बच्चों में एग्जाम स्ट्रेस: कारण, लक्षण व टिप्स | Bachon Ke Exam Stress Ko Dur Karne Ke Tips

Bachon Ke Exam Stress Ko Dur Karne Ke Tips

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

बच्चे हंसते-खेलते ही अच्छे लगते हैं, लेकिन जैसे-जैसे परीक्षा नजदीक आने लगती है, उनके चेहरे पर तनाव दिखने लगता है। यूं तो परीक्षा का तनाव होना आम है, लेकिन इसे खुदपर हावी होने नहीं देना चाहिए (1)। किस तरह से एग्जाम स्ट्रेस को कम किया जा सकता है, यह समझने के लिए इस लेख को पढ़ें। यहां परीक्षा तनाव को कम करने के उपाय बताए गए हैं। साथ ही एग्जाम स्ट्रेस के कारणों पर भी चर्चा की गई है।

आइए, सबसे पहले जानते हैं कि बच्चों को परीक्षा के समय तनाव क्यों होता है।

बच्चों को परीक्षा में तनाव क्यों होता है?

परीक्षा के दिन नजदीक आते ही बच्चों को माइल्ड और हाई, ये दो प्रकार के तनाव हो सकते है। रिसर्च के अनुसार, कम तनाव से बच्चा परीक्षा के लिए अच्छे से तैयारी करने के लिए प्रेरित होता है। वहीं, ज्यादा तनाव होने पर चिंता और अवसाद की समस्या हो सकती है। इससे परीक्षा की तैयारी ठीक तरह से नहीं हो पाती (2)। बच्चों को परीक्षा का तनाव क्यों होता है, यह आगे समझिए (3) (4)।

  1. खुद से अपेक्षा – बच्चे को खुद से ज्यादा अपेक्षा होने लगे, तो परीक्षा का तनाव हो सकता है। वो हर विषय में अच्छा प्रदर्शन करने की चाह में अपना ज्यादा-से-ज्यादा समय पढ़ाई में देते हैं। इसके चलते ठीक से सोना, खाना और शारीरिक गतिविधि करना कम हो जाता है। ऐसे में तनाव की स्थिति पैदा हो सकती है।
  1. पढ़ाई का भार – साल भर की पढ़ाई के बाद परीक्षा के समय पूरी किताब को फिर से पढ़ना होता है। इस समय बच्चे के ऊपर हर एक चेप्टर कवर करने का भार होता है, क्योंकि वो सोचते हैं कि अगर कोई भी टॉपिक छूट गया, तो उससे आने वाले सवाल का वो जवाब नहीं दे पाएंगे। इसी के चलते तनाव बढ़ता जाता है।
  1. माता-पिता की अपेक्षा – माता-पिता को अपने बच्चों से परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करने की अपेक्षा होती है। इसी अपेक्षा को पूरा न कर पाने का डर बच्चों में तनाव पैदा कर सकता है।
  1. ठीक से तैयारी न कर पाना – कुछ चेप्टर ऐसे होते हैं, जिन्हें कितना भी पढ़ लिया जाए, वो सही से समझ नहीं आता। इसके चलते भी बच्चों को तनाव हो सकता है। वहीं, कई बार किसी अन्य कारण के चलते बच्चों से कुछ जरूरी टॉपिक छूट जाते हैं। ऐसे में आधी-अधूरी परीक्षा की तैयारी उन्हें एग्जाम स्ट्रेस दे सकती है।
  1. कम मार्क्स आने का डर – परीक्षा देने से पहले ही कुछ बच्चों के मन में यह डर उत्पन्न हो जाता है कि परीक्षा में उन्हें अच्छे मार्क्स नहीं मिलेंगे। यह डर धीरे-धीरे तनाव में बदल सकता है।
  1. एक्सट्रा ट्यूशन – परीक्षा की तैयारी के लिए लगाए गए एक्सट्रा ट्यूशन से भी छात्रों का तनाव स्तर बढ़ सकता है। दरअसल, कुछ बच्चे विज्ञान और गणित जैसे विषय के लिए ट्यूशन जाते हैं। ट्यूशन जाने से इन विषयों की तैयारी तो हो जाती है, लेकिन इससे उनके दिमाग में डर व दबाव भी पड़ने लगता है। आगे चलकर यही दबाव और डर तनाव पैदा कर सकते हैं।
  1. दूसरे छात्रों से कॉम्पिटिशन – स्कूल में बच्चे एक दूसरे से कॉम्पिटिशन करते हैं। एग्जाम के दौरान यह परीक्षा में मिलने वाले मार्क्स का कॉम्पिटिशन बन जाता है। इस दौरान बच्चे खुद को दूसरों से बेहतर साबित करने के लिए अच्छे मार्क्स लाने की सोचते हैं। इसी सोच से एग्जाम स्ट्रेस पैदा हो सकता है।
  1. फेल होने और शर्मिंदगी का डर – कुछ बच्चों को परीक्षा के दौरान फेल होने के डर से, तो कुछ को कम मार्क्स लाने के बाद होने वाली शर्मिंदगी के डर से तनाव हो सकता है। दरअसल, परीक्षा होने से पहले ही कुछ बच्चों को फेल होने का डर सताने लगता है। साथ ही कुछ बच्चों को लगता है कि उनके कम मार्क्स आए, तो स्कूल के बच्चे और आस-पड़ोस के लोग उसका मजाक उड़ाएंगे। इस शर्मिंदगी के डर से भी एग्जाम स्ट्रेस होने लगता है।

लेख के अगले भाग में हम बच्चों में एग्जाम स्ट्रेस के लक्षण की जानकारी दे रहे हैं।

बच्चों में एग्जाम स्ट्रेस के लक्षण

अगर किसी बच्चे को परीक्षा के दौरान तनाव होता है, तो उनमें कुछ लक्षण नजर आ सकते हैं। इन लक्षणों को पेरेंट्स ध्यान में रखकर तनाव कम करने के तरीके अपना सकते हैं। ये लक्षण कुछ इस तरह के हो सकते हैं (5)।

आगे पढ़िए कि परीक्षा के समय होने वाले बच्चों के तनाव को दूर कैसे किया जा सकता है।

परीक्षा के दौरान बच्चे के तनाव को कैसे दूर करें ? | Bache ke exam stress ko kaise dur karein

बच्चों के तनाव को दूर करने के लिए माता-पिता को कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है। आगे इसी पर चर्चा की जा रही है। चलिए, पढ़ते एग्जाम सीजन में बच्चे का स्ट्रेस मैनेज करने के कुछ टिप्स।

1. पर्याप्त नींद

परीक्षा के दौरान बच्चे के तनाव को कम करने का एक अच्छा उपाय पर्याप्त नींद लेना है। एक वैज्ञानिक अध्ययन की मानें, तो एग्जाम के दिनों में तनाव के कारण नींद की गुणवत्ता खराब हो सकती है, जिससे तनाव हो सकता है (6)। वहीं, पर्याप्त नींद लेने पर तनाव का स्तर कम हो सकता है (7)। ऐसे में परीक्षा के समय पर्याप्त नींद लेने से तनाव से बचा जा सकता है।

2. खेलने का समय दें

तनाव को कम करने का सबसे अच्छा तरीका शारीरिक गतिविधि करना है (8)। इस समय बच्चे को पढ़ाई के साथ ही कुछ देर बाहर खेलने जाने भी दें। इससे सही तरह से शारीरिक गतिविधि होगी और मूड बेहतर हो सकता है, जो परीक्षा के तनाव को कम करने में मदद कर सकता है।

3. पढ़ाई करने के लिए दबाव न डालें

परीक्षा के दिनों में बच्चों का तनाव में आने का एक कारण उनपर पढ़ाई करने का दबाव डालना भी है। इससे बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंच सकता है और वो परीक्षा में अच्छी तरह लिखने में असमर्थ हो सकते हैं (9)। ऐसे में एग्जाम के समय तनाव को कम करना है, तो बच्चों पर पढ़ाई करने के लिए ज्यादा दबाव न डालें।

4. पढ़ाई के समय बीच में ब्रेक लेने दें

किसी भी काम को लगातार लंबे समय तक करने पर व्यक्ति को तनाव हो सकता है। उसी तरह बच्चे को लगातार पढ़ाई करते रहने के लिए कहेंगे, तो इससे उनके तनाव का स्तर बढ़ सकता है। परीक्षा के समय तनाव न हो, इसलिए उन्हें कुछ मिनट का ब्रेक लेकर पढ़ने की सलाह दें (10)।

5. स्वस्थ आहार दें

बच्चों के तनाव को कम करने में हेल्दी फूड भी मदद कर सकते हैं। दरअसल, स्वस्थ आहार शरीर और दिमाग को ऊर्जावान बनाए रखने में मदद करते हैं। इससे तनाव की समस्या भी कम हो सकती है (8)। ऐसे में परीक्षा के समय बच्चों को स्वस्थ आहार ही दें और जंक फूड से दूर रखें।

6. उन्हें खुल के बात करने को कहें

परीक्षा के समय बच्चे का माता-पिता से खुलकर बात न करना भी उनके तनाव को बढ़ाने का कारण बन सकता है। ऐसे में बच्चों के तनाव को कम करने के लिए माता-पिता को बच्चे से खुलकर बात करनी चाहिए। खुद से बच्चे के पास बैठकर उससे बातें करना शुरू कर सकते हैं। साथ ही अगर बच्चा बीते एग्जाम में अच्छे से नहीं लिख पाया हो, तो उसे चिंता न करने की सलाह देते हुए आने वाली परीक्षा पर ध्यान देने के लिए प्रेरित करें।

7. पढ़ाई में मदद करें

एग्जाम के दिनों में बच्चों के तनाव को कम करने के लिए पढ़ाई में उनकी मदद कर सकते हैं। अगर किसी विषय में आप अच्छे हैं, तो बच्चों को उस विषय से जुड़े कुछ कठिन टॉपिक समझा सकते हैं। साथ ही पेपर में किस तरह से लिखना ज्यादा अच्छा होगा, वो भी बताएं।

8. परीक्षा के दिन पूरी तैयारी के साथ भेजें

अगर परीक्षा के दिन बच्चा हॉल टिकेट, पेन या कुछ अन्य जरूरी सामग्री भूल जाता है, तो उसे तनाव हो जाता है। इसी वजह से बच्चे को परीक्षा के दिन स्कूल भेजते समय सभी जरूरी सामग्री देकर भेजें। साथ ही उसे अतिरिक्त पेन रखने की भी सलाह दें और घर से निकलने से पहले सारी चीजों को दोबारा चेक कर लें कि बच्चे ने सबकुछ सही से रखा है या नहीं।

9. सकारात्मक बातें करें

सकारात्मक बातें करने से बच्चे को परीक्षा के दौरान प्रेरणा मिल सकती है। इस समय उन्हें नकारात्मक बातें करने वालों से दूर रखना चाहिए। इससे वे डिमोटीवेट हो सकते हैं। साथ ही उनपर अपनी किसी भी तरह की इच्छाएं और अपेक्षाएं न थोपें और न ही कहें कि तुम 90 प्रतिशत मार्क्स लेकर आना या ऐसा कुछ भी। इससे बच्चे के दिमाग में प्रेशर पड़ने लगता है।

10. पढ़ाई के समय मोबाइल से दूर रखें

परीक्षा हो या सामान्य दिन अगर कोई मोबाइल का इस्तेमाल करता है, तो उसका अधिक समय उसी में बीत जाता है। ऐसे में बच्चे को परीक्षा करीब आते ही मोबाइल से दूर रहने की सलाह दें। हां, अगर वो ऑनलाइन पढ़ाई कर रहा है, तो उसे पढ़ने के समय तक ही मोबाइल दें। उसमें गेम खेलने और वीडियो देखने की सख्त मनाही करें।

11. घर का माहौल शांत रखें

परीक्षा के दौरान अगर किसी के घर में शोर-शराबा या किसी तरह के लड़ाई-झगड़े होते हैं, तो इससे पढ़ाई में मन नहीं लगता है। साथ ही घर वालों के झगड़े के कारण बच्चे को ज्यादा तनाव हो सकता है, जो परीक्षा के तनाव को भी बढ़ाने का काम करता है। ऐसे में परीक्षा के समय हमेशा घर के माहौल को शांत रखें।

परीक्षा में अच्छे नंबरों से पास होना हर कोई चाहता है। कई बार कुछ बच्चे पूरी मेहनात करने के बाद भी अपेक्षा के अनुसार नंबर नहीं ला पाते। इसका एक कारण परीक्षा का तनाव भी हो सकता है। ऐसे में माता-पिता और बच्चों को परीक्षा का तनाव कम करने की दिशा में कदम उठाना चाहिए, जिससे जुड़े टिप्स आप ऊपर लेख में पढ़ सकते हैं।

संदर्भ (Sources)

  1. Pre-examination stress in second year medical students in a government college
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/21702291/
  2. Effect of examination stress on mood performance and cortisol levels in medical students
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/23029964/
  3. Examination Stress Stress Management Strategies and Counseling Needs of College Level Students in Sri Lanka
    http://jpbsnet.com/journals/jpbs/Vol_8_No_2_December_2020/3.pdf
  4. Factors Affecting On Examination Stress among Undergraduates: An Investigation from Eastern University
    https://irejournals.com/formatedpaper/1700063.pdf
  5. Investigation of Stress Symptoms among Primary School Children
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4166684/
  6. The relationship between exam anxiety levels and sleep quality of senior high school students
    https://jag.journalagent.com/phd/pdfs/PHD-05025-RESEARCH_ARTICLE-KOSE[A].pdf
  7. The relationship between sleep quality stress and academic performance among medical students
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6984036/
  8. Learn to manage stress
    https://medlineplus.gov/ency/article/001942.htm
  9. Examining perceptions of academic stress and its sources among university students: The Perception of Academic Stress Scale
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5193280/
  10. Comparison of rest‐break interventions during a mentally demanding task
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6585675/
The following two tabs change content below.