अन्य कोई काम करना भूल जाए। ऐसे में आपको गर्भवती की स्थिति को समझना चाहिए और संयम बरतना चाहिए।

वापस ऊपर जाएँ

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

गर्भावस्था के सातवें महीने के दौरान पैर दर्द होने पर क्या करना चाहिए?

बढ़ते वजन के कारण पैरों में दर्द की समस्या आम है। इससे राहत पाने के लिए आप तेल से पैरों की हल्की मालिश करवा सकती हैं। हो सके तो एड़ी के बल कुछ देर चलें। लेटते समय अपने पैरों के नीचे तकिया लगाकर पैर को ऊंचा रखिए, इससे आपको राहत मिलेगी। पैरों में खिंचाव लाएं। इसके लिए टखनों और टांगों की उंगलियों को ऊपर की ओर धीरे-धीरे खींचने से आपको आराम महसूस होगा (10)

मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरे संकुचन, ब्रेक्सटन हिक्स हैं या समय से पहले लेबर हैं?

ब्रेक्सटन हिक्स और लेबर पेन में अंतर होता है। एक ओर जहां लेबर पेन लगातार होता है, तो वहीं ब्रेक्सटन हिक्स 30 सेकंड से लेकर एक मिनट तक हो सकते हैं। लेबर का दर्द पीठ के पिछले हिस्से से शुरू होकर आगे की ओर बढ़ता है। वहीं, ब्रेक्सटन हिक्स में पेट सख्त हो जाता है। ब्रेक्सटन हिक्स बीच-बीच में ठीक भी होते रहते हैं।

क्या, मैं सातवें महीने की गर्भावस्था के दौरान अपनी पीठ के बल सो सकती हूं?

इस दौरान पीठ के बल सोने से मना किया जाता है। ऐसा करने से पीठ में दर्द और बढ़ सकता है व शिशु तक का रक्त प्रवाह धीमा पड़ सकता है। ऐसे में आपको बाईं ओर करवट लेकर सोने की सलाह दी जाती है (8)

वापस ऊपर जाएँ

हम उम्मीद करते हैं कि आपको इस लेख में गर्भावस्था के सातवें महीने के दौरान की जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अगर इस दौरान आपको कोई परेशानी महसूस होती है, तो बिना देरी किए डॉक्टर से संपर्क करें। इसके अलावा, यह लेख उन परिचित महिलाओं के साथ शेयर करना न भूलें, जो सातवें महीने की गर्भवती हैं।

संदर्भ (References) :

1. Braxton Hicks contractions By Ncbi
2. Pregnancy stages and changes By Better Health Channel
3. Fetal growth and development by website of the state of south dakota department of health
4. Pregnancy and diet By Better Health Channel
5. Vitamins and other nutrients during pregnancy By marchofdimes
6. Folic Acid Helps Prevent Some Birth Defects By center of disease control and prevention
7. Pregnancy – medication, drugs and alcohol By Better Health Channel
8. Problems sleeping during pregnancy By Medline Plus
9. Vaginal bleeding in late pregnancy By Medline Plus
10. Aches and pains during pregnancy By Mediline Plus