किशोरावस्था में झुर्रियां: कारण, इलाज व बचाव | Wrinkles At Young Age In Hindi

Wrinkles At Young Age In Hindi

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

आज कल की इस भागदौड़ भरी जिंदगी में चेहरे पर झुर्रियां पड़ना कोई बड़ी बात नहीं है। हां, अगर ये झुर्रियां कम उम्र में ही चेहरे पर दिखने लगे तो, यह चिंता का विषय है। ऐसे में जरूरी हो जाता है कि समय रहते इसका इलाज किया जाए। मॉमजंक्शन के इस लेख में हम इसी बारे में जानकारी लेकर आए हैं। यहां हम टीनएजर्स में झुर्रियों के लिए घरेलू उपचार तो बताएंगे ही, साथ-ही-साथ इसके कारण और लक्षण भी समझाएंगे।

सबसे पहले यह जानते हैं कि टीनएजर्स में झुर्रियां होना कितना सामान्य है।

क्या टीनएजर्स में झुर्रियां होना सामान्य है? | Teenage mein wrinkles ki samasya

नहीं, टीनएजर्स में झुर्रियां होना सामान्य नहीं है। दरअसल, त्वचा पर झुर्रियां होना बढ़ती उम्र के लक्षणों में से एक है (1)। ऐसे में टीनएज में झुर्रियां होना सामान्य नहीं माना जा सकता है। हालांकि, कुछ मामलों में यह समस्या किशोरावस्था में देखी जा सकती है। जैसे कि अनुवांशिकता या फिर अधिक समय तक सूर्य के संपर्क में रहना (1)। इसके अलावा, टीनएजर्स को झुर्रियां होने के अन्य कारण लेख के अगले भाग में पढ़ें।

अब बारी है उन कारणों को जानने की, जिनसे टीनएज को झुर्रियों हो सकती है।

टीनएज में झुर्रियां होने के कारण | Causes of wrinkles in teens in hindi

समय से पहले चेहरे पर झुर्रियां कई वजहों से दिख सकती हैं। यहां हम क्रमवार उन्हीं कारणों की चर्चा कर रहे हैं।

  1. सूर्य के संपर्क में आना – चेहरे पर झुर्रियां पड़ने का सबसे आम कारण धूप में ज्यादा निकलना है। दरअसल, जब त्वचा यूवी किरणों के संपर्क में आती है, तो इसमें कई प्रकार के परिवर्तन होते हैं। इसके परिणाम स्वरूप त्वचा समय से पहले बूढ़ी दिखने लगती है। यही नहीं, यूवी किरणें त्वचा की पिगमेंटेशन को भी बिगाड़ सकती हैं, जिससे त्वचा पर दाग धब्बे पड़ने लगते हैं (2)।
  1. ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस – त्वचा की उम्र बढ़ने के अलावा त्वचा को नुकसान पहुंचाने में ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। बताया जाता है कि ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस के कारण आरओएस यानी डाइऑक्सीजन में बढ़ोतरी होने लगती है। इस वजह से कोलेजन उत्पादन में कमी आती है, जिससे त्वचा पर झुर्रियां पड़ने लगती हैं (3)।
  1. अधिक मात्रा में चीनी का सेवन – त्वचा पर होने वाली झुर्रियों का एक कारण अधिक मात्रा में चीनी के सेवन को भी माना जा सकता है। इससे जुड़े एक रिसर्च में बताया गया है कि ग्लाइकोसिलेशन यानी अत्यधिक मात्रा में चीनी का सेवन शरीर में प्रोटीन के कार्य को प्रभावित कर सकता है। इस वजह से त्वचा पर झुर्रियां पड़ सकती हैं (3)।
  1. नींद की कमीनींद की कमी के कारण भी चेहरे पर झुर्रियां हो सकती हैं। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में बताया गया है कि कुछ मामलों में नींद की कमी के कारण आंखों के नीचे झुर्रियां पड़ सकती हैं (4)।
  1. सिगरेट का धुआं – एक शोध से जानकारी मिलती है कि तंबाकू के धुएं का भी त्वचा पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। दरअसल, तंबाकू के धुएं में मौजूद कंपाउंड कोलेजन के उत्पादन में रुकावट पैदा कर सकते हैं, जिस वजह से त्वचा पर झुर्रियां पड़ सकती है (5)।
  1. आनुवंशिक कारक – कुछ मामलों में आनुवंशिक कारकों को भी टीनएज में झुर्रियों का कारण माना जा सकता है। अगर किसी के परिवार में उन्हें त्वचा पर झुर्रियां होने की समस्या रही है, तो यह समस्या उनके बच्चों को भी हो सकती है (1)।
  1. चेहरे का हाव भाव – अगर लगातार एक ही तरह से चेहरे का एक्सप्रेशन बनाया जाए, तो यह भी झुर्रियों का कारण बन सकता है (6)। उदाहरण के लिए, भौंह उठाना। अगर लगातार ऐसा किया जाता है, तो इस वजह से माथे पर झुर्रियां पड़ सकती हैं (2)।
  1. प्रदूषण के कारण – वायु प्रदूषण के कारण भी त्वचा पर झुर्रियां हो सकती हैं। दरअसल, हवा में फैले दूषित पदार्थ त्वचा की इलास्टिन और कोलेजन को नुकसान पहुंचा सकते हैं, जो त्वचा पर झुर्रियों के जोखिमों को बढ़ा सकते हैं (7)।
  1. रूखी त्वचा – चेहरे में झुर्रियां त्वचा के रूखेपन के कारण भी हो सकती है। इस बात की पुष्टि एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध से होती है। इस रिसर्च के मुताबिक, ड्राई स्किन भी त्वचा की फाइन लाइन्स को प्रभावित कर सकती है, जिससे चेहरे पर झुर्रियां पड़ सकती हैं (8)।
  1. खराब खानपान और कम पानी पीना – त्वचा के लिए संतुलित आहार का सेवन करना भी जरूरी माना गया है। अगर इसमें कमी की गई, तो भी चेहरे पर झुर्रियां पड़ सकती है। इसके अलावा, शरीर में पानी की कमी को भी त्वचा की झुर्रियों का कारण माना जा सकता है (3)।

लेख के इस भाग में रिंकल्स के लक्षणों पर एक नजर डाल लेते हैं।

किशोरावस्था में झुर्रियों के लक्षण

किशोरावस्था में त्वचा पर होने वाली झुर्रियों के लक्षण कुछ खास नहीं होते, क्योंकि झुर्रियां खुद ही बढ़ती उम्र का एक लक्षण है (1)। हां, झुर्रियां पड़ने पर त्वचा किस तरह की दिखती है, उसकी चर्चा हम नीचे कर रहे हैं।

  • त्वचा का पतला होने लगना
  • चेहरे की मांसपेशियों का ढीला होना
  • त्वचा में महीन रेखाओं का दिखना
  • सूजन आना
  • स्किन इलास्टिसिटी का घटना

अब झुर्रियों से निजात पाने के घरेलू नुस्खे जान लीजिए।

टीनएजर्स में झुर्रियों के लिए घरेलू उपचार | Home remedies for wrinkles in teenagers in hindi

यहां हम घर बैठे चेहरे की झुर्रियों को हटाने के लिए घरेलू उपाय लेकर आए हैं। इनकी मदद से झुर्रियां कुछ कम हो सकती हैं।

1. एलोवेरा

सामग्री :

  • एक चम्मच एलोवेरा जेल

उपयोग का तरीका :

  • एलोवेरा जेल को अपनी हथेलियों में लेकर चेहरे की मालिश करें।

कैसे है फायदेमंद :

एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित शोध की मानें, तो चेहरे से झुर्रियों हटाने के लिए एलोवेरा जेल कारगर साबित हो सकता है। बताया जाता है कि एलोवेरा जेल त्वचा में कोलेजन के उत्पादन को बढ़ाकर झुर्रियों को कम कर सकता है। साथ ही इसे स्किन इलास्टिसिटी सुधारने के लिए भी जाना जाता है (9)।

2. जोजोबा ऑयल

सामग्री :

  • कुछ बूंद जोजोबा ऑयल

उपयोग करने का तरीका :

  • जोजोबा ऑयल को हाथों में लगाकर चेहरे की मालिश करें।
  • फिर एक घंटे के लिए उसे वैसे ही छोड़ दें।
  • इसके बाद साफ पानी से चेहरा धो लें।

कैसे है फायदेमंद :

चेहरे की झुर्रियों को कम करने के लिए जोजोबा ऑयल का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। दरअसल, जोजोबा ऑयल में त्वचा की झुर्रियों को कम करने की क्षमता होती है। साथ ही यह त्वचा की नमी को भी बरकरार रख सकता है (10)। ऐसे में यह माना जा सकता है कि जोजोबा ऑयल त्वचा की ड्राइनेस को कम कर उसे झुर्रियों की समस्या से भी बचा सकता है।

3. शहद

सामग्री :

  • आधा चम्मच शहद

उपयोग करने का तरीका :

  • अपनी उंगलियों से शहद को प्रभावित हिस्से पर लगाएं।
  • जब शहद अच्छी तरह से लग जाए, तो उसे आधे घंटे के लिए छोड़ दें।
  • फिर गुनगुने पानी से चेहरा धो लें।

कैसे है फायदेमंद :

त्वचा के लिए शहद को बहुत गुणकारी माना जा सकता है। इस पर हुए शोध बताते हैं कि शहद का इस्तेमाल कई प्रकार के कॉस्मेटिक उत्पादों में किया जाता है। इसमें त्वचा को नमी देने वाला गुण होता है। साथ ही यह त्वचा पर पड़ने वाली झुर्रियों को कम कर उसे जवां बनाए रख सकता है। यही नहीं, शहद स्किन के पीएच स्तर को भी नियंत्रित कर उसे संक्रमण से बचा सकता है (11)।

4. शिया बटर

सामग्री :

  • एक चम्मच शिया बटर

उपयोग करने का तरीका :

  • सबसे पहले अपने साफ हाथों में शिया बटर लगाएं और उससे चेहरे की मालिश करें।
  • फिर एक घंटे तक उसे वैसे ही रहने दें और समय पूरा हो जाने पर ठंडे पानी से चेहरा धो लें।

कैसे है फायदेमंद :

कॉस्मेटिक उत्पादों में शिया बटर का भी इस्तेमाल किया जाता रहा है। इस पर हुई रिसर्च से यह जानकारी मिलती है कि शिया बटर त्वचा के लिए कई मायनों में लाभकारी साबित हो सकता है। यह त्वचा की झुर्रियों को कम करने के साथ-साथ उसे ड्राई होने से भी बचा सकता है (12)। इस आधार पर शिया बटर का भी इस्तेमाल झुर्रियों को कम करने के लिए किया जा सकता है।

5. विटामिन -ई

सामग्री :

  • 3 से 4 विटामिन-ई कैप्सूल

उपयोग करने का तरीका :

  • सबसे पहले विटामिन-ई कैप्सूल के जेल को एक बर्तन में निकाल लें।
  • अब उसे चेहरे के प्रभावित हिस्सों पर लगाएं।

कैसे है फायदेमंद :

त्वचा की झुर्रियों को कम करने के लिए विटामिन-ई का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। दरअसल, विटामिन-ई में फोटो एजिंग यानी समय से पहले पड़ने वाली झुर्रियों को कम करने के गुण मौजूद होते हैं। इस बात की जानकारी एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध से होती है (13)। इस आधार पर यह कहना गलत नहीं होगा कि विटामिन-ई का उपयोग कर त्वचा की झुर्रियों को कम किया जा सकता है।

घरेलू उपचार के बाद हम झुर्रियों के लिए मेडिकल ट्रीटमेंट के बारे में जानेंगे।

किशोरावस्था में झुर्रियों के लिए इलाज

अगर घरेलू नुस्खे अपनाने के बाद भी चेहरे की झुर्रियां कम नहीं हो रही हों, तो डॉक्टर से इलाज की आवश्यकता पड़ सकती है। इसी वजह से यहां हम बता रहे हैं कि झुर्रियों के लिए इलाज किन-किन तरीकों से किया जा सकता है।

  1. सनस्क्रीन चेहरे की झुर्रियों को कम करने के लिए सनस्क्रीन का इस्तेमाल सबसे बेहतरीन माना जाता है। यह एक प्रकार की क्रीम होती है, जो सूर्य की हानिकारक किरणों से बचाने के साथ ही झुर्रियों को छुपाने में भी मदद कर सकता है (2)।
  1. केमिकल पील्स त्वचा की झुर्रियों को कम करने के लिए केमिकल पील्स का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके जरिए स्किन को टाइट कर उसे पुनर्जीवित करने का प्रयास किया जा सकता है (14)।
  1. लाइट डिवाइस का इस्तेमाल इसमें कई तरह की प्रक्रिया शामिल हैं, जैसे कि लेजर थेरेपी, इंटेस्ट पल्सड लाइट आदि। इन सभी का इस्तेमाल कर चेहरे की झुर्रियों का इलाज किया जा सकता है (14)।
  1. बोटुलिनम टॉक्सिन यह एक तरह का इंजेक्शन होता है। इसे बोटोक्स इंजेक्शन के नाम से भी जाना जाता है। इससे झुर्रियों के लिए जिम्मेदार त्वचा की मांसपेशियों के साथ-साथ आंखों और मुंह के आसपास की महीन रेखाओं में सुधार कर सकता है। इसका प्रभाव 6 से 9 महीने तक ही रहता है (2)।
  1. हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी – चेहरे की झुर्रियों को कम करने के लिए इस थेरेपी का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें त्वचा की लोच और थिकनेस को बढ़ाकर झुर्रियों को कम किया जाता है (15)।
  1. फोटोडायनेमिक थेरेपी: यह एक प्रकार की थेरेपी है, जो आमतौर पर कष्टदायक नहीं होती। इसमें एक प्रकाश के इस्तेमाल से चेहरे की फाइन लाइन्स को ठीक कर बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम किया जाता है (16)।

लेख के अंत में जानेंगे किशोरावस्था में पड़ने वाली झुर्रियों से बचाव के टिप्स।

टीनएजर्स में झुर्रियों की रोकथाम

अगर समय रहते कुछ बातों का ध्यान रखकर सही तरीके से त्वचा की देखभाल की जाए, तो इससे झुर्रियों की समस्या से बचा जा सकता है। इसी वजह से हम यहां कुछ ऐसे टिप्स बता रहे हैं, जो किशोरावस्था में पड़ने वाली झुर्रियों से बचाने में मददगार साबित हो सकते हैं (1)।

  • त्वचा की झुर्रियों से बचने के लिए, जितना हो सके धूप में निकलने से बचें।
  • अगर कुछ काम के लिए धूप में निकलना पड़ रहा है, तो अपनी त्वचा को अच्छी तरह से ढक कर निकलें।
  • धूप में निकलने से पहले सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना न भूलें।
  • धूम्रपान से परहेज करें।
  • त्वचा को रूखी होने से बचाएं। इसके लिए नियमित रूप से मॉइस्चराइजर को अपने स्किन केयर रूटीन में शामिल करें।
  • पानी का सेवन करते रहें।
  • खानपान पर ध्यान दें और जितना हो सके संतुलित आहार का ही सेवन करें।

वैसे तो टीनएजर्स में झुर्रियों की समस्या आम नहीं मानी जाती है। फिर भी कुछ मामलों में किशोरों को यह समस्या झेलनी पड़ सकती है, जिसके पीछे लेख में बताए गए कारण जिम्मेदार होते हैं। इसी वजह से यहां हमने झुर्रियों के लिए घरेलू उपचार और उससे बचाव के तरीके बताए हैं। इन टिप्स को अपनाकर टीनएजर्स अपनी त्वचा पर समय से पहले बूढ़ापे के लक्षण आने से रोक सकते हैं।

संदर्भ (Sources) :

  1. Wrinkles
    https://medlineplus.gov/ency/article/003252.htm
  2. Wrinkles
    https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/wrinkles
  3. Diet and Skin Aging—From the Perspective of Food Nutrition
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7146365/
  4. Cues of Fatigue: Effects of Sleep Deprivation on Facial Appearance
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3738045/
  5. Tobacco smoke causes premature skin aging
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/17951030/
  6. New wrinkles on wrinkling: an 8-year longitudinal study on the progression of expression lines into persistent wrinkles
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20184587/
  7. Airborne Particle Exposure and Extrinsic Skin Aging
    https://www.jidonline.org/action/showPdf?pii=S0022-202X(15)34645-5
  8. Skin aging and dry skin
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15492432/
  9. Dietary Aloe Vera Supplementation Improves Facial Wrinkles and Elasticity and It Increases the Type I Procollagen Gene Expression in Human Skin in vivo
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2883372/
  10. Anti-Inflammatory and Skin Barrier Repair Effects of Topical Application of Some Plant Oils
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5796020/
  11. Honey in dermatology and skin care: a review
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24305429/
  12. Shea butter extraction technologies: Current status and future perspective
    https://academicjournals.org/journal/AJBR/article-full-text-pdf/BC101F860142
  13. Vitamin E in dermatology
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4976416/
  14. Skin anti-aging strategies
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3583892/
  15. Effect of estrogens on skin aging and the potential role of SERMs
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2685269/
  16. Photodynamic therapy for aesthetic-cosmetic indications
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/29600693/
The following two tabs change content below.