बच्चों को दांत ब्रश करना कैसे सिखाएं? | Baccho Ko Tooth Brush Karna Kaise Sikhaye

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

बच्चे जैसे-जैसे बड़े होते हैं, माता-पिता को उनके देखभाल की चिंता होने लगती है। उन्हीं चिंताओं में से एक उन्हें ब्रश करना है। अब इस बात से तो सभी माता-पिता परिचित हैं कि छोटे बच्चे को ब्रश कराना मुश्किल काम होता है। साथ ही उनके लिए सही ब्रश और टूथपेस्ट चुनना भी किसी चुनौती से कम नहीं है। ऐसे में अब आपको ब्रश करने को लेकर किसी तरह की चिंता करने की जरूरत नहीं होती, क्योंकि हम मॉमजंक्शन के इस लेख में बच्चों को ब्रश कराने की जानकारी लेकर आए हैं। इस लेख में हम बच्चों को ब्रश करने की सही उम्र और तरीके के बारे में बताएंगे।

लेख के पहले भाग में हम बच्चों को किस उम्र में ब्रश करना शुरू कर देना चाहिए, यह बता रहे हैं।

किस उम्र में आपको अपने बच्चे के दांतों को ब्रश करना शुरू कर देना चाहिए?

माता-पिता को शिशु का पहला दांत आने के साथ ही ब्रश कराना शुरू कर देना चाहिए। जब शिशु 6 से 12 महीने का हो, तब कोमल टूथब्रश या उंगली से बच्चे की दांतों की सफाई करना शुरू कर सकते हैं, लेकिन इस दौरान किसी तरह के टूथपेस्ट का इस्तेमाल न करें (1)। वहीं, 1 से 3 साल तक की उम्र के बच्चों को फ्लोराइड फ्री टूथपेस्ट के साथ ब्रश करना चाहिए। फिर जब बच्चा 3 साल से अधिक की उम्र का हो जाए, तो उन्हें कम मात्रा वाले फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट से ब्रश कराया जा सकता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि इस उम्र तक बच्चे थूकना सीख जाते हैं। अगर वह ब्रश करते समय थूकना नहीं सीखता है, तो वह टूथपेस्ट निगल सकता है और यह बच्चों के लिए अच्छा नहीं होता है (2)

अब आगे बच्चे के टूथ ब्रश का चयन कैसे करें, इस बारे में बताएंगे।

बच्चे के टूथब्रश का चयन कैसे करें?

बच्चे का मुंह कोमल होता है, इसलिए दांतों की सफाई करने के लिए ब्रश का चयन उसके मुंह और दांतों के अनुकूल होना चाहिए। ऐसे में ब्रश लेते समय इन बातों का ध्यान जरूर रखें।

  • ब्रश के ब्रिसल्स अधिक कोमल होनी चाहिए।
  • ब्रश के गर्दन वाले हिस्से में अधिक लचीलापन होना चाहिए।
  • ब्रश के हैंडल वाला भाग नरम और ग्रिप वाला होना चाहिए।
  • यह जरूर चेक करें कि ब्रश को बनाने में किसी तरह के नुकसानदायक केमिकल का उपयोग न किया गया हो।

इस लेख के अगले हिस्से में हम जानेंगे कि बच्चों के लिए टूथपेस्ट चुनते समय क्या-क्या ध्यान में रखें।

बच्चे का टूथपेस्ट कैसे चुनें?

किसी भी बच्चे के लिए टूथपेस्ट खरीदते समय ध्यान देने वाली बातें कुछ इस प्रकार से हैं।

  • सबसे पहले टूथपेस्ट की एक्सपायरी डेट चेक कर लें।
  • फिर जांच करें कि टूथपेस्ट प्राकृतिक तत्वों से बना हो।
  • बच्चों के टूथपेस्ट में फ्लोराइड की मात्रा अधिक न हो। बेहतर यही होगा कि बच्चों के टूथपेस्ट फ्लोराइड से मुक्त हों। दरअसल, कई बार फ्लोराइड की अधिक मात्रा बच्चों में टॉक्सिन (विषाक्तता) का कारण बन सकती है (3)
  • बच्चों के टूथपेस्ट में सोडियम लॉरेल सल्फेट (एसएलएस) नामक केमिकल का उपयोग नहीं होना चाहिए, क्योंकि कई बार इस केमिकल से बच्चों को मुंह में छाले की समस्या हो सकती है (4)
  • बच्चों के लिए ऐसे टूथपेस्ट का चयन करें, जो उनके मुंह में मौजूद गंदगी व बैक्टीरिया को पूरी तरह से खत्म कर सके।
  • टूथपेस्ट मसूड़ों पर सौम्य होना चाहिए।
  • टूथपेस्ट का स्वाद अच्छा होनी चाहिए, जो बच्चों को आसानी से पसंद आ जाए।

इस लेख में आगे हम बच्चों को ब्रश कराने का तरीके बताएंगे।

बच्चों को ब्रश करने के तरीके सिखाने के टिप्स | बच्चों को ब्रश करना कैसे सिखाएं?

छोटे बच्चों को ब्रश कराना आसान काम नहीं होता है। ऐसे में हम नीचे उन्हें ब्रश करने के आसान तरीके बता रहे हैं :

  • शुरुआत में बच्चों को अपने हाथ से ब्रश करवाना चाहिए। साथ ही उन्हें बताएं कि पेस्ट को निगलना नहीं है, बल्कि थूकना है।
  • इसके बाद अलगे स्टेप में आप जब भी ब्रश करें, तो उस समय बच्चे को भी साथ में खड़ा करें।
  • बच्चों वाले टूथब्रश में उनका टूथपेस्ट लगाकर उन्हें दें।
  • फिर बच्चों को उनकी नकल करने को कहें। साथ ही उन्हें बताए कि पेस्ट के झाग को थूकना है न कि निगलना है, क्योंकि कई बार बच्चे पेस्ट के झाग को निगल लेते हैं।
  • जब आप ब्रश करके थूकें, तो उन्हें भी थूकने को कहें।
  • बच्चों को बताएं कि सभी दांतों को अच्छे से साफ करें।
  • फिर उन्हें पानी से कुल्ला कर मुंह को अच्छे से धोने को कहें।
  • बच्चों को कुछ दिन ऐसा सिखाने पर उन्हें समझ आ जाएगा कि ब्रश करना जरूरी होता है।

आइए, अब जानते हैं कि अगर बच्चे नियमित रूप से ब्रश नहीं करते हैं, तो क्या हो सकता है।

अगर बच्चे नियमित रूप से ब्रश न करें, तो इसके क्या नुकसान हो सकते हैं?

बच्चों को नियमित रूप से ब्रश न कराया जाए, तो कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, जो इस प्रकार है (2):

  • मुंह से दुर्गंध आ सकती है।
  • दांतों में सड़न उत्पन्न हो सकती है।
  • मुंह में छाले हो सकते हैं।
  • नियमित रूप से ब्रश नहीं करने पर कैविटी की समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  • दांतों का टूटना और पीला पड़ना शुरू हो सकता है।

अब यह बात तो पूरी तरह स्पष्ट हो गई होगी कि बच्चों को ब्रश क्यों और किस उम्र में कराना चाहिए। साथ ही इस लेख में हमने बच्चों के लिए टूथब्रश और पेस्ट के चयन की जानकारी दी है, जो बच्चों के लिए ब्रश और पेस्ट खरीदने में सहायक साबित होगी। इसके अलावा, बच्चों को ब्रश करना कैसे सिखाएं, इस बारे में भी हमने इस लेख में बताया है। हम उम्मीद करते हैं कि हमारे इस लेख में दिए गई जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी। बच्चों के लिए बेस्ट टूथब्रश व पेस्ट कौन-कौन से हैं, उसकी जानकारी के लिए आप हमारे प्रोडक्ट से जुड़े आर्टिकल पढ़ सकते हैं।

संदर्भ (Reference):

Was this information helpful?