100+ दोस्ती में धोखा शायरी, स्टेटस व कोट्स | Dosti Me Dhoka Shayari, Status And Quotes In Hindi

Dosti Me Dhoka Shayari, Status And Quotes In Hindi

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

जिंदगी में अच्छे-बुरे वक्त का आना-जाना लगा रहता है। अच्छे समय में तो सभी साथ देते हैं, लेकिन बुरे वक्त में दोस्त की पहचान हो जाती है। अक्सर बुरे समय में सबसे करीबी और साथ निभाने की कसमें खाने वाले दोस्त दगा दे जाते हैं। ऐसे में मन को ठेस पहुंचना और दुख होना लाजमी है। अगर आपके साथ भी कुछ ऐसा हुआ है, तो मॉमजंक्शन की इन शायरियों से आप अपनी बात उस दोस्त तक पहुंचा सकते हैं। ऐसा करने से मन का दर्द कुछ कम भी हो जाएगा और दोस्त को उसकी धोखेबाजी का एहसास भी हो सकता है।

सबसे पहले हम लेकर आए हैं मतलबी दोस्तों के लिए स्टेटस।

मतलबी व धोखेबाज दोस्त स्टेटस | Matlabi And   Dhokebaaz Dost Status In Hindi

कुछ दोस्त ऐसे भी होते हैं, जो अपना काम निकल जाने पर सामने वाले को पूछते तक नहीं हैं। उनकी जब भी जरूरत पड़ती है, वो बहाने बनाने लगते हैं। और तो और, दोस्त कई बार धोखेबाजी से भी नहीं चूकते हैं। ऐसे दोस्ती के रिश्ते के लिए स्टेटस व शायरियां पढ़ें ।

  1. दोस्त ही जब शामिल हों गैरों की चाल में,
    तब फंस जाता है शेर भी, बकरी के जाल में।
  1. मेरी जुबां पर हर वक्त सिर्फ दोस्त का ही नाम आया,
    लेकिन, मेरे बुरे वक्त में उस दोस्त ने साथ नहीं निभाया।
  1. इस दिल के हाथों होकर मजबूर मौका दे देते हैं,
    दिल में रहने वाले दोस्त तभी तो धोखा देते हैं।
  1. मुझको बड़ा अभिमान था मेरे उस जिगरी यार पर,
    धोखा दिया उसने विश्वास था जिस गद्दार पर।
  1. तोड़ दी दोस्ती उसने न जाने उसे दुख किस बात से था,
    नजदीक था सबसे वो मेरे और वाकिफ हर जज्बात से था।
  1. दोस्ती का मेरी अच्छा सिला दिया उसने,
    मुसीबत में मेरी मुझे भुला दिया उसने।
  1. इस जहां में कोई नहीं बचा ऐतबार के काबिल,
    दोस्त धोखा दे जाते हैं अब तो झूठे प्यार के खातिर।
  1. विश्वास टूट जाएगा दोस्ती पर ज्यादा ऐतबार न करना,
    मुश्किल हो जाएगा जीना, दोस्तों से इतना प्यार न करना।
  1. ऐतबार करने का दोस्तों पर दौर बीत गया,
    बदलने का हर दोस्त अब हुनर सीख लिया।
  1. लोगों के दिलों में अब दोस्ती के फूल नहीं खिलते हैं,
    दिलों में नफरत लिए दोस्त भी बढ़ी सादगी से मिलते हैं।
  1. घाव मेरे दिल के जब भर जाएंगे,
    आंसू मेरे बनकर मोती बिखर जाएंगे,
    मत पूछना दुनिया वालों धोखा दिया किसने,
    चेहरे कुछ दोस्तों के वरना उतर जाएंगे।
  1. धो लेते हैं घाव को दिल के मैखाने के जाम से,
    नफरत हो गई है मुझे अब दोस्ती के नाम से।
  1. बात को उनके दिल की हम समझ लेते हैं,
    लेकिन हर बार वो हमें धोखा देते हैं,
    क्या करें मजबूर हैं हम भी इस दिल से,
    जानकर हर बात उन्हें बार बार मौका देते हैं।
  1. दोस्ती ने तेरी दिया सुकून इतना,
    बाद में तेरे बिन कोई अच्छा न लगा,
    धोखा भी दिया तूने इस अदा से,
    कि कोई भी तेरे बाद बेवफा न लगा।
  1. खुद पर से लोग विश्वास खो देते हैं,
    दोस्त भी अब तो मतलबी हो जाते हैं।
  1. मेरे कुछ दोस्त बुरे वक्त में मेरी कमियां गिना रहे हैं,
    होकर मतलबी वो अब दोस्ती के मायने बता रहे हैं।
  1. धोखेबाज दोस्तों की बस एक ही कहानी है,
    जरूरत पड़ने पर धोखा देना उनकी निशानी है।
  1. लोगों के सामने अच्छे और दिल में खराब हो गए हैं,
    मतलबी दोस्त जिंदगी में बेहिसाब हो गए हैं।
  1. दिल से मतलबी दोस्त जब उतर जाते हैं,
    टूटकर कई सपने तब बिखर जाते है।
  1. बुरा लगे लेकिन अब मैं सच ही कहता हूं,
    मतलबी दोस्तों की बस्ती से अब दूर ही रहता हूं।
  1. अच्छे दोस्त भी अब आंखों में खटकने लगे हैं,
    मतलबी लोग जब से दोस्त बनने लगे हैं।
  1. लोग अब वक्त के साथ ही बदल जाते हैं,
    दोस्त भी अब सच्चे मतलबी हो जाते हैं।
  1. कुछ दोस्तों की फितरत और मजबूरी होती है,
    धोखेबाज दोस्तों से दूरी बहुत जरूरी होती है।
  2. मतलबी दोस्तों की होती है मीठी बात,
    संभाल कर रखने चाहिए अपने जज्बात।
  1. गले लगाया जिसने हमेशा मुस्कुराकर,
    वक्त पर धोखा दिया उसने दोस्त बनाकर।
  1. सोचता था कि मेरा दोस्त कभी साथ नहीं छोड़ेगा,
    पता नहीं था कि जरूरत के वक्त ही वो विश्वास तोड़ेगा।
  1. जब-जब जिंदगी में बुरा वक्त आता है,
    मतलबी दोस्तों के चेहरे से नकाब उठ जाता है।
  1. इस दुनिया में यह दोस्ती इक दिखावा है,
    जरूरत के समय मिलेगा धोखा, ये दावा है।
  1. खड़े हैं दुनिया के मतलबी दोस्त हाथों में पत्थर लेकर,
    बोलो मैं कहां जाऊं अपनी इस दोस्ती का मुकद्दर लेकर।
  2. भरोसा कैसे करू दोस्तों के एतबार पर,
    अपने दोस्त धोखा देते हैं, जिंदगी की मार पर।
  1. जिंदगी को जीने का ऐसा कुछ अंदाज करो,
    मतलबी दोस्तों को हरदम नजरअंदाज करो।
  1. पूछा जब किसी ने कि दोस्ती चलती कब तक है,
    कह दिया मैंने भी कि दोस्त की जरूरत जब तक है।
  1. इस दुनिया में स्वार्थ के दोस्त बहुत मिल जाएंगे,
    मतलब पूरा होते ही सब बीच राह में छोड़ जाएंगे।
  1. दोस्ती के बीच जब मतलब आता है,
    तब धोखा देने का मकसद आ जाता है।
  1. दौर निकल गया वो जब मिल लेते थे बेमतलब ,
    आते हैं दोस्त भी तब घर जब होता है मतलब।

मतलबी दोस्तों के लिए स्टेटस और शायरी के बाद आगे पढ़िए धोखेबाज दोस्तों के लिए शायरियां।

दोस्ती में धोखा शायरी | Dosti Me Dhoka Shayari

कुछ दोस्त पीठ के पीछे इतना कुछ कर जाते हैं कि लोगों का दोस्ती शब्द से ही भरोसा उठ जाता है। आगे ऐसे ही धोखे पर हम कुछ शायरियां लेकर आए हैं।

  1. दिखा करके, छुपा करके, हर पैंतरा आजमा करके,
    गद्दारी कि मेरे जिगरी दोस्त ने अपना मुझे बना करके।
  1. खेल है नसीब का ये सारा का सारा,
    क्या करेगा ऐसे में तकदीर का मारा,
    उसकी कदर की मैंने जिस कदर,
    बेकदर हुआ मैं बेचारा कुछ इस कदर।
  1. मेरी यारी का अच्छा सिला दिया उसने,
    मुसीबत में मेरी मुझको ही भुला दिया उसने।
  1. किस्मत को बदलता देखा है मैंने,
    मौसम भी बदलते देखे हैं मैंने,
    दुश्मनों को देखा है दुश्मनी निभाते हुए,
    दगाबाजी करते हुए दोस्तों को भी देखा है मैंने।
  1. उठ गया दोस्ती से मेरा भरोसा उस दिन।
    साथ बैठना छोड़ दिया बेमतलब दोस्तों ने जिस दिन।
  1. खुद के अलावा किसी और से कोई आस मत रखना,
    धोखा खा चुके हैं बहुत अब दोस्ती पर विश्वास मत करना।
  1. जमाने में हर दोस्त ने अपना रंग दिखाया है,
    कैसे करते हैं दगाबाजी हमें दोस्तों ने ही सिखाया है।
  1. दगाबाज दोस्त ने तब काफी मुझे बातें सीखा दीं,
    जब उस मतलबी ने अपनी मुझे औकात दिखा दी।
  1. मेरी किस्मत उसकी किस्मत से ज्यादा क्या चल गई,
    पल भर में उनकी दोस्ती दुश्मनी में बदल गई।
  1. खूबसूरती मेरी दोस्ती की बदसूरत हो गई,
    तब-तब उन्होंने बुरी तरह से साथ छोड़ा मेरा,
    जब-जब मुझे उनकी जरूरत हो गई।
  1. मुंह के आगे जो दोस्त प्यार करते हैं,
    पीठ पीछे वो ही अक्सर वार करते हैं।
  1. खुशी और जरूरत के लिए हर शख्स यार होता है
    मुसीबत में पता चल जाता है कि कौन गद्दार होता है।
  1. मतलब निकलने के बाद मेरा दोस्त मुझे जानता ही नहीं,
    जान देता था मैं उस पर लेकिन अब वो मुझे पहचानता ही नहीं।।
  1. टूटना मेरी दोस्ती का अंजाम हो चुका है,
    धोखेबाजी दोस्ती का नाम हो चुका है।
  1. दुश्मन एक दगाबाज यार से बहुत अच्छा होता है,
    इरादा तो कम से कम उसका दुश्मनी में सच्चा होता है।
  1. धोखा खाना दोस्ती में अब तो आम हो चुका है,
    दगाबाजी अब दोस्ती का पहला नाम हो चुका है।
  1. जब वक्त अच्छा था तब दुश्मन सभी दोस्त बन गए,
    वक्त जब आया बुरा तो दगाबाज दोस्त दुश्मन बन गए।
  1. जरूरत पड़ने पर दोस्ती और प्यार के टूट गए धागे,
    हो गई छोटी औकात हमारी दोस्तों के व्यापार के आगे।
  1. सबसे प्यारी जिंदगी ने आज मुझको चौंका दिया,
    माना था जिसे अपना दोस्त उसने ही मुझे धोखा दिया।
  1. मेरा इस दुनिया में एक ही यार था,
    मुसीबत में पता चला कि वो ही गद्दार था।
  1. जिंदगी में मेरी दोस्त जो वफादार था।
    दूसरों से पता चला कि यार वो दगाबाज था।
  1. न जाने कैसे ऐसा वो काम कर जाते हैं,
    दोस्ती जैसे पवित्र रिश्ते को बदनाम कर जाते हैं।
  1. झूठ बोलकर भावनाओं से खिलवाड़ करते हैं,
    जान से प्यारे दोस्त धोखा देकर कमाल करते हैं।
  1. धोखा दिया है तुमने तुम भी एक दिन पछताओगे,
    ठोकर खाकर इस जमाने की तुम भी आंसू बहाओगे।
  1. दोस्ती की हमने लेकिन हम फिर भी अकेले हैं,
    मतलबी इस दुनिया में बस धोखेबाजों के मेले हैं।
  2. कोई पूछो उनसे कि क्या दाेस्ती का मतलब जानते हैं,
    या बस सबको धोखा देने को ही वो दोस्ती मानते हैं।
  1. जमाने की दोस्ती देखी है और देखे हैं धोखे,
    लूट लेते हैं अपने ही दोस्त जब मिलते है मौके।
  1. मैंने जिस दोस्त के लिए दुनिया को भूला दिया,
    आज पता चला कि उसने मुझे ही भूला दिया।
  2. यारों की यारी देख ली,
    दुनिया की दुनियादारी देख ली,
    दोस्त-दोस्त कहते हैं जो मतलब पड़ने पर,
    उन दोस्तों की मक्कारी भी देख ली।
  1. थोड़ा लूटकर और थोड़ा लुटाकर लौट आया हूं,
    उम्मीद में दोस्ती की खाकर धोखा लौट आया हूं|
  1. जब धोखा मिला दोस्ती में तो उदासी छा गई,
    मैं दुखी हुआ देखकर उसके आंगन में खुशियां आ गई।
  1. कमाल था तू दोस्त और यारी भी तेरी कमाल थी,
    जो मक्कारी की तूने वो मक्कारी भी बेमिसाल थी।
  1. यार थे तुम ही मेरे, तुम ही तो मेरा प्यार थे,
    कहां पता था मुझे कि तुम ही यार गद्दार थे।
  1. पहले तुमने यारी की, फिर तुमने गद्दारी की,
    पक्की दोस्ती थी तुमसे, बस यही मेरी लाचारी थी।

धोखेबाज दोस्तों पर शायरी के बाद अब एक नजर गद्दार दोस्तों पर लिखे गए कोट्स पर डाल लीजिए।

गद्दार व धोखेबाज दोस्त कोट्स | Gaddar And Dhokebaaz Dost Quotes In Hindi

कुछ दोस्त मतलबी होते हैं और कुछ मौकापरस्त। अक्सर इस फितरत वाले दोस्त समय आने पर गद्दारी भी कर देते हैं। ऐसे ही गद्दार दोस्तों पर कोट्स आगे पढ़ें ।

  1. धोखेबाज दोस्त यह देखना पसंद करता है कि आप अच्छा कर रहे हैं, लेकिन वह यह देखना पसंद नहीं करता कि आप उससे बेहतर हैं।
  1. यदि कोई दोस्त आपके साथ हंस रहे हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि वे आपके भरोसेमंद दोस्त हैं। कई बार धोखेबाज दोस्त अच्छा होने का दिखावा भी करते हैं, इसलिए सावधान रहें।
  1. धोखेबाज दोस्तों के कारण निराश होने से बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप किसी भी दोस्त से कुछ भी उम्मीद न करें।
  1. जो दोस्त आपके साथ अधिक हंसता है, हो सकता है कि वह धोखेबाज आपकी पीठ के पीछे आपकी बुराई करता हो।
  1. आप जिस दोस्त के साथ अपनी समस्या साझा कर रहे हैं, हो सकता है कि वो दोस्त आपकी कमजोरी पर मुस्कुराता हो और दूसरों के सामने उसे उजागर करता हो – केमी नोला
  1. धोखेबाज दोस्त उस लता जैसे होते हैं, जो पेड़ों को गले लगाकर उन्हें नष्ट कर देते हैं – रिचर्ड बर्टन
  1. एक जंगली जानवर की तुलना में धोखेबाज दोस्त ज्यादा खतरनाक हो सकता है। जंगली जानवर सिर्फ शरीर को घायल करता है, लेकिन एक धोखेबाज दोस्त दिमाग को घायल करने की क्षमता रखता है – गौतम बुद्ध
  1. किसी भी धाेखेबाज दोस्त पर इतना विश्वास नहीं करना चाहिए कि भरोसा और प्यार के साथ-साथ जिंदगी भी खत्म हो जाए।
  1. ऐसे धोखेबाज दोस्तों से दूर रहना चाहिए, जो सिर्फ अपने बारे में सोचते हैं और वक्त आने पर साथ छोड़ देते हैं।
  1. उस दुश्मन से मत डरो, जो तुम पर हमला करता है। हां, उस धोखेबाज दोस्त से सतर्क रहो, जो तुम्हें गले लगाकर धोखा देता है।
  1. मतलबी दोस्तों को तब ही याद आती है जब उन्हें कोई मतलब होता है।
  1. धोखेबाज दोस्तों को पहचान कर उन्हें छोड़ देना चाहिए, नहीं तो जीवन से सुख-चैन छीन लेते हैं।
  2. दोस्ती में भी धोखा खा जाते हैं लोग, क्योंकि अब मतलब के लिए दोस्ती निभाते हैं लोग।
  1. जिंदगी में एक दोस्त ऐसा पाया है, जिसे चाहा जान से ज्यादा है और उसी दोस्त से धोखा खाया है।
  1. दुनिया की इस भीड़ में कुछ दोस्त इस कदर गरीब होते हैं कि कुछ नहीं होता देने के लिए, तो धोखा ही दे देते हैं।
  1. इस जहां में कोई नहीं है, जिसे दोस्त से धोखा नहीं मिला। ईमानदार शायद वही है, जिसे दोस्त को धोखा देने का मौका नहीं मिला।
  1. ये हमने आजमा के देखा है जिंदगी में कि अपने दोस्त गले लगा के धोखा देते हैं।
  1. डगमगाते हैं कदम लेकिन हम संभल जाते हैं, धोखा देते हैं वो दोस्त जिसे दिल से लगाते हैं।
  1. दोस्ती में जब धोखा मिलता है, तो वक्त और हालात दोनों ही बदल जाते हैं।
  1. दोस्ती से पहले शख्स वो मासूम था बड़ा, दिल में बसते ही पता नहीं क्यों धोखेबाज हो गया।
  1. दोस्ती में हमने अक्सर यह सिला भी देखा, वफा की हमने जिस दोस्त से उसे ही बेवफा देखा।
  1. मतलब जब दोस्त के पूरे सभी हो गए, तब से ही हम उसके लिए अजनबी हो गए।
  1. झूठी थी दोस्ती तेरी और झूठा था तेरा साथ, खत्म हुई दोस्ती और दोस्ती के जज्बात।
  1. रहना नहीं ही था साथ तुम्हें तो नाता हमसे क्यों जोड़ा, दोस्ती में हमे देकर धोखा तुमने मेरा विश्वास क्यों तोड़ा?.
  1. अक्सर धोखेबाज दोस्त सामने वाली दोस्ती पर भी शक करता है।
  1. कैसे मान लूं तेरी गलती कि मुझे तूने धोखा दिया, गलती तो थी मेरी जो हर बार तुझे मैंने मौका दिया।
  1. औरों से नसीहत मिल सकती है, लेकिन मतलबी दोस्तों से केवल धोखा ही मिलता है।
  1. एक सपना ही है कि इस दुनिया में कोई साथ निभाने वाला दोस्त मिल जाए, क्योंकि हर तरफ धोखेबाज दोस्त ही मिलते हैं।
  1. मैंने हर बार दोस्तों को खुद से मौका दिया है और मतलबी दोस्तों ने मेरा साथ नहीं, हर बार बस धोखा दिया है।
  1. दोस्ती के नाम को गिरने नहीं दिया हमने। दोस्ती में बहुत खाए धोखे, लेकिन धोखा नहीं दिया हमने।
  1. दुश्मन के दगा करने पर दुख नहीं होता, लेकिन दोस्त के दगा करने पर जिंदगी वीरान सी लगती है।
  1. आजकल अच्छा दोस्त मिलना बहुत मुश्किल है, क्योंकि हर तरफ ही धोखेबाज लोग रहने लगे हैं।
  1. असली दोस्ती और मतलबी दोस्त की पहचान बुरे वक्त और हालात में हो जाती है।
  1. दोस्त से धोखा खाकर दोस्ती निभाना बड़ा मुश्किल हो जाता है।
  1. जब मतलबी दोस्त से दोस्ती की जाए, तो क्यों न इस मामले में दुश्मनों की भी राय ली जाए।

दोस्ती में दगाबाजी किसी को भी पसंद नहीं, लेकिन दोस्त वक्त के साथ मतलबी और दगाबाज हो जाएं, तो दिल और विश्वास दोनों को ठेस पहुंचती है। ऐसे में धोखेबाज दोस्ती पर शायरी पढ़ना और दगाबाज दोस्त को भेजने से मन को थोड़ा हल्का महसूस हो सकता है। इसी वजह से हमने दोस्ती में दगाबाजी और धोखेबाजी पर 100 से भी ज्यादा शायरियों और स्टेटस खास आपके लिए लिखे हैं। ध्यान दें कि कुछ दोस्तों के दगाबाज होने से जिंदगी खत्म नहीं हो जाती है। हमें आगे बढ़कर नई शुरूआत करनी चाहिए, क्योंकि दुनिया बहुत खूबसूरत है। जहां एक चीज खत्म होती है, वही से नई शुरूआत होती है। खुश और हंसते रहें!