एकतरफा प्यार क्या होता है? संकेत व इससे उभरने के तरीके | One Sided Love In Hindi

One Sided Love Kya Hota Hai

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

प्यार एक ऐसा भाव है, जिसके सामने दुनिया की हर चीज फीकी लगती है। वहीं जब प्यार एकतरफा होता है, तो ऐसा लगता है कि मानो दुखों का पहाड़ टूट गया हो। एकतरफा प्यार व्यक्ति की मानसिक स्थिति को इस कदर नुकसान पहुंचाता है कि व्यक्ति सही और गलत के बीच फर्क नहीं कर पाता। ऐसे में एकतरफा प्यार क्या होता है और इससे बाहर निकलने का तरीका क्या है, इस बात को हम इस लेख के माध्यम से समझाने का प्रयास कर रहे हैं। वहीं मॉमजंक्शन के इस लेख में हम एकतरफा प्यार को दोतरफा यानी कामयाब बनाने की कुछ टिप्स भी देंगे।

तो सबसे पहले आइए हम लेख में आगे बढ़कर एकतरफा प्यार क्या होता है, यह जान लेते हैं।

एकतरफा प्यार क्या होता है? | One Sided Love Kya Hota Hai

वैसे तो एकतरफा प्यार को समझाना थोड़ा कठिन हैं, लेकिन सामान्य भाषा में हम इसे किसी व्यक्ति विशेष के प्रति आकर्षण की भावना कह सकते हैं। उदाहरण के लिए मान लें कि एक लड़का किसी लड़की को बहुत पसंद करता है। वहीं उस लड़की को इस बात का पता ही न हो कि वह लड़का उसे पसंद करता है। इसके अलावा यह भी मुमकिन है कि लड़की को पता हो कि वह लड़का उससे प्यार करता है, लेकिन वह लड़की किसी अन्य लड़के को चाहती हो। यह दोनों ही स्थितियां एकतरफा प्यार को दर्शाती हैं। यानी किसी व्यक्ति विशेष के प्रति आकर्षण का भाव, जो उस व्यक्ति तक ही सीमित रहे, जिस व्यक्ति के मन में वह भाव है, एकतरफा प्यार कहा जा सकता है।

लेख के अगले भाग में अब हम एकतरफा प्यार के कुछ संकेतों के बारे में बताएंगे।

एकतरफा प्यार के 10 संकेत | कैसे पता करें कि आपका प्यार एकतरफा है?

आमतौर पर जब तक कोई व्यक्ति उस शख्स से प्यार का इजहार नहीं करता, जिसके प्रति उसके मन में प्रेम भाव है, एकतरफा प्यार ही कहलाता है। वहीं कई मामलों में ऐसा भी देखा जाता है कि प्यार का इजहार होने के बावजूद दोनों लोगों के बीच केमेस्ट्री कुछ बन नहीं पाती, यह भी एकतरफा प्यार का इशार हो सकता है। ऐसी स्थिति में कुछ आसान संकेतों के माध्यम से जाना जा सकता है कि आपका प्यार एकतरफा है या नहीं। यह संकेत कुछ इस प्रकार हैं :

1. जरूरत से ज्यादा माफी मांगना

अगर रिश्ते में हर बात के लिए बार-बार आपको ही माफी मांगनी पड़ती है, तो समझ जाइए कि यह एकतरफा प्यार का इशारा है। हर रिश्ते में सब कुछ बराबर होता है, जिसमें रूठना और मनाना भी शामिल है। यह बात आपस में प्रेम करने वाले दोनों लोगों पर लागू होती हैं। यदि आपके मामले में ऐसा नहीं हैं, तो आपको सचेत हो जाना चाहिए।

2. रिश्ते को लेकर असुरक्षित होना

बार-बार मन में रिश्ता टूटने का भाव पनपना। दिल में इस बात का डर बना रहना कि वह किसी और से आकर्षित हो जाएगा या जाएगी। अगर इस तरह की भावनाएं किसी के मन में हमेशा आती हैं, तो यह एकतरफा प्यार होने का एक बड़ा इशारा हो सकता है। दरअसल, भरोसा और विश्वास प्यार की बुनियादी खासियत मानी जाती है। ऐसे में जहां वाकई में प्यार होता है, वहां शक की कोई गुंजाइश ही नहीं रह जाती है।

3. खुद को लेकर मन में सवाल खड़े होना

अगर किसी के मन में खुद को लेकर अक्सर सवाल खड़े होते हैं, जैसे:- मैं सुंदर तो हूं न? मेरा प्रेमी या प्रेमिका मुझे पसंद तो करती है न? मेरा व्यवहार और पहनावा उसे पसंद तो आता है न? तो ऐसा होना एकतरफा प्यार का संकेत हो सकता है। वहीं यह भी मुमकिन है कि यह रिलेशनशिप सिर्फ आपकी ही तरफ से चल रही है।

4. उदासीन व्यवहार का होना

मान लीजिए आप अपने पार्टनर के लिए हरदम नए-नए प्लान बनाने के लिए तैयार रहते हैं। आप उन्हें खुश करने के लिए सरप्राइज प्लान करना और समय-समय पर गिफ्ट देना पसंद करते हैं। इसके बावजूद आपके साथी का व्यवहार आपके प्रति उदासीन रहता है और उन्होंने कभी भी उन्होंने आपके लिए ऐसा कुछ करने का नहीं सोचा, तो सचेत हो जाइए। यह इस बात को स्पष्ट करता है कि इस रिश्ते को चलने के लिए सभी प्रयास आप की ओर से ही किए जा रहे हैं यानी आपका प्यार एकतरफा है।

5. हर चीज को पार्टनर के हिसाब से प्लान करना

अगर आपको हर काम अपने प्रेमी या प्रेमिका की इच्छा से करना पड़ता है। मूवी देखनी हो, कहीं घूमने जाना हो या फिर उनसे मिलना ही क्यों न हो, आपको उनकी हां का इंतजार करना पड़ता है। इतना ही नहीं हर बार आपको ही अपने पार्टनर के हिसाब से अपना टाइम एडजस्ट करना पड़ता है, तो यह थोड़ा रुक कर सोचने का समय है। परस्पर प्रेम में ऐसा नहीं होता है, बल्कि दोनों ही साथी एक दूसरे की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए ही कोई प्लान बनाते हैं। साथ ही एक दूसरे की भावनाओं का सम्मान भी करते हैं।

6. आपके द्वारा ही कॉल और मैसेज करना

हरदम आप ही अपनी तरफ से कॉल या मैसेज करते हैं। सामने से कभी आपका साथी आपको मैसेज व कॉल नहीं करता है। वहीं उनका हालचाल पूछना सिर्फ आपका ही काम है, तो यह एकतरफा प्यार का संकेत हो सकता है। ऐसे में चाहिए कि आप अपने साथी के इस व्यवहार के पीछे की वजह जानने का प्रयास करें।

7. अपने म्यूचुअल फ्रेंड से उसके बारे में पूछना

आपको खुद से वो अपने बारे में कुछ नहीं बताते और आपको अपने सामान्य मित्र यानी म्यूचुअल फ्रेंड से अपने पार्टनर के बारे में पूछना पड़ता है। वहीं आपको नियमित दिनचर्या के बारे में जानने के लिए उन्हें कॉल या मैसेज करना पड़ता है। इसके आलावा आपको कई बार बातें शेयर करने के लिए उन पर दबाव बनाना पड़ता है। तो ऐसे में मुमकिन है कि आपका प्यार एकतरफा हो।

8. छोटी-छोटी बात कर नाराजगी

अगर आपसे मिलना, कहीं साथ में जाना, एक साथ कुछ प्लान करना जैसी छोटी-छोटी बातें प्रेमी या प्रेमिका को बहुत ज्यादा लगें और वह इन बातों को लेकर नारजगी जाहिर करने लगे। तो ऐसे में यह ठहर कर थोड़ा सोचने का समय है कि कहीं आपका प्यार एकतरफा तो नहीं।

9. उदास रहना

पार्टनर के साथ हंसी-मजाक का समय न मिलना। हर चीज की शुरुआत खुद से करना और अपने दिल का हाल सुनाने के लिए उनका आपके पास उपस्थित न होना। ये सारी चीजें आपको उदास बना सकती हैं। अगर अक्सर यह स्थिति आप दोनों के बीच पैदा होती है, तो समझिये कि आपका प्यार एकतरफा है।

10. हर चीज का दोष आप पर लगना

किसी भी तरह की समस्या के लिए आपका प्रेमी या प्रेमिका आपको जिम्मेदार ठहराता है, तो यह प्यार नहीं हो सकता है। एक-दूसरे को प्यार करने वाले कभी भी किसी गलती या खामी का दोष अपने पार्टनर पर नहीं डालते हैं, बल्कि परिस्थिति समझ कर आगे बढ़ने की कोशिश करते हैं।

यहां अब हम एकतरफा प्यार के एहसास के बारे में बताएंगे।

एकतरफा प्यार का एहसास कैसा होता है?

प्यार कैसा भी हो, वह हमेशा खूबसूरत ही होता है। मगर, एकतरफा प्यार में समय के साथ व्यक्ति के मन में प्यार की जगह डर, अविश्वास और मायूसी का भाव पनपने लगता है। व्यक्ति हमेशा इस उहापोह की स्थिति में रहता है कि जिससे वह इतना प्यार करता है, वह उसे कभी उसी प्यार के साथ अपनायेगा या नहीं।

लेख में आगे अब हम एकतरफा प्यार को कामयाब बनाने की कुछ टिप्स देंगे।

एकतरफा प्यार को दो तरफा या कामयाब कैसे करें | One Sided Love Ko Two Sided Kaise Kare

1. खास होने का एहसास

अपने प्यार को दो तरफा करने के लिए आप कोशिशें ही कर सकते हैं। इसमें सबसे पहली कोशिश है, उन्हें यह एहसास दिलाने कि वो आपके लिए कितने खास हैं। हो सकता है इस बात को समझने के बाद वो भी धीरे-धीरे आपको चाहने लगे।

2. उनका अच्छा दोस्त बनने की कोशिश करें

कहते हैं हर प्यार की शुरुआत दोस्ती से होती है। ऐसे में आपको भी अपने प्यार को दोतरफा बनाने के लिए उस शख्स का दोस्त बनकर रहना चाहिए। घूमना-फिरना, खाना-पीना सब आप दोनों जब साथ में करेंगे, तो हो सकता है कि यह एक तरफा प्यार दो तरफा बन जाए।

3. इजहार करना भी है जरूरी

कई बार प्यार सिर्फ एक तरफा इसलिए रह जाता है, क्योंकि आप उनका इजहार करने से हिचकते हैं। आपके मन में बस यही ख्याल आता है कि अगर उसने मना कर दिया, तो क्या होगा। ऐसी स्थिति में सामने वाले को पता कैसे चलेगा कि आपके मन में उसके लिए क्या भाव हैं। इसलिए प्यार का इजहार करना जरूरी है। अगर सामने से ‘हां’ की जगह ‘न’ में भी जवाब मिले, तो भी आप उनके अच्छे दोस्त बनकर रह सकते हैं। इससे सामने वाले की भावनाओं को आप बेहतर तरीके से समझ पाएंगे।

4. खुले दिल से सोचने की आजादी दें

अक्सर लोग जल्दबाजी में सही फैसला नहीं ले पाते हैं, ऐसे में मुमकिन है कि जल्दी ‘हां’ सुनने की चाह के कारण आपको ‘न’ में जवाब मिले। ऐसे में प्यार को दोतरफा बनाने के लिए जरूरी है कि आप उस व्यक्ति को थोड़ा खुलकर सोचने का समय दें, जिससे आप प्यार करते हैं। जब वह व्यक्ति खुले दिल से आपके प्रेम प्रस्ताव के बारे में सोचेगा, तो ऐसे में प्यार के दोतरफा होने की संभावना बढ़ सकती है।

5. अपनी अच्छाइयों व खूबियों से उन्हें वाकिफ करवाएं

हर इंसान कई सारी छुपी हुई खूबियां होती हैं। उनसे अगर सामने वाला वाकिफ नहीं है, तो उसे उन चीजों के बारे में बताएं। हो सकता है कि आपकी अच्छाइयां उसके दिल को छूं जाएं और ये एकतरफा प्यार दोतरफा हो जाए।

6. सामने वाले को बताएं कि वो आपके लिए क्या मायने रखता है

अक्सर लोग मन में तो ढेर सारा प्यार और भावनाएं लेकर घूमते हैं, लेकिन सामने से उस व्यक्ति को यह नहीं बता पाते कि वह व्यक्ति उनके लिए कितना जरूरी है। आपके साथ भी ऐसा कुछ है, तो आप अपने पार्टनर को यह एहसास दिलाएं कि वो आपके लिए कितना खास है। उसके होने से पर आप को कितनी खुशी मिलती है।

7. खुद को भी अहमियत दें

बार-बार सिर्फ आपकी ही तरफ से हर चीज की शुरुआत होती है। वहीं आप खुद से ज्यादा सामने वाले को ही तवज्जो देती हैं, तो सावधान हो जाइए। हो सकता है, आपके इस व्यवहार की वजह से वह आपको अहमियत न दें। ऐसे में आपको उन्हें अपनी अहमियत भी समझानी पड़ेगी और इसके लिए आपको सबसे पहले खुद को अहमियत देना भी जरूरी है। कुछ समय के लिए वो सब करना छोड़ दें, जो आप उस व्यक्ति को खुश करने के लिए करते हैं, जिसे आप प्यार करते हैं। मुमकिन है, ऐसा करने से सामने वाले को समझ आ जाए कि आप उसके लिए कितने जरूरी हैं।

अंत में अब हम एकतरफ प्यार से बाहर निकलने के कुछ तरीके बताएंगे।

एकतरफा प्यार से कैसे बाहर निकलें | One Sided Love Ko Kaise Bhulaye

अगर सभी तरह के प्रयासों के बाद भी आपका एकतरफा प्यार दोतरफा नहीं हो पाता है, तो ऐसे में इस एकतरफा प्यार से बाहर निकलना ही बेहतर होगा। इसलिए यहां हम एकतरफा प्यार से बाहर निकलने के कुछ आसन तरीके बताएंगे :

1. खुद को समय दें

समय बड़े से बड़े दुख को कम कर देता है। ऐसे में जरूरी है कि एकतरफा प्यार से बाहर निकलने के लिए खुद को समय दिया जाए। ऐसे में सामने वाले के बारे में अधिक न सोचें, बल्कि इस दौरान नए लोगों से मिलना-जुलना शुरू करें। इससे आप नए दोस्त बना पाएंगे और आपका दिमाग उस इंसान से हट पाएगा, जिससे आप एकतरफा प्यार करते हैं।

2. स्थिति को दोष न दें

दोष देना किसी भी चीज का हल नहीं है। खुद को या फिर स्थिति को दोष देना नाकाम प्यार में काफी आम है, लेकिन आप ऐसा करने से बचें। अपने बारे में सिर्फ अच्छा सोचें। साथ ही यह ध्यान रखें कि जिससे आपने प्यार किया है भले ही उसके लिए आप जरूरी नहीं, लेकिन अपने परिवार वाले और दोस्तों के लिए आप बेशकीमती हैं।

3. उन चीजों से दूर रहें, जिनसे आपको रोना आता हो

पुरानी यादें खासकर एकतरफा प्यार से जुड़ी यादें अक्सर रूला जाती हैं। ऐसे में खुद को उन यादों से दूर रखने की कोशिश करें। साथ ही उन चीजों को हमेशा के लिए हटा दें, जिन्हें देखकर आपको अपने एकतरफा प्यार की याद आती है। वहीं मोबाइल और लैपटॉप में ऐसी तस्वीरें हैं, जो उसकी याद दिलाती हैं, तो उसे आप डिलीट कर सकते हैं।

4. एकतरफा प्यार के बारे में न सोचें

खाली वक्त में या फिर अकेले बैठते समय एकतरफा प्यार के बारे में बिल्कुल न सोचें। हम समझते हैं कि ऐसा करना मुश्किल होता है, क्योंकि दिमाग पर नियंत्रण रख पाना आसान नहीं। फिर भी आपको इसका अभ्यास करना होगा। अपने दिमाग को उस शख्स के बारे में सोचने से रोकें। इसके लिए आप खुद के बारे में अच्छी बातें सोच सकते हैं। इससे आपको यह समझ आएगा कि आप कितने अच्छे हैं और सामने वाले ने आपको न अपनाकर क्या खोया है।

5. खुद को व्यस्त रखने की कोशिश करें

किचन का काम, घर की साफ-सफाई, गार्डनिंग, रॉक म्यूजिक सुनना और मूवी देखने जैसी चीजों में खुद को व्यस्त रखें। इस दौरान बस रोमांटिक गाने और फिल्म देखने से बचें। इससे हो सकता है कि आपको अपने एकतरफा प्यार को लेकर और दुख होने लगे। ऐसे में आप कार्टून और एनिमेटेड फिल्म देख सकते हैं।

6. किताबें पढ़ें

इस समय आप किताबों का सहारा भी ले सकती हैं। बड़ी-बड़ी शख्सियत से जुड़ी किताबें पढ़ें। साथ ही ऐसी किताबें भी पढ़ें, जिनसे ये समझ आए कि जीवन में जो भी होता है, उसमें कुछ-न-कुछ अच्छा ही छुपा होता है। इस तरह की किताबें पढ़ने से आपका मन हल्का हो जाएगा।

7. अपने मन के जज्बातों को लिखें

मन में छिपे जज्बातों को शब्द दें। मन में अच्छी या बुरी जो भी बातें हैं, उन्हें डायरी में लिखें। ऐसा करने से आपको उन यादों और चीजों से छुटकारा पाने में सहायता मिलेगी। मन का भारीपन दूर होने लगेगा। इस दौरान आप अपने बारे में अच्छी-अच्छी बातें भी लिख सकते हैं। साथ ही लिखें कि आपको आपका परिवार कितना प्यार करता है। इससे आपके मन में अच्छी भावनाएं पैदा होंगी और आप एकतरफा प्यार से बाहर निकल पाएंगे।

वन साइडेड लव क्या होता है, यह तो अब आप समझ ही गए होंगे। ऐसे में बेहतर होगा कि किसी के लिए अपने मन में भावनाएं लाने से पहले उससे सीधे दिल की बात कर लें। इससे यह स्पष्ट हो जाएगा कि वो आपके साथ किसी रिश्ते की शुरुआत करने के लिए तैयार है या नहीं। इसके बावजूद भी अगर आपको किसी से एकतरफा प्यार हो जाता है, तो उस पर खुद को थोपने की कोशिश बिल्कुल न करें। उसे सोचने के लिए समय दें और लेख में बताई गई एकतरफा प्यार को कामयाब बनाने की टिप्स को अमल में लाएं। फिर भी अगर आपका प्यार दोतरफा नहीं हो पाता है, तो इससे खुद को बाहर निकालने का प्रयास करें। उम्मीद है, लेख में दी गई एकतरफा प्यार से बाहर निकलने की टिप्स आपके लिए मददगार साबित होंगी।

The following two tabs change content below.