शिशु के पेशाब से बदबू क्यों आती है? | Shishu Ke Urine Se Bad Smell Aane Ka Karan

Shishu Ke Urine Se Bad Smell Aane Ka Karan

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

शिशु के स्वास्थ्य से जुड़ी छोटी-से-छोटी बात और लक्षण पेरेंट्स को चिंता में डाल देती है। ऐसे में शिशु में नजर आ रहे लक्षण परेशानी का कारण हैं या नहीं, यह माता-पिता समझ नहीं पाते। ऐसा ही एक लक्षण शिशु के पेशाब से बदबू आना है। परेंट्स सोचते रह जाते हैं कि आखिर उनके शिशु के पेशाब से बदबू क्यों आती है। इस बात को तथ्यों के आधार पर मॉमजंक्शन के इस लेख को पढ़कर समझ सकते हैं। यहां छोटे बच्चे के यूरिन से बदबू आने के कारण, इलाज व रोकथाम की जानकारी दी गई है।

चलिए, सबसे पहले यह समझते हैं कि शिशु के पेशाब से बदबू क्यों आती है।

शिशु के पेशाब से बदबू क्यों आती है?

छोटे बच्चे के पेशाब से बदबू आने का कारण क्या होता है, इस संबंध में कई अध्ययन हुए हैं। शोध के अनुसार, नवजात शिशु के पेशाब से बदबू आना सामान्य हो सकता है। यह परेशानी कितनी सामान्य और गंभीर है, यह इससे जुड़ी स्थितियों पर निर्भर करता है, जिनमें ये शामिल हैं। 

1. पानी की कमी — शिशुओं में पानी की कमी होने पर उनके यूरिन से बदबू आ सकती है (1)। इसके बारे में मेडलाइन पल्स की वेबसाइट पर भी जानकारी प्रकाशित है। इसके अनुसार, आहार में तरल पदार्थों को कम शामिल करने पर पेशाब से अमोनिया जैसी तेज गंध आती है (2)। ऐसे में अगर बच्चे को कम स्तनपान कराया जाए या उसके आहार में पानी के साथ अन्य तरल पदार्थों को कम शामिल किया जाए, तो शिशुओं के पेशाब में गंध आ सकती है।

2. संक्रमण — छोटे बच्चों में तेज बदबूदार पेशाब का एक कारण बैक्टीरिया से जुड़ा संक्रमण भी हो सकता है (2)। मौजूदा अध्ययन यह भी पुष्टि करते हैं कि बच्‍चों में मूत्र मथ संक्रमण होने पर भी यूरिन से बदबू आ सकती है। इसकी समस्या 2 वर्ष तक के उम्र के बच्चों में खासतौर पर देखी जाती है (1)। इसके अलावा, छोटे बच्चों में एरोकोकस यूरिनाई (Aerococcus Urinae) नामक मूत्र पथ संक्रमण भी एक अन्य कारण है। इसे मूत्र पथ संक्रमण का गंभीर रूप माना जाता है (3)।

3. खराब स्वच्छता — शारीरिक तौर पर बच्चे की स्वच्छता में लापरवाही बरती जाए, तो यह भी बच्चे के पेशाब से बदबू आने का एक कारण बन सकता है (3)।

4. कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन — आहार में शतावरी जैसे खाद्य शामिल करने से भी पेशाब से अलग तरह की तेज दुर्गंध आ सकती है (1)। ऐसे में अगर बच्चे को ठोस आहार या स्तनपान के जरिए शतावरी का सेवन कराया जाए, तो भी यह शिशु के पेशाब से बदबू आने का एक कारण बन सकता है।

5. डबॉविट्ज सिंड्रोम (Dubowitz Syndrome) — यह एक दुर्लभ ऑटोसोमल रिसेसिव डिसऑर्डर यानी आनुवंशिक विकार है। इसमें बच्चे को जन्म से कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं, जैसे कि छोटा कद, चौड़ी नाक, झुका हुआ माथा आदि। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की साइट पर प्रकाशिक एक रिसर्च में यह बताया गया है कि इस दुर्लभ बीमारी से ग्रस्त बच्चों में जन्म से ही पेशाब से सड़ी हुई बदबू (Musty) आने के लक्षण भी हो सकते हैं (4)।

6. चयापचय संबंधी रोग (Metabolic Disorders) — चयापचय संबंधी रोग भी शिशु के यूरिन से दुर्गंध आने का एक कारण हो सकता है (3)। अगर शिशु के यूरिन से मीठी दुर्गंध आती है, तो यह किसी चयापचय संबंधी रोग के कारण हो सकता है (2)।

एनसीबीआई पर प्रकाशित एक रिसर्च के अनुसार, बच्चों में चयापचय से जुड़ा रोग ट्राइमेथीलेमिनुरिया (Trimethylaminuria) हो सकता है। इसे फिश मालोडोर सिंड्रोम (Fish Malodour Syndrome) भी कहा जाता है। यह दुर्लभ बीमारी है, लेकिन इसके होने पर शरीर के पसीने से लेकर पेशाब तक में मछली जैसी गंध आ सकती है (5)।

7. मधुमेह — चयापचय से जुड़े रोग बच्चे में टाइप-2 मधुमेह का जोखिम बढ़ा सकते हैं (6)। ऐसी स्थिति में भी यूरिन से मीठी बदबू आ सकती है (2)।

8. मेपल सिरप यूरिन डिजीज (Maple Syrup Urine Disease) — यह एक आनुवांशिक रोग है। इसके होने पर शरीर में अमिनो एसिड जैसे कुछ प्रोटीन का स्तर व रखरखाव प्रभावित हो सकता है, जिस वजह से शिशुओं के पेशाब से मीठी गंध आ सकती है। इस विकार के लक्षण औमतौर पर जन्म के तुरंत बाद स्पष्ट हो  जाते हैं। ऐसी स्थिति में तुरंत इलाज की आवश्यकता होती है (7)।

9. लिवर की बीमारी — एनसीबीआई के अध्ययन में यह बताया गया है कि लिवर फेलियर से जुड़ी बीमारी फोएटर हेपेटिकस (Foetor Hepaticus) होने पर भी पेशाब से मीठी या अमोनिया जैसी तेज गंध आ सकती है (8)। ऐसे में अगर शिशु को लिवर से जुड़ी कोई समस्या है, तो इसकी वजह से भी शिशु के पेशाब से तेज दुर्गंध आ सकती है।

10. सिस्टाइटिस (Cystitis) — यह मूत्राशय के सूजन की स्थिति होती है, जो ई.कोलाई नामक बैक्टीरिया के कारण होती है। इसकी वजह से भी पेशाब से तेज गंध आ सकती है (9)।

इसके अलावा, अगर बच्चे ने डायपर में पेशाब किया है और उसे लंबे समय तक न बदला जाए, तो भी शिशु के यूरिन से तेज गंध आ सकती है।

अब पढ़ें शिशुओं में मजबूत मूत्र गंध की पहचान करने वाले लक्षण।

शिशु में बदबूदार मूत्र के क्या लक्षण हैं?

वैसे तो यह समस्या अपने आप में लक्षण है। इसके अलावा, छोटे बच्चे के पेशाब से बदबू आने के कई अन्य लक्षण भी होते हैं, जिनके बारे में हमने नीचे बताया है।

अगर शिशु के पेशाब से अमोनिया जैसी गंध आए, तो इसके कारण समझने के लिए स्क्रॉल करें।

शिशु के पेशाब में अमोनिया जैसी गंध क्यों आती है?

शिशु के यूरिन से अलग-अलग तरह की गंध आ सकती है, जो अलग-अलग स्थितियों व स्वास्थ्य समस्याओं को दर्शा सकती है। अगर शिशु के पेशाब से अमोनिया जैसी गंध आ रही है, तो उसके पीछे के मुख्य कारण ये शामिल हैं:

  • शरीर में पानी की कमी होना (2)
  • लिवर से जुड़ी बीमारी होने पर (8)
  • मूत्राशय में सूजन होना (9)
  • बैक्टीरियल इंफेक्शन जैसे मूत्र पथ संक्रमण होना (11)

क्या दांत आना भी बदबूदार पेशाब की वजह है, जानने के लिए नीचे पढ़ें।

क्या शिशु में बदबूदार पेशाब दांत निकलने की निशानी होती है?

हां, एनसीबीआई में मौजूद एक शोध के अनुसार, छोटे बच्‍चों के पेशाब से बदबू आने का कारण बच्चे का दांत निकलना भी हो सकता है। दरअसल, दांत निकलने का एक लक्षण पेशाब से बदबू आना भी है। इसके अलावा, इस दौरान बुखार, दस्त, ब्रोंकाइटिस और रैशेज जैसे अन्य लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं (12)। ऐसा होने के पीछे क्या वजह है, इस विषय में जानकारी उपलब्ध नहीं है। अगर बच्चे के दांत निकलते समय बदबूदार पेशाब व अन्य सामान्य लक्षणों में किसी तरह के बदलाव नजर आते हैं, तो डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

आगे पढ़ें छोटे बच्चे के पेशाब से बदबू आने के जोखिम।

छोटे बच्चे के बदबूदार मूत्र के जोखिम कारक

छोटे बच्चे के मूत्र से बदबू आने के कई जोखिम कारक हो सकते हैं, जिसमें आहार से लेकर कुछ तरह की स्वास्थ्य स्थितियां भी शामिल हैं, जो निम्नलिखित हैं (1) (2)।

  • शतावरी जैसे आहार का सेवन
  • विटामिन व अन्य दवाओं की खुराक लेना
  • जीवाणु संक्रमण या मूत्राशय का संक्रमण होना
  • मधुमेह होना
  • मेटॉब्लिक सिंड्रोम
  • लिवर की बीमारी
  • ब्लैडर फिस्टुला यानी ब्लैडर का मूत्राशय में खुलना
  • शरीर में तरल पदार्थ की कमी होना
  • कीटोन्‍यूरिया (Ketonuria), शरीर में इंसुलिन की कमी
  • मूत्राशय में सूजन होना (9)

अब हम शिशु के पेशाब से बदबू आने का इलाज बता रहे हैं।

शिशु के मूत्र गंध का इलाज | Shishu ke urine smell ka ilaj

आमौतर पर मूत्र से गंध आने की स्थितियां सामान्य मानी जाती है। इसके लिए किसी उपचार की आवश्यकता नहीं हो पड़ती है (2)। हां, अगर किसी कारणवश या किसी बीमारी की वजह से शिशु के पेशाब से बदबू आती है, तो उस स्थिति का इलाज करने के लिए डॉक्टर कुछ इस तरह की सलाह दे सकते हैं।

  1. रिहाइड्रेशन थेरेपी (Rehydration Therapy) — ओरल रिहाइड्रेशन सोल्यूशन (Oral Rehydration Solutions) के जरिए शिशु में डिहाइड्रेशन का उपचार किया जा सकता है। इस मेडिकल ट्रीटमेंट में नसों के जरिए (IV) या आहार में तरल पदार्थों को शामिल कर शिशु के शरीर में तरल पदार्थों व इलेक्ट्रोलाइट्स की मात्रा को बढ़ाया जाता है (10)।
  1. स्तनपान करना — डॉक्टर बच्चे को बार-बार स्तनपान कराने का सुझाव दे सकते हैं। ऐसा करने से बच्चे के शरीर में कम हुए तरल पदार्थों को बढ़ाने में मदद मिल सकती है (13)।
  1. एंटीबायोटिक्स दवाएं — बच्चे में जीवाणु संक्रमण या मूत्र पथ संक्रमण के उपचार के लिए डॉक्टर एंटीबायोटिक्स दवाओं की खुराक दे सकते हैं। यह बच्चों के लिए सुरक्षित भी मानी गई है (3)।
  1. मां के आहार में बदलाव — अगर बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ है, लेकिन इसके बाद भी उसके पेशाब से तेज बदबू आती है, तो ऐसी स्थिति में डॉक्टर मां के आहार में बदलाव करने के भी सलाह दे सकते हैं। जैसा हम लेख में बता ही चुके हैं कि शतावरी जैसे खाद्य का सेवन भी इसका एक कारण हो सकता है। ऐसे में डॉक्टर मां को शतावरी जैसे खाद्यों के सेवन को बंद करने की भी सलाह दे सकते हैं।
  1. दवाओं में बदलाव — विटामिन समेत अन्य दवाएं भी पेशाब में बदबू का कारण मानी गई हैं (2)। ऐसे में डॉक्टर मां व बच्चे द्वारा खाई जाने वाली मौजूदा दवाओं व उसकी खुराक में भी बदलाव कर सकते हैं।
  1. बीमारी का उपचार — अगर बच्चे के पेशाब में बदबू आने का कारण लिवर, चयापचय या मधुमेह से जुड़ी  बीमारी है, तो ऐसी स्थिति में बच्चे का उसकी उम्र अनुसार उचित मेडिकल ट्रीटमेंट कराएं।

अब जानिए शिशु के पेशाब से बदबू को आने से रोकने के तरीके।

शिशुओं में बदबूदार मूत्र को कैसे रोका जा सकता है?

अगर शिशु के पेशाब से बदबू सामान्य कारण से आती है, तो ऐसी स्थिति में कुछ जरूरी बातों का ध्यान में रखकर इससे बचाव कर सकते हैं।

  • बच्चे को उचित मात्रा में स्तनपान व तरल आहार खिलाएं।
  • बच्चे के आहार में उन खाद्यों को शामिल न करें, जो पेशाब में बदबू आने का कारण बनते हैं।
  • स्तनपान के दौरान माताएं शतावरी का सेवन कम कर सकती हैं। अगर वह शतावरी या शतावरी सप्लीमेंट्स का सेवन डॉक्टर की सलाह पर करती हैं, तो इस बारे में उचित सलाह लें।
  • बच्चे में पेशाब करने व उचित शारीरिक स्वच्छता बनाए रखने की आदत डालें।
  • जब भी डायपर, कपड़े या बिस्तर पर शिशु पेशाब करे, तो उसे तुंरत बदल दें।
  • समय-समय पर बच्चे के स्वास्थ्य का चेकअप कराएं।
  • अगर बच्चे को किसी तरह की दवा, विटामिन या सप्लीमेंट्स देती हैं, तो डॉक्टर की सलाह के अनुसार उसकी खुराक में उचित बदलाव करें।

किन स्थितियों में जरूरी होता है डॉक्टर से मिलना, अब इसके बारे में पढ़ें।

डॉक्टर से कब संपर्क करें

शिशुओं में मजबूत मूत्र गंध के साथ अगर नीचे बताए गए निम्नलिखित लक्षण शिशु में दिखाई देते हैं, तो डॉक्टर की सलाह लें (2)।

  • बुखार आने पर
  • ठंड लगने पर
  • पेशाब के साथ जलन व दर्द होने पर
  • पीठ में दर्द होने पर
  • नवजात शिशु के पेशाब से आने वाली बदबू का दिन-ब-दिन बढ़ना

लेख के आखिर में हम शिशुओं में तेज पेशाब की गंध से जुड़े कुछ सवालों के जवाब बता रहे हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

1. शिशु के मूत्र से सिरके जैसी गंध क्यों आती है?

कई बीमारियों के कारण शिशु के मूत्र से तेज गंध आ सकती है, जिसे सिरके जैसी गंध भी कहा जा सकता है। उदाहरण के लिए अगर शिशु को बैक्टीरिया के कारण मूत्राशय में सूजन है या उसे लिवर संबंधी समस्या है, तो उसके पेशाब से तेज बदबू आ सकती है (2) (9)।

2. छोटे बच्चे के मूत्र से मल की तरह गंध क्यों आती है?

मूत्र में मल जैसी गंध आने का कारण फिस्टुला हो सकता है। यह आंतों और मूत्रमार्ग के बीच बनने वाला असामान्य रास्ता बनने की समस्या है। इसके होने पर आंतों से बैक्टीरिया मूत्राशय में चले जाते हैं, जिस वजह से मूत्र से मल की तरह गंध आ सकती है (14)।

अगर चाहते हैं कि शिशु के मूत्र की गंध सामान्य रहे, तो इसके लिए उसके आहार में पौष्टिक तरल पदार्थ की उचित मात्रा बनाए रखें (2)। फिर भी अगर शिशु के पेशाब से गंध आती है, तो सबसे पहले उसके गंध के प्रकार की पहचान करें। इससे इसके पीछे के कारणों को समझने में आसानी होगी। साथ ही शिशु के मूत्र में तेज गंध के अलावा शिशु भी किसी तरह के अन्य लक्षण नजर आते हैं, तो बिना देरी किए बाल रोग विशेषज्ञ से बात करें।

References:

MomJunction's articles are written after analyzing the research works of expert authors and institutions. Our references consist of resources established by authorities in their respective fields. You can learn more about the authenticity of the information we present in our editorial policy.
  1. Parental reporting of smelly urine and urinary tract infection
    https://adc.bmj.com/content/88/3/250
  2. Urine odor
    https://medlineplus.gov/ency/article/007298.htm
  3. Foul Smelling Urine in a 7-year-old Boy Caused by Aerococcus urinae
    https://journals.lww.com/pidj/fulltext/2012/12000/foul_smelling_urine_in_a_7_year_old_boy_caused_by.30.aspx
  4. Dubowitz syndrome: common findings and peculiar urine odor
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3805180/
  5. Fish Malodour syndrome in a child
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4401951/
  6. Metabolic syndrome in children and adolescents
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5682379/
  7. Maple syrup urine disease
    https://medlineplus.gov/genetics/condition/maple-syrup-urine-disease/
  8. A nose for trouble
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3505402/
  9. Cystitis
    https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/cystitis
  10. Dehydration
    https://medlineplus.gov/dehydration.html
  11. Urine Odor
    https://www.sciencedirect.com/topics/nursing-and-health-professions/urine-odor
  12. Teething symptoms: cross sectional survey of five groups of child health professionals
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC128949/
  13. Breast feeding and oral rehydration at home during diarrhoea to prevent dehydration
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/1520006/
  14. Living with constant leaking of urine and odour: thematic analysis of socio-cultural experiences of women affected by obstetric fistula in rural Tanzania
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4658753/
The following two tabs change content below.