क्या प्रेगनेंसी में डांस करना सुरक्षित है? | Kya Pregnancy Mein Dance Kar Sakte Hain

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

डांस, ऐसा नाम जिसे सुनते ही शरीर में एक बिजली-सी दौड़ जाती है। शायद ही कोई लड़की होगी जिसने कभी डांस न किया हो। जीवन के हर मोड़ पर अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का सबसे बेहतरीन तरीका डांस है। वहीं, महिलाओं के जीवन में ऐसा भी एक मोड़ आता है, जब वह गर्भवती होती है। यह खबर सुनते ही किसी का भी मन खुशी से नाचने का हो जाए, लेकिन इस वक्त डांस से डर भी बहुत लगता है। इससे जुड़े बहुत से सवाल मन में आते हैं, जैसे क्या गर्भावस्था में डांस करना बच्चे के लिए सुरक्षित होगा? क्या डांस करने से कोई लाभ होगा? किस तरह का डांस सही होगा? ऐसे कई सवाल जो गर्भावस्था में डांस से जुड़े हैं, उनके जवाब मॉमजंक्शन के इस लेख में हम आपको बताएंगे।

आइए, सबसे पहले जानते हैं कि गर्भावस्था में डांस सुरक्षित है या नहीं।

क्या गर्भावस्था के दौरान डांस करना सुरक्षित है?

सबसे पहला और महत्वपूर्ण सवाल तो यही है कि क्या इस अवस्था में डांस सुरक्षित होगा? तो इसका जवाब है, हां! इस दौरान डांस किया जा सकता है। दरअसल, एक स्वस्थ महिला हल्की एक्सरसाइज के रूप में डांस कर सकती है, जो गर्भावस्था के दौरान फायदेमंद साबित हो सकता है। वहीं, अमेरिकन कॉलेज ऑफ ऑब्स्टेट्रिशियंस एंड गायनेकोलॉजिस्ट्स के अनुसार, गर्भावस्था के दौरान एक्सरसाइज लाभकारी साबित हो सकती है और जटिल गर्भावस्था के जोखिम को भी कम करने में मदद कर सकती है (1)। फिर भी सावधानी के तौर पर गर्भावस्था में डांस की सोचने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। साथ ही गर्भावस्था के वर्तमान समय और अपने स्वास्थ्य को देखते हुए कौन-सा डांस सही रहेगा, इसकी भी पूरी जानकारी जरूर लें। इसके अलावा, किसी डांस एक्सपर्ट की देखरेख में ही ये शारीरिक गतिविधि करें। ध्यान रहे कि हर महिला की गर्भावस्था एक जैसी नहीं होती है। इसलिए, डांस का निर्णय लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

लेख में आगे जानिए कि कौन-सा डांस प्रेगनेंसी में करना सही रहेगा।

गर्भवती महिलाओं को किस प्रकार के डांस करने चाहिए

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि गर्भावस्था में डॉक्टरी परामर्श और एक्सपर्ट की देखरेख में डांस किया जा सकता है। वहीं, इस दौरान कौन से डांस किए जा सकते हैं, इसकी भी जानकारी एक गर्भवती को होनी चाहिए। एनसीबीआई के शोध में प्रेगनेंसी के दौरान ‘बेली डांस’ और ‘एरोबिक डांस’ करने का जिक्र मिलता है यानी इस दौरान इन डांस फॉर्म को अपनाया जा सकता है (1)

इसके अलावा, गाइनोक्लोजिस्ट के परामर्श पर और एक्सपर्ट की देखरेख में कम शारीरिक गतिविधि, जिनमें थकान कम महसूस हो और जिनमें शरीर का संतुलन बना रहे, वाले डांस किए जा सकते हैं। साथ ही इस दौरान अपने स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखें।

स्क्रॉल करके पढ़ें कि कौन से डांस प्रेगनेंसी में नहीं करने चाहिए।

गर्भावस्था में मुझे किस प्रकार के नृत्य से बचना चाहिए?

प्रेगनेंसी के दौरान यह भी जानना जरूरी हो जाता है कि किस प्रकार से डांस गर्भावस्था में नहीं करने चाहिए। इसके लिए निम्नलिखित बिंदुओं पर ध्यान दिया जा सकता है :

  • वो डांस न करें, जिसमें ज्यादा शारीरिक गतिविधि का प्रयोग किया जाता हो, जैसे बैलेट और भरतनाट्यम।
  • उछल-कूद वाले डांस बिल्कुल न करें, जैसे हिप-हॉप और कंटेंपरेरी।
  • साथ ही उन डांस को भी ट्राई न करें, जिन्हें आपने पहले कभी न किया हो।
  • इसके अलावा, गरबा, गिद्दा, भांगड़ा व घूमर जैसे लोक नृत्य भी न करें।

अब जानिए प्रेगनेंसी में डांस से जुड़े फायदों के बारे में।

गर्भावस्था के दौरान डांस करने के फायदे

जैसा कि हमने ऊपर जिक्र किया कि हल्की एक्सरसाइज के रूप में डांस को प्रेगनेंसी के दौरान किया जा सकता है। इससे गर्भवती को निम्नलिखित स्वास्थ्य फायदे हो सकते हैं (1) :

  • शरीर में सही रक्त संचार को बढ़ावा मिल सकता है। इससे प्रीक्लेम्पसिया होने की आंशका कम हो जाती है।
  • शरीर के लचीलेपन को बनाया रखा जा सकता है, ताकि महीने दर महीने बढ़ते वजन को संभालाा आसान हो सके।
  • तनाव को दूर रखने में मदद मिल सकती है। डॉक्टरों का मानना है कि गर्भावस्था के दौरान हल्का-फुल्का डांस करने से शरीर में एंडोर्फिन नामक हॉर्मोन का निर्माण होता है। एंडोर्फिन हॉर्मोन के जरिए मन हमेशा खुश रहता है।
  • थकान को दूर करने का काम कर सकता है।
  • प्रसव के दौरान दर्द को कम करने में मदद कर सकता है।
  • समय से पहले प्रसव के जोखिम को कम कर सकता है।
  • जन्म के दौरान बच्चे के कम वजन के जोखिम को भी कम करने में मदद कर सकता है।
  • उन मांसपेशियों को मजबूत कर सकता है, जिनकी प्रसव के दौरान अहम भूमिका होती है।
  • शरीर में रक्त का प्रवाह बेहतर हो सकता है, जिससे हृदय और फेफड़े ठीक तरह से काम कर पाते हैं।
  • जिन महिलाओं के लिए जिम जाना संभव नहीं है, उनके लिए डांस करना बेहतर विकल्प है।

आइए, अब जानते हैं इस दौरान डांस करने से जुड़ी सावधानियों के बारे में।

गर्भावस्था के दौरान डांस करते समय सावधानियां

वैसे तो डांस गर्भावस्था में सुरक्षित है, फिर भी कुछ सावधानियां बरतना जरूरी है। इसकी जानकारी हम नीचे दे रहे हैं :

  • किसी डांस ट्रेनर की देखरेख में ही डांस करें।
  • डांस करने से पहले वार्म अप सेशन अवश्य लें।
  • डांस करते समय पानी हमेशा साथ रखें और थोड़ी-थोड़ी देर में पीते रहें।
  • डांस ऐसे कमरे में करें, जो वातानुकूलित (Air conditioned) हो। इससे ज्यादा पसीना नहीं आएगा और थकान कम महसूस होगी। ध्यान रहे, कमरा ज्यादा भी वातानुकूलित नहीं होना चाहिए, बल्कि इतना हो कि जिससे शरीर को कोई असुविधा न हो।
  • डांस करने वाली जगह पर स्पेस ज्यादा होना चाहिए।
  • डांस करते समय हमेशा कोशिश करें कि एक पैर तो जमीन पर हो, जिससे शरीर का संतुलन बना रहे।
  • डांस क्लासेस के दौरान अपने परिवार के किसी सदस्य को साथ जरूर रखें।
  • रोजाना डांस न करें। हफ्ते में दो-तीन दिन डॉक्टरी परामर्श पर डांस किया जा सकता है।
  • साथ ही गर्भावस्था का समय बढ़ने के साथ ही डांस करने का समय कम करें।
  • कुछ भी नया प्रयोग करने से पूर्व डॉक्टर या ट्रेनर से सलाह अवश्य लें।

लेख में अब जानेंगे गर्भावस्था में डांस कब न करें।

आपको डांस कब नहीं करना चाहिए?

निम्नलिखित स्थितियों में एक गर्भवती को डांस नहीं करना चाहिए।

  • अगर डॉक्टर ने सहमति न दी हो, तो डांस बिल्कुल न करें।
  •  शारीरिक कमजोरी व थकान हो, तो भी डांस न करें।
  • प्रेगनेंसी से जुड़ी किसी जटिलता जैसे – प्लेसेंटा प्रिविया, अगर पहले कभी समयपूर्व प्रसव की समस्या या अन्य कोई परेशानी रही हो तो ऐसी स्थिति में डांस न करें।
  • डांस करते समय कुछ भी असहज महसूस हो, तो भी डांस न करें।
  • इसके अलावा, अगर आपका मन न हो, तो जबरदस्ती डांस न करें।

अब जानते हैं कि डॉक्टर से कब मिलना चाहिए।

डॉक्टर से कब मिलें

गर्भावस्था में कोई भी शारीरिक गतिविधि करते समय खुद का विशेष ध्यान रखें। छोटे से छोटे बदलाव पर भी नजर रखें। इस दौरान कुछ भी असुविधाजनक लगे, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। खासकर, इन बातों का जरूर ध्यान रखें (2) :

तो आपने जाना कि गर्भावस्था में डांस किस प्रकार फायदेमंद हो सकता है। डॉक्टरी परामर्श पर एक स्वस्थ गर्भावस्था में डांस के फायदे उठाए जा सकते हैं। बस इस दौरान आपको लेख में बताई गई सावधानियों का ध्यान रखना होगा। साथ ही लेख में बताई गई शरीर की उन समस्याओं और लक्षणों पर खासतौर पर ध्यान देना होगा, जिनके सामने आते ही आपको डांस नहीं करना है और डॉक्टर से जल्द से जल्द संपर्क करना है। उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपके लिए मददगार साबित होगा। इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए मॉमजंक्शन के अन्य लेख जरूर पढ़ें।

संदर्भ (Resources) :