रिलेशनशिप में डिप्रेशन: कारण व प्रभाव | Relationship Depression Se Bachne Ke Upay

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

हर रिश्ता प्यार और विश्वास पर टिका होता है। वहीं, अगर इसमें दरार आ जाए तो इसे टूटते देर नहीं लगती और लोग अवसाद के शिकार हो जाते हैं। ऐसे में मॉमजंक्शन के इस लेख में हम बताएंगे कि रिलेशनशिप में डिप्रेशन किन कारणों से होता है और इसका लोगों पर क्या प्रभाव पड़ता है। साथ ही यहां हम रिश्तों में अवसाद से बचने के कुछ टिप्स भी आपको देंगे।

सबसे पहले समझते हैं कि रिश्तों में अवसाद होना क्या है।

रिश्तों में डिप्रेशन क्या है ?

रिश्तों में डिप्रेशन तब होता है, जब वहां एक दूसरे से मनमुटाव शुरू हो जाता है। अगर इसे और भी आसान भाषा में समझें तो प्यार भरे रिश्ते में अगर विश्वास की कमी हो और दरार आ जाए साथ ही उनके बीच तालमेल न बैठे तो फिर वहां अवसाद की स्थिति पैदा होने लगती है और रिश्ता टूटने की कगार पर आ जाता है। इसे ही रिलेशनशिप डिप्रेशन यानी रिश्तों में अवसाद कहा जाता है।

यहां हम बताएंगे कि रिश्तों में डिप्रेशन क्यों होता है।

रिलेशनशिप में डिप्रेशन के क्या कारण हैं ? | Relationship Depression ka kya karan hai

अगर हम रिश्ते में डिप्रेशन के कारणों की बात करें, तो व्यस्त जीवन इसका मुख्य कारण हो सकता है। दरअसल, आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग इतने व्यस्त हो गए हैं कि उनके पास अपने परिवार के लिए समय ही नहीं बचता है। इस कारण उनके बीच दूरियां बढ़ने लगती है और वे अकेलेपन का शिकार होने लगते हैं। यही अकेलापन उनके अवसाद का कारण बनता है और यहीं से रिश्तों में डिप्रेशन की शुरुआत होती है।

स्क्रॉल कर जाने रिश्तों में डिप्रेशन के प्रभाव।

रिश्तों में अवसाद का क्या प्रभाव पड़ता है ?

रिश्तों में अवसाद के निम्नलिखित प्रभाव पड़ सकते हैं, जो कुछ इस प्रकार है:

  • अवसाद के कारण चिड़चिड़ापन हो सकता है।
  • रिश्तों में डिप्रेशन के कारण व्यक्ति मानसिक रूप से प्रभावित हो सकता है।
  • इसके अलावा तनाव के कारण अकेलापन भी महसूस हो सकता है।
  • अगर रिश्ते में डिप्रेशन बढ़ जाए तो लोग एक दूसरे का ख्याल रखना छोड़ सकते हैं।
  • अवसाद के कारण उनका काम भी प्रभावित हो सकता है।
  • साथ ही अवसाद के कारण दूसरे रिश्ते भी प्रभावित हो सकते हैं।

अंत में जानें रिलेशनशिप में अवसाद से बचने के टिप्स।

रिलेशनशिप में होने वाले डिप्रेशन से बचने के उपाय | Tips to deal with depression in relationship in hindi

रिलेशनशिप में होने वाले डिप्रेशन से बचने के लिए नीचे बताए गए उपायों को अपना सकते हैं :

  • एक दूसरे को समय दें – जैसा कि हमने लेख में बताया कि रिश्तों में अवसाद का मुख्य कारण है व्यस्त जीवन। ऐसे में जरूरी है कि आप अपने पार्टनर को समय दें। इससे किसी को अकेलापन महसूस नहीं होगा और आपसी प्यार भी बना रहेगा।
  • आपस में सुख-दुख बांटे – मन में किसी बात का बोझ लिए घूमने से टेंशन बढ़ती ही है। इसलिए अगर
    अवसाद से बचना है तो जरूरी है कि आपस में सुख दुख को बांटते रहें। इससे मन हल्का रहेगा और तनाव भी नहीं होगा।
  • पार्टनर को डेट पर ले जाएं – रिलेशनशिप में अगर अवसाद की समस्या नहीं आने देना चाहते हैं, तो जब भी समय मिले समय-समय पर अपने पार्टनर को डेट पर लेकर जाएं। ऐसा करने से आपके रिश्ते में प्यार और विश्वास दोनों बढ़ेगा।
  • सरप्राइज दें – इसके अलावा, एक दूसरे को सरप्राइज या फिर उपहार भी देते रहे। इससे आपका पार्टनर हमेशा खुश रहेगा और कभी भी रिश्ते में तनाव नहीं आएगा।
  • काउंसलिंग लें – अगर, गंभीर अवसाद की समस्या से जूझ रहे हैं, तो ऐसे में काउंसलिंग लेने से न झिझकें। इससे आपको आपकी समस्या का हल मिलेगा और जल्द आप अवसाद की समस्या से निजात पा सकेंगे।

रिश्ते में प्यार और स्नेह बना रहे, तो डिप्रेशन की संभावना काफी कम हो जाती है। ऐसे में जरूरी है कि रिलेशनशिप में प्यार को बनाकर रखा जाए। वहीं, इस लेख में हम रिलेशनशिप में डिप्रेशन के कारणों और उसके प्रभावों को बताया है। साथ ही रिलेशनशिप में होने वाले डिप्रेशन से बचने के उपायों का भी जिक्र यहां किया गया है। अंत में हम उम्मीद करते हैं कि हमारा यह लेख आपके लिए मददगार साबित होगा।

The following two tabs change content below.