राजा और पुजारी की कहानी | The King And Priest Story In Hindi

December 29, 2021 द्वारा लिखित

The King And Priest Story In Hindi

बहुत समय पहले जावा नाम का साम्राज्य हुआ करता था। वहां सिदी मान्तरा नामक एक ब्राह्मण रहता था। वह बहुत ज्ञानी था। राजा भी उसके ज्ञान से काफी प्रसन्न रहते थे। इसलिए उन्होंने ब्राह्मण को सारी सुख सुविधाएं दे रखी थी। कुछ समय बाद सिदी मान्तरा ने एक खूबसूरत कन्या के साथ शादी कर ली। विवाह के कुछ समय बाद उन्हें एक बेटा हुआ, जिसका नाम मानिक रखा गया।

सिदी मान्तरा का बेटा मानिक जैसे-जैसे बड़ा होता गया उसकी भी बुद्धि अपने पिता के जैसे बढ़ती चली गयी। मानिक के ज्ञान से राजा भी काफी प्रसन्न रहते थे। धीरे-धीरे कर मानिक को पूरे राज्य में अपने पिता जैसा सम्मान मिलने लगा। इतनी अच्छाइयां होने के साथ-साथ मानिक की एक बुरी आदत थी। वह दिन रात जुआ खेलता था। इस खेल में वह ऊंची बोली लगाने के बावजूद भी हार जाता था।

धीरे-धीरे करके उसने अपने माता-पिता की सारी संपत्ति जुए में बर्बाद कर दी। यही नहीं, इस खेल के चलते उसने कई गांव वालों से भी उधार लेना शुरू कर दिया। यह सब देख उसके माता-पिता काफी दुखी रहते थे। लाख कोशिशों के बावजूद भी वे अपने बेटे के इस गंदी आदत को नहीं छुड़ा पाए।

एक दिन गांव के लोगों ने मानिक से अपने उधार चुकाने के लिए कहा। मानिक तुरंत अपने पिता के पास पहुंचा और कहा, “पिताजी मेरी मदद कीजिए। आप तो इतने ज्ञानी हैं, कृपया कर मुझे कुछ रास्ता बताइए।” सिदी मान्तरा से अपने बेटा का यह दुख देखा नहीं जा रहा था। वह अपने पुत्र को दुखी देख बहुत व्याकुल हो रहे थे।

एक दिन ब्राह्मण सिदी मान्तरा ने तय किया कि वह आसपास के गावं में भी जाकर पूजा पाठ कराएंगे और अपने बेटे के उधार को चुकाने की कोशिश करेंगे। हालांकि, सिदी मान्तरा के मन में यह चिंता हमेशा रहती थी कि पूजा पाठ करके बेटे के उधार के सारे पैसे उतार पाना मुनासिब नहीं है। एक दिन यही सब सोचते-सोचते सिदी मान्तरा को नींद आ गई।

तभी उन्होंने सपना देखा कि पूर्व दिशा की ओर एक ज्वालामुखी पर्वत है, जिसमें एक बड़ा सा खजाना छिपा हुआ है। इसकी देखभाल नागा बेसुकी नाम का एक आदमी करता था। उस सपने में उसे यह पता चला कि उसे नागा बेसुकी से मदद मांगनी चाहिए। जब सिदी मान्तरा की नींद खुली तो वह काफी चकित हुआ। उसने तुरंत सारी बातें अपनी पत्नी को बताई।

सिदी मान्तरा की बात सुनकर उसकी पत्नी ने कहा कि एक बार हमें इस बारे में पता करना चाहिए। शायद हमें सच में मदद मिल जाए। उसने कहा, चलिए हम दोनों साथ चलते हैं। आखिरकार हमारे लाड-प्यार ने मानिक को बिगाड़ा है। सिदी मान्तरा अपनी पत्नी की बात से राजी हो गया। अगली सुबह दोनों उस पर्वत की ओर जाने के लिए निकल पड़े।

ज्वालामुखी पर्वत की ओर जाते समय सिदी मान्तरा और उसकी पत्नी दोनों को कई तरह के कष्ट झेलने पड़े, लेकिन उन्होंने सभी तकलीफों को सहन किया और अंत में उस पर्वत के पास पहुंचे। वहां पहुंचकर ब्राह्मण ने मंत्र पढ़ते हुए घंटी बजानी शुरू कर दी। तभी वहां नागा बेसुकी नामक व्यक्ति उपस्थित हुआ। सिदी मान्तरा और उसकी पत्नी ने झुककर नागा बेसुकी को प्रणाम किया और अपनी परेशानी बताई।

नागा बेसुकी शांत होकर उनकी बातें सुन रहा था। उसे पता था कि ब्राह्मण सिदी मान्तरा बहुत ज्ञानी और भगवान के बहुत बड़े भक्त हैं। वह अपने पुत्र के कारण काफी कष्ट में है। इसलिए नागा बेसुकी ने उनकी मदद के लिए अपने शरीर का एक हिस्सा झाड़ा जिससे ढेर सारा धन, जेवर और सिक्के की बरसात होने लगी।

इसके बाद नागा बेसुकी ने सिदी मान्तरा से कहा, हे ब्राह्मण! आप अपनी जरूरत के हिसाब से धन ले जाएं। इतना कहते ही नागा बेसुकी वहां से गायब हो गए। इसके बाद सिदी मान्तरा और उसकी पत्नी ने अपनी जरूरत के हिसाब से धन बटोरा और नागा बेसुकी को धन्यवाद कहकर वहां से चले गए।

इधर, अपने घर पर माता-पिता को न पाकर मानिक बहुत चिंतित हो रहा था। दरअसल, आधी रात को कभी भी उसके माता-पिता घर से बाहर नहीं जाते थे। उसे डर था कि उसके माता-पिता उसके कारण किसी मुसीबत में न फंस गए हो, क्योंकि उन्होंने उसे वचन दिया था कि जब तक वे उसके उधार चुकाने के लिए कोई व्यवस्था न कर ले वह घर नहीं लौटेंगे।

तभी अचानक दरवाजे पर खटखट की आवाज सुनाई दी। मानिक दौड़कर दरवाजा खोलने पहुंचा। उसने देखा कि उसके माता-पिता लौट आए थे। यह देख वह बहुत खुश हुआ। उसने तुरंत उनसे पूछा कि वे कहां गए थे, लेकिन उन्होंने मानिक के प्रश्न को टाल दिया और उससे दूसरी बात करने लगे।

अगली सुबह उन्होंने मानिक को ढेर सारा धन दिया और कर्ज चुकाने के लिए कहा। अपने माता-पिता के पास इतना सारा धन देखकर मानिक को काफी आश्चर्य हुआ। उसने उनसे पूछा कि इतना सारा धन कहां से आया, लेकिन उन्होंने उसे कुछ नहीं बताया। अंत में मानिक को अपनी गलती का एहसास हुआ और उसने अपने माता-पिता से माफी मांगी और उन्हें वचन दिया कि वह अब दोबारा ऐसी गलती नहीं करेगा। इसके साथ ही वह अपने पिता के साथ पूजा-पाठ में जुट गया।

कहानी से सीख : इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हर किसी को अपनी गलतियों को सुधारने का मौका मिलना चाहिए, क्योंकि जो अपनी गलती सुधार लेता है वही एक अच्छा इंसान बनता है।

Category