प्रेगनेंसी में खून की उल्टी होना | Pregnancy Me Khoon Ki Ulti Hona

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

गर्भावस्था के दौरान शरीर में होने वाले बदलाव कई शारीरिक समस्याओं का कारण बनते हैं। इनमें जो सबसे आम है, वो है उल्टी। भले यह प्रेगनेंसी के दौरान एक सामान्य समस्या या लक्षण है, लेकिन कई बार यह समस्या गंभीर रूप में भी सामने आ सकती है, जैसे खून की उल्टी। यही वजह है कि मॉमजंक्शन के इस लेख में हम प्रेगनेंसी में खून की उल्टी के कारण, इसके लक्षण और इस समस्या संबंधी इलाज के विषय में जानकारी देने रहे हैं। इस विषय में ज्यादा से ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ते रहिए यह लेख।

सबसे पहले जानते हैं खून की उल्टी होने से संबंधित कुछ जानकारी।

खून की उल्टी (Hematemesis) होने का मतलब क्या है?

जब उल्टी गंभीर और बहुत ज्यादा होने लगे, तो यह खून की उल्टी (Hematemesis – हेमाटेमेसिस) हो सकती है। यह गाढ़े लाल या कॉफी के रंग की हो सकती है (1)। गर्भावस्था के दौरान खून की उल्टी और सामान्य व्यक्ति को होने वाली खून की उल्टी के कारण और लक्षण सामान्य हो सकते हैं (2)। हालांकि, इसके उपचार के लिए तरीके अलग-अलग हो सकते हैं। इस बारे में विस्तृत जानकारी आगे देने की कोशिश की गई है।

क्या गर्भावस्था में खून की उल्टी होना सामान्य है?

प्रेगनेंसी में खून की उल्टी होना सामान्य नहीं है। अगर किसी को प्रेगनेंसी में खून की उल्टी हो रही है, तो तुरंत डॉक्टर की सलाह ली जानी चाहिए। यह गंभीर मॉर्निंग सिकनेस या किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या का लक्षण हो सकता है।

आगे जानिए गर्भावस्था के दौरान खून की उल्टी होने के कुछ कारणों के बारे में।

गर्भावस्था के दौरान खून की उल्टी होने के कारण

जैसे कि हमने ऊपर जानकारी दी है कि खून की उल्टी किसी को भी हो सकती है और गर्भावस्था के दौरान भी इसके कारण सामान्य लोगों को होने वाली खून की उल्टी के समान ही हो सकते हैं। ऐसे में हम नीचे खून की उल्टी होने के कुछ कारणों के बारे में जानकारी देने की कोशिश कर रहे हैं (3)

  • ऊपरी जीआई (गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल) ट्रैक्ट जिसमें मुंह, गला, एसोफैगस (Esophagus – निगलने वाली नली), पेट और ड्यूडेनम (Duodenum – छोटी आंत का पहला हिस्सा) शामिल हैं। अगर इनमें से किसी भी अंग में रक्तस्राव हो, तो खून की उल्टी हो सकती है।
  • बार-बार या लंबे समय उल्टी होते रहने से गले की छोटी रक्त वाहिकाएं फट सकती हैं, जिससे खून की उल्टी की समस्या हो सकती है।
  • एसोफैगस के निचले हिस्से की नसों में सूजन और पेट में इंटरनल ब्लीडिंग की वजह से खून की उल्टी हो सकती है।
  • पेट में होने वाले अल्सर से रक्तस्राव, खून की उल्टी का कारण बन सकता है।
  • रक्त के थक्के से जुड़ी समस्या।
  • जीआई ट्रैक्ट की रक्त वाहिकाओं में किसी प्रकार की समस्या।
  • एसोफैगस लाइनिंग (Esophagitis) या स्टमक लाइनिंग (Gastritis – गैस्ट्राइटिस) में किसी प्रकार की सूजन या जलन।
  • मुंह, गले, पेट या एसोफैगस के ट्यूमर के कारण।

वैसे तो खून की उल्टी अपने आप में ही एक लक्षण है, लेकिन इसके साथ कुछ और अन्य लक्षण भी हो सकते हैं। इसके बारे में हम लेख के इस भाग में जानकारी देने की कोशिश कर रहे हैं।

प्रेगनेंसी में खून की उल्टी होने के लक्षण

नीचे जानिए प्रेगनेंसी में खून की उल्टी के साथ अन्य लक्षण क्या-क्या हो सकते हैं। हालांकि, इस बारे में कोई वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है, इसलिए इन लक्षणों में बदलाव हो सकते हैं।

  • जी मिचलाना
  • तेज धड़कन
  • धुंधला दिखना
  • चक्कर आना
  • उलझन होना
  • बेहोशी
  • कम पेशाब आना
  • पेट की समस्या
  • कमजोरी
  • बुखार

आइए, अब इसके निदान के बारे में जानते हैं।

गर्भावस्था के दौरान खून की उल्टी का निदान

प्रेगनेंसी में खून की उल्टी की जांच करने से पहले डॉक्टर कुछ सवाल पूछ सकते हैं, जैसे – कब से हो रही है? पहले कोई चोट या अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्या रही आदि। इसके बाद डॉक्टर कुछ जांच भी कर सकते हैं, जिसके बारे में हम नीचे जानकारी दे रहे हैं। ये टेस्ट गर्भावस्था और सामान्य अवस्था में एक समान हो सकते हैं –

  • अल्ट्रासाउंड स्कैन
  • एमआरआई स्कैन
  • एंडोस्कोपी
  • न्यूक्लियर मेडिसिन स्कैन
  • ब्लड टेस्ट

नोट: ये कोई भी परीक्षण डॉक्टर द्वारा निर्देश के बाद ही करवाएं।

आगे जानिए प्रेगनेंसी में खून की उल्टी में होने वाली जटिलताएं।

प्रेगनेंसी में खून की उल्टी से होने की जटिलताएं

नीचे पढ़ें प्रेगनेंसी में खून की उल्टी की जटिलताओं के बारे में।

घुटन – खून की उल्टी या लगातार उल्टी के बाद खाना निगलने में परेशानी हो सकती है। इसके अलावा, फेफड़ों में खून इकट्ठा होने से सांस लेने में परेशानी हो सकती है।

खून की कमी – लगातार खून की उल्टी से लाल रक्त कोशिकाओं की कमी हो सकती है, जिससे एनीमिया का खतरा हो सकता है।

तनाव या चिंता – प्रेगनेंसी में खून की उल्टी होना तनाव या चिंता का कारण भी हो सकता है। ये चिंता कई अन्य शारीरिक समस्याओं का भी कारण बन सकती है।

अब कुछ जानकारी प्रेगनेंसी में खून की उल्टी के इलाज से संबंधित।

गर्भावस्था के दौरान खून की उल्टी का इलाज

अगर बात करें इलाज की, तो यह मरीज की स्थिति पर निर्भर करता है। अगर परेशानी ज्यादा गंभीर नहीं है, तो हो सकता है कि डॉक्टर सिर्फ दवा दें। वहीं, अगर मरीज की हालत गंभीर है, तो डॉक्टर नीचे बताए जा रहे विकल्पों का सहारा ले सकते हैं (2)

  • ऑक्सीजन देना
  • ब्लड ट्रांसफ्यूजन यानी खून चढ़ाना
  • रक्तस्राव को रोकने के लिए ईजीडी (EGD – एक प्रकार का एंडोस्कोपी) के साथ लेजर या अन्य विकल्प
  • नस के माध्यम से तरल पदार्थ देना
  • पेट के एसिड को कम करने की दवाएं
  • रक्तस्राव बंद न होने पर सर्जरी

नोट : ये इलाज डॉक्टर के परामर्श के बाद ही कराएं।

आगे जानते हैं प्रेगनेंसी के दौरान खून की उल्टी से कैसे बचाव किया जा सकता है।

गर्भावस्था के दौरान खून की उल्टी को रोकने के उपाय

जैसा कि ऊपर हमने जानकारी दी कि गर्भावस्था के दौरान मतली और उल्टी आम है और बहुत ज्यादा उल्टी होने से भी खून की उल्टी का जोखिम बढ़ सकता है। ऐसे में उन्हें गंभीर होने से रोकने के लिए कुछ उपाय किए जा सकते हैं। नीचे पढ़ें कि प्रेगनेंसी में खून की उल्टी को होने से कैसे रोका जा सकता है।

  • साफ-सफाई का पूरा ख्याल रखें, ताकि किसी प्रकार का संक्रमण न हो।
  • गैस्ट्रोएंटेराइटिस वाले किसी भी व्यक्ति के संपर्क में आने से बचें।
  • अगर किसी को किसी प्रकार का संक्रमण है, तो सार्वजनिक पूल में न जाएं।
  • कच्चे खाद्य पदार्थों से बचें और मीट को भी अच्छी तरह से पकाकर खाएं।
  • मसालेदार भोजन से बचें, इससे पेट संबंधी परेशानी हो सकती है।
  • धूम्रपान और शराब का सेवन न करें।

नीचे जानिए कुछ घरेलू इलाज।

गर्भावस्था के दौरान खून की उल्टी के लिए 5 घरेलू उपाय

खून की उल्टी आम दिनों में ही चिंता का कारण बन जाती है, तो गर्भावस्था में स्थिति और चिंताजनक हो सकती है। ऐसे में ये घरेलू उपचार खून की उल्टी को दोबारा होने से रोकने या कहें खून की उल्टी होने के बाद की परेशानी को कम करने में मदद कर सकते हैं। ध्यान रहे इन घरेलू उपचारों को इलाज समझने की भूल न करें।

  • खूब पानी पिएं, ताकि शरीर डिहाइड्रेट न हो। इसके अलावा, डॉक्टर की सलाह से इलेक्ट्रोलाइट का सेवन भी किया जा सकता है।
  • ज्यादा से ज्यादा पौष्टिक आहार, जैसे – हरी सब्जियां, फल या फलों के रस का सेवन करें, ताकि कमजोरी न हो।
  • तेल-मसाले वाला खाना न खाएं।
  • बाहर के खाने या तेल-मसाले वाले खाने के सेवन से बचें, ताकि एसिडिटी या गैस की समस्या या किसी प्रकार का संक्रमण न हो।
  • गर्भावस्था में खून की उल्टी के बाद कमजोरी या चक्कर आने की परेशानी हो सकती है, ऐसे में ज्यादा से ज्यादा आराम करें।

आगे जानिए डॉक्टर के पास जाने की जरूरत कब हो सकती है।

डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए?

खून की उल्टी होना सिर्फ गर्भावस्था में नहीं, बल्कि कभी भी गंभीर बीमारी का लक्षण हो सकता है। ऐसे में प्रेगनेंसी में खून की उल्टी जब भी हो, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें, ताकि भविष्य के जोखिम से बचा जा सकते है। इस विषय से जुड़ी जरूरी जानकारी संबंधित डॉक्टर से प्राप्त की जा सकती है।

प्रेगनेंसी में खून की उल्टी होना एक गंभीर स्थिति है। ऐसे में जटिलताओं से बचने के लिए उचित निदान और उपचार जरूरी है। अगर गर्भावस्था के दौरान मतली या उल्टी की परेशानी हो, तो इसे अनदेखा न करें। अगर गर्भावस्था के दौरान किसी भी महिला को उल्टी में खून की समस्या हो, तो बिना देर करते हुए डॉक्टर से चेकअप करवाएं। ध्यान रहे कि आपकी जागरूकता ही समस्या से बचाव का पहला कदम है।

संदर्भ (References)