गर्भावस्था में खजूर खाने के फायदे | Pregnancy Me Khajoor Khana Chahiye Ya Nahi

Pregnancy Me Khajoor Khana Chahiye

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

गर्भावस्था के दौरान खुद को पर्याप्त पोषण कैसे दें? अगर आप इस बारे में सोच रहे हैं, तो खजूर का सेवन आपके लिए लाभदायक हो सकता है। गर्भावस्था में इसका सेवन आपको पूर्ण रूप से पोषण देने का काम कर सकता है। इससे आपको और आपके शिशु को फायदा हो सकता है। साथ ही गर्भावस्था के दौरान होने वाली कई समस्याओं को भी दूर किया जा सकता है। मॉमजंक्शन के इस लेख में हम गर्भावस्था के दौरान खजूर खाने के फायदे के बारे में विस्तार से समझाएंगे।

क्या गर्भावस्था के दौरान खजूर खाना सुरक्षित है? | Pregnancy Me Khajoor Khana Chahiye Ya Nahi

जी हां, गर्भावस्था के दौरान खजूर खाना सुरक्षित है। खजूर से होने वाले लाभ का असर गर्भवती और भ्रूण दोनों में दिखाई देता है। खजूर में फ्रुक्टोज नामक कार्बन यौगिक होता है, जो ब्लड शुगर के स्तर में बदलाव किए बिना शरीर के ऊर्जा देने का काम करता है। एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, लेट प्रगनेंसी में खजूर का सेवन प्रसव में सहायक हो सकता है। साथ ही यह लेबर को बढ़ाने के लिए ऑक्सीटॉसिन (एक प्रकार का हार्मोन) की आवश्यकता को भी कम कर सकता है (1)

आइए, अब हम खजूर में पाए जाने वाले पोषक तत्व के बारे में बात करते हैं।

खजूर का पोषण मूल्य

खजूर में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं, जिसे हम इस चार्ट के माध्यम से समझेंगे (2)

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
पानी21.32 g
ऊर्जा277 kcal
प्रोटीन1.81 g
टोटल लिपिड (फैट)0.15 g
कार्बोहाइड्रेट74.97 g
फाइबर, टोटल डाइटरी6.7 g
शुगर, टोटल66.47 g
मिनरल
कैल्शियम ,Ca64 gm
आयरन ,Fe0.90 mg
मैग्नीशियम , Mg 54 mg
फास्फोरस ,P62 mg
पोटैशियम ,K696 mg
सोडियम ,Na1  mg
जिंक ,Zn0.44 mg
विटामिन
विटामिन सी, टोटल एस्कॉर्बिक एसिड0.0 mg
थाइमिन0.050 mg
राइबोफ्लेविन0.060 mg
नियासिन1.610 mg
विटामिन बी-60.249 mg
फोलेट DFE15 µg
विटामिन ए ,RAE7 µg
विटमिन ए ,।U149 ।U
विटामिन डी (D2 +D3)0.0 µg
विटामिन डी0 ।U
विटामिन के (पिल्लोक्विनोने )2.7 µg

चलिए आगे जानते है कि गर्भावस्था में खजूर खाना कब शुरू करना चाहिए।

गर्भावस्था के दौरान आपको खजूर खाना कब शुरू करना चाहिए?

इसका जवाब हम यहां तीनों तिमाही के आधार पर दे रहे हैं, जो इस प्रकार है –

पहली तिमाही– गर्भावस्था के पहले महीने से ही इसका सेवन करना शुरू कर देना चाहिए, क्योंकि गर्भावस्था में महिलाओं को आयरन की ज्यादा जरूरत होती है। इसकी पूर्ति खजूर के जरिए की जा सकती है। आयरन की कमी से एनीमिया की समस्या उत्पन्न हो सकती है, जिससे भ्रूण के विकास में बाधा आ सकती है। शरीर में आयरन की कमी को पूरा करने के लिए आरयन टैबलेट की जगह खजूर का सेवन एक अच्छा विकल्प हो सकता है (3)। हालांकि, इस दौरान इसकी मात्रा कितनी होनी चाहिए, यह जानकारी आपका डॉक्टर ही सही बता पाएगा।

दूसरी तिमाही– गर्भावस्था के दूसरी तिमाही में कब्ज संबंधी समस्या उत्पन्न हो सकती है (4)। ऐसे में खजूर का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, खजूर में फाइबर पाया जाता है, जो भोजन को पचाने के साथ-साथ कब्ज जैसी समस्याओं पर भी प्रभावी असर दिखा सकता है (3)

तीसरी तिमाही– गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में खजूर का सेवन करना प्रसव के लिए फायदेमंद हो सकता है। इस समय खजूर के सेवन से रक्तचाप और रक्त में शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। साथ ही एनीमिया और मतली की समस्या को भी दूर किया जा सकता है। इसका लाभ गर्भवती और भ्रूण के स्वास्थ्य पर हो सकता है (5)

आगे हम गर्भावस्था के दौरान खजूर खाने के फायदों के बारे में जानेंगे।

गर्भावस्था के दौरान खजूर के फायदे | Pregnancy Me Khajoor Khane Ke Fayde

  1. शरीर में ऊर्जा बनाए रखने में : गर्भावस्था के दौरान खजूर का सेवन शरीर में ऊर्जा का स्तर बनाए रखने में मदद कर सकता है, क्योंकि इसमें अधिक मात्रा में कैलोरी पाई जाती है (1)
  1. कब्ज से राहत : खजूर में फाइबर भरपूर मात्रा में पाई जाता है, जो मल को मुलायम बनाकर कब्ज की समस्या से राहत दिलाने में मददगार साबित हो सकता है (6)
  1. शिशु का वजन : गर्भावस्था में फोलेट की कमी होने वाले शिशु में कम वजन का कारण बन सकती है (7)। यहां खजूर की एक अहम भूमिका देखी जा सकती है, क्योंकि इसमें फोलेट की मात्रा पाई जाती है, जो गर्भावस्था के दौरान फोलेट की पूर्ति कर सकता है (2)
  1. एनीमिया से छुटकारा : खजूर के सेवन से एनीमिया को दूर रखा जा सकता है। खजूर आयरन का अच्छा स्रोत है, जो शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में मदद करता है। इससे गर्भावस्था में एनीमिया के खतरे से बचा जा सकता है (8)
  1. रक्तचाप के लिए : गर्भावस्था के दौरान डैश (DASH) इंटिंग प्लान, जिसमें खजूर का सेवन भी आता है, उच्च रक्तचाप (Hypertension) को नियंत्रित करने का काम कर सकता है (9) (10)
  1. भ्रूण की हड्डियों के निर्माण में: गर्भावस्था के तीसरे व चौथे महीने में गर्भवती को कैल्शियम की अधिक मात्रा की जरूरत होती है। कैल्शियम भ्रूण की हड्डियों के विकास में अहम पोषक तत्व के रूप में काम करता है (11)। ऐसे में खजूर के सेवन से शरीर में कैल्शियम की पूर्ति की जा सकती है (2)
  1. जन्म दोष को कम करना: कई शिशुओं में जन्म दोष पाए जाते हैं। यहां खजूर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। खजूर में फोलेट भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो न्यूरल ट्यब डिफेक्ट (मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डियों से जुड़ा जन्म दोष) इस समस्या को दूर करने में मदद कर सकता है (12) (2)

खजूर खाने से प्रसव में कैसे मदद मिलती है, इस बारे में हम आगे पढ़ेंगे।

खजूर खाने से प्रसव में कैसे मदद होती है?

खजूर का सेवन गर्भावस्था के दौरान तो फायदेमंद होता है, साथ ही लेट प्रगेनेंसी में खजूर का सेवन प्रसव में सहायक हो सकता है। इसके अलावा, लेबर को बढ़ाने के लिए ऑक्सीटॉसिन की आवश्यकता को भी कम कर सकता है (1)

इस लेख के आगे भाग में गर्भावस्था के दौरान खजूर कैसे खाएं, इसके बारे में जानकारी देंगे।

गर्भावस्था के दौरान खजूर कैसे खाएं?

आप गर्भावस्था में निम्न तरीकों से खजूर को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं।

  • खजूर को ताजा पका हुआ खाया जा सकता है।
  • इसे सूखाकर भी खाया जा सकता है।
  • खजूर को दही में मिलाकर स्मूदी की तरह भी लिया जा सकता है।
  • खजूर को डेजर्ट के रूप में ले सकते हैं।
  • खजूर को दूध में मिलकर मिल्कशेक की तरह भी लिया जा सकता है।

गर्भावस्था के दौरान खजूर से कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। आइए, इस बारे में जानते हैं।

गर्भावस्था के दौरान खजूर के दुष्प्रभाव | Pregnancy Me Khajur Khane Ke Nuksan

गर्भावस्था में खजूर को खाने से निम्न प्रकार के नकारात्मक प्रभाव देखे जा सकते हैं :

  • खजूर में शुगर की मात्रा पाई जाती है, जिस कारण इसका सेवन हाइपोग्लाइसीमिया (रक्त में शुगर की मात्रा का बढ़ना) का कारण बन सकता है (13)
  • इसका अधिक सेवन वजन बढ़ाने का काम कर सकता है, क्योंकि इसमें कैलोरी की अधिक मात्रा पाई जाती है (2)
  • खजूर में फाइबर होता है। अगर इस अधिक मात्रा में खाया जाए, तो दस्त लग सकते हैं (2) (14)। इसलिए, खूजर को सीमित मात्रा में ही खाना चाहिए।
  • गर्भावस्था में अधिक मात्रा में खजूर का सेवन करने से दांत सड़ने का जोखिम उत्पन्न हो सकता है। फिलहाल, इस तथ्य की पुष्टि के लिए वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है।

गर्भावस्था और खूजर से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए पढ़ते रहें यह आर्टिकल।

गर्भावस्था के दौरान कौन से प्रकार के खजूर खाने चाहिए?

यहां हम दो तरह के खजूर का जिक्र कर रहे हैं, जिसे गर्भावस्था में खाया जा सकता है।

मेडजूल (Medjool) खजूर : गर्भावस्था में मेडजूल खजूर का सेवन लाभदायक हो सकता है। इस खजूर में गर्भावस्था के दौरान आवश्यक सभी तरह के पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इसमें वसा और सोडियम की मात्रा कम होती है, जो गर्भवती और भ्रूण दोनों के लिए फायदेमंद हो सकती है (2)

चाइनीज रेड डेट्स : चाइनीज रेड डेट्स में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो एनीमिया की समस्या को दूर करने में लाभदायक हो सकता है। इसलिए, गर्भावस्था के दौरान इसका सेवन फायदेमंद हो सकता है।

नोट : मेडजूल और चाइनीज रेड डेट्स को गर्भावस्था में खाना सुरक्षित है, इस विषय में वैज्ञानिक प्रमाण सामने नहीं आया है। इसलिए, इसके सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

अब तो आप समझ ही गए होंगे कि गर्भावस्था में खजूर का सेवन किस तरह आपको फायदा पहुंचा सकता है। अगर आप इसे अपनी डाइट में शामिल करने का मन बना रहे हैं, तो एक बार पूरे लेख को अच्छे से पंढ़ लें। इसे कैसे खाएं इसकी जानकारी पाकर आप अनेक तरह से इसके स्वाद का लाभ उठा सकते हैं। उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी होगा। साथ ही अगर आपके पास गर्भावस्था में खजूर खाने से जुड़े कोई जानकारी है, तो उसे कमेंट बॉक्स के माध्यम से हमारे साथ शेयर कर सकते हैं।

संदर्भ (References):

Was this information helpful?

The following two tabs change content below.

Latest posts by Bhupendra Verma (see all)

Bhupendra Verma

FaceBook Pinterest Twitter Featured Image