सिंहासन बत्तीसी की कहानियां

कहानियां सबसे ज्यादा बच्चों को पसंद होती हैं। उन्हें न सिर्फ कहानियां सुनने में मजा आता है, बल्कि उससे कई चीजें सीखते भी हैं। ऐसी ही राजा विक्रमादित्य की सिंहासन बत्तीसी की कहानियां भी हैं। ऐसा कहा जाता है कि राजा विक्रमादित्य के सिंहासन पर 32 पुतलियां लगी हुई थीं, जो राजा भोज को सिंहासन बत्तीसी की कहानी सुनाती हैं। हर पुतली महाराज विक्रमादित्य की दानवीरता और फैसले लेने के कौशल से जुड़े किस्से राजाभोज को सुनाकर उड़ जाती हैं।इन सभी कहानियों से बच्चों का मानसिक विकास तो होगा ही। साथ ही इनसे बच्चों को कठिन परिस्थिति में सही फैसला लेने का हौसला भी मिलेगा। इन कहानियों से बच्चों को सही और गलत का फर्क भी समझ आएगा। साथ ही उन्हें समझ आएगा कि जीवन में दान और पुण्य का क्या महत्व है। जी हां, विक्रमादित्य सिंहासन बत्तीसी की कहानियां बच्चों को ऐसी बातें सिखाएंगी, जिन्हें यूं ही सिखा पाना आसान नहीं है।विक्रमादित्य का सिंहासन न्याय और धर्म का प्रतीक भी है। चलिए, फिर विक्रमादित्य सिंहासन पर लगी पुतलियों द्वारा सुनाई गई कहानियां पढ़ते हैं।

Category

|

Filters

scorecardresearch