प्रेगनेंसी में टिटनेस का इंजेक्शन कब और क्यों लगाना चाहिए ? | Tetanus Vaccine In Pregnancy In Hindi

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

प्रेगनेंसी के समय गर्भस्थ शिशु के स्वास्थ्य के लिए महिलाओं को कई तरह की वैक्सीन की जरूरत पड़ती है। इन वैक्सीन की मदद से ही आने वाले शिशु को भविष्य में होने वाली समस्याओं से बचाया जा सकता है। ऐसी ही एक वैक्सीन टिटनेस भी है। गर्भावस्था के दौरान टी.टी. इंजेक्शन क्यों लगवाना चाहिए, इसकी पूरी जानकारी मॉमजंक्शन के इस लेख में विस्तार से दी गई है। यहां टी.टी. वैक्सीनेशन से जुड़ी ध्यान रखने योग्य बातों पर भी चर्चा की गई है।

आइए, लेख को शुरू करते हुए जानते हैं कि टीटी इंजेक्शन क्या होता है।

टिटनेस टॉक्साइड (टी.टी.) इंजेक्शन क्या है ? | tt injection in pregnancy in hindi

टिटनेस एक गंभीर बीमारी है, जो क्लोस्ट्रीडियम बैक्टीरिया से होती है। ये बैक्टीरिया ​मिट्टी, लार, धूल और खाद में पाए जाते हैं। शरीर में ये आसानी से किसी कटे व जले हुए भाग से प्रवेश कर लेते हैं। जैसे कि लोहे की वस्तु से चोट लगने वाली जगह से। इस संक्रमण के कारण पूरे शरीर की मांसपेशियों में दर्द भरा खिंचाव महसूस होता है। साथ ही जबड़ा ठीक से नहीं खुलता और चीजों को निगलने में परेशानी होती है (1)।

टिटनेस की समस्या से बचने के लिए टिटनेस टॉक्साइड का इंजेक्शन लगाया जाता है। टिटनेस टॉक्साइड एक तरह की वैक्सीन है, जो इस समस्या से सुरक्षित रखने का काम करती है। इसे प्रेगनेंसी के समय लगवाना गर्भवती और भ्रूण दोनों के लिए सुरक्षित माना गया है। इससे प्रेगनेंट महिला और उसके गर्भस्थ शिशु को टिटनेस इंफेक्शन की चपेट में आने से बचाया जा सकता है (2)।

चलिए, सबसे पहले समझते हैं कि गर्भावस्था के समय टिटनेस का इंजेक्शन क्यों लगाना चाहिए।

प्रेगनेंसी में टिटनेस का इंजेक्शन क्यों लगाना चाहिए?

गर्भावस्था में हर छोटी-बड़ी समस्या के पनपने का ज्यादा जोखिम होता है। इस समय अगर महिला के शरीर में कट लग जाता है या कही पर जल जाता है, तो इससे उसे टिटनेस इन्फेक्शन हो सकता है। इस संक्रमण का असर आने वाले शिशु पर भी नजर आ सकता है। इसी वजह से टिटनेस टॉक्साइड वैक्सीन लगवाना जरूरी होता है (3)।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) के आंकड़ों के मुताबिक, प्रति वर्ष 200,000 से अधिक नवजात शिशुओं की मृत्यु टिटनेस के कारण हो जाती है। ऐसे में टिटनेस टॉक्साइड वैक्सीन को गर्भावस्था के समय लगाने से नवजात को टिटनेस इंफेक्शन से बचाया जा सकता है, इसलिए गर्भावस्था के समय टिटनेस का इंजेक्शन लगवाना चाहिए। साथ ही यह प्रीमैच्योर यानी समय से पहले जन्म लेने और समय से पहले प्रसव को रोकने में मदद कर सकता है (3)।

लेख के अगले भाग में जानिए कि प्रेगनेंसी में टीटी का इंजेक्शन कब और कितनी बार लगाना चाहिए।

गर्भावस्था के दौरान टीटी का इंजेक्शन किस महीने में और कितनी बार लगता है ? | tt injection during pregnancy which month in hindi

भारत में राष्ट्रीय टीकाकरण अनुसूची ने गर्भवती महिलाओं को टिटनेस टॉक्सोइड (टीटी) की 2 डोज यानी खुराक लगाने की सलाह दी है। इसकी पहली डोज प्रेगनेंसी का पता चलते ही जल्द-से-जल्द लगवानी चाहिए। पहली डोज लगवाने के 4 सप्ताह बाद दूसरा इंजेक्शन लगवाया जाता है (3)।

इसके अलावा, अगर कोई महिला 3 साल बाद दूसरी बार गर्भवती हुई है और उसे पहले प्रेगनेंसी में दो बार टीटी का टीकाकरण लग चुका है, तो उसे इस समय सिर्फ एक ही डोज लगेगी। इस डोज को ​बूस्टर खुराक कहा जाता है (3)।

कुछ विशेषज्ञ का यह भी मानना है कि टीटी की दूसरी डोज डिलीवरी की संभावित तारीख से 4 हफ्ते पहले दी जानी चाहिए। डब्ल्यूएचओ की मानें, तो टीटी की दूसरी डोज लगाने के 6 महीने बाद महिला को तीसरी डोज भी लगवाई जाए, तो 5 साल तक टिटनेस के जोखिम से सुरक्षा मिल सकती है (3)।

आगे हम गर्भावस्था में टीटी इंजेक्शन लगाते वक्त ध्यान देने वाली बातें बता रहे हैं।

प्रेगनेंसी के दौरान टीटी का इंजेक्शन लगाते समय ध्यान रखने योग्य बातें

गर्भवती को टीटी का इंजेक्शन लगवाते समय कई बातों को ध्यान में रखना जरूरी होता है। इन बातों के बारे में हम नीचे बता रहे हैं ।

  • गर्भवती को टीटी के इंजेक्शन को लेकर बताए गए सभी निर्देशों का पालन करना होगा (4)।
  • इस बात का ध्यान रखें कि वैक्सीन देने वाला उसकी शीशी को अच्छे से हिलाकर वैक्सीन को इंजेक्शन में भरे (4)।
  • वैक्सीन की शीशी बर्फ में ज्यादा जमी हुई नहीं होनी चाहिए (4)।
  • दूसरी डोज के लिए निर्धारित दिन पर ही डॉक्टर के पास जाएं। डेट को मोबाइल कैलेंडर में जोड़कर रखें।
  • वैक्सीन लगवाने के बाद उस जगह को बार-बार न छुएं और न ही खुजलाएं।
  • इसे लगाने के बाद किस तरह के लक्षण दिखाई देंगे, इस बारे में डॉक्टर से पूछ लें और उन लक्षणों के अलावा कोई गंभीर लक्षण दिखाई दे, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

टीटी के इंजेक्शन से मां या आने वाले शिशु को कोई जोखिम हो सकता है या नहीं, यह समझिए

गर्भावस्था में टीटी का इंजेक्शन न लगाने से मां या होने वाले बच्चे को कोई खतरा हो सकता है?

वैसे तो प्रेगनेंसी के समय टिटनेस का इंजेक्शन लगवाना मां और भ्रूण दोनों के लिए सुरक्षित होता है। इससे किसी तरह का नुकसान नहीं होता। फिर भी वैक्सीन लगवाने के बाद गर्भवतियों में कुछ आम लक्षण नजर आ सकते हैं। हालांकि, आने वाले शिशु में इसका किसी तरह का लक्षण नहीं दिखाई देता है। गर्भवतियों में ये लक्षण नजर आ सकते हैं (2)।

  • इंजेक्शन लगने वाले जगह पर एरिथेमा यानी लाल दाने, सूजन और दर्द होना।
  • इसे लगवाने के बाद पूरे शरीर में दर्द हो सकता है।
  • गर्भवतियों को इसे लगाने के बाद कुछ समय के लिए बहुत थकान महसूस हो सकती है।
  • कुछ लोगों को इस वैक्सीनेशन के बाद बुखार जैसे लक्षण भी दिख सकते हैं।

प्रेगनेंसी में होने वाले छोटे-बड़े जोखिमों को दूर रखने के लिए वैक्सीन लगाना जरूरी है। इस समय डॉक्टर के पास जाकर टीटी वैक्सीन से जुड़ी पूरी जानकारी प्राप्त करने के बाद इसे लगवाएं। हम उम्मीद करते हैं कि इस लेख में दी गई जानकारी से टीटी वैक्सीनेशन के बारे में अच्छे से पता चल गया होगा। इस तरह की प्रेगनेंसी से संबंधित अन्य जानकारी प्राप्त करने के लिए मॉमजंक्शन के दूसरे लेख भी पढ़ें।

संदर्भ (Sources) :

Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
The following two tabs change content below.

    ताज़े आलेख