Fact Checked

गर्भवती महिलाओं के लिए सर्दी में अपना ख्याल रखने के 15 टिप्स | Pregnancy Care During Winter In Hindi

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

गर्भवती महिलाओं को हर समय अपना खास ध्यान रखने की जरूरत होती है, लेकिन सर्दी के मौसम में उन्हें और भी फिक्रमंद रहना चाहिए। सर्दियों में गर्भवती महिलाओं को कई समस्याएं होने की आशंका रहती है। ऐसे में जिन गर्भवती महिलाओं को यह पता नहीं है कि वो सर्दियों में अपना ध्यान कैसे रखें, तो उनके लिए हम लेकर आए हैं मॉमजंक्शन का यह खास लेख। इस लेख के लिए गर्भवती महिला जान पाएगी कि सर्दियों में उसे खुद की देखभाल कैसे करनी चाहिए।

चलिए, सबसे पहले जानते हैं कि गर्भवती महिला को सर्दियों में किन बाताें का ध्यान रखना चाहिए।

गर्भवती महिला सर्दी में अपना ख्याल कैसे रखे? | Sardi Me Pregnancy Ke Liye Tips In Hindi

सर्दी के मौसम में खानपान से लेकर पहनावे में काफी बदलाव करना पड़ता है। इन्हीं बदलाव से जुड़े 15 जरूरी टिप्स हम यहां बता रहे हैं, जो हर गर्भवती के लिए मददगार साबित हो सकते हैं।

  1. विंटर जैकेट का उपयोग : सर्दियों के मौसम में गर्भवती को अपने शरीर को गर्म रखना चाहिए। इसके लिए विंटर जैकेट पहनना अच्छा होगा। गर्भावस्था के लिए आरामदायक विंटर जैकेट का चयन करें। सर्दी से बचने के लिए भारी लेदर जैकेट की जगह फॉर्म के गर्म जैकेट को पहनना बेहतर होगा।
  1. मोजे पहनकर रखें : सर्दी के दिनों में पैरों में बहुत ज्यादा ठंड लगती है। इससे बचने के लिए गर्भवती को ज्यादातर समय गर्म मोजे पहनकर रखने चाहिए। इससे पैरों को गर्म रखने में मदद मिल सकती है, जिससे गर्भवती को अच्छा महसूस होगा। कोशिश करें सोते समय और जब जरूरी हो तभी मोजों को उतारें।
  1. पानी और तरल पदार्थ : सर्दी के मौसम में शरीर को हाइड्रेट रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी और जूस का सेवन करें। इस अवस्था में एक बार में ज्यादा मात्रा में पानी का सेवन करने की बजाय कुछ वक्त के अंतराल में पानी और तरल पदार्थ पीते रहना चाहिए। बेहतर होगा कि पानी को गुनगुना करके सेवन किया जाए। इससे पानी में मौजूद बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं। सर्दी में सही जूस के सेवन के लिए डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं।
  1. फ्लू वैक्सीन लगवाएं : सर्दी के मौसम में फ्लू होने का जोखिम बना रहता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं को सर्दी का मौसम शुरू होते ही फ्लू की वैक्सीन लगवा लेनी चाहिए। इससे फ्लू से बचा जा सकता है। इससे भविष्य में होने वाली समस्याओं को पनपने से रोकने में मदद मिल सकती है। ध्यान रहे कि गर्भवती महिला कोई भी वैक्सीन या दवा डॉक्टर की सलाह के बिना न लगाए (1)
  1. योग करें : गर्भवती महिलाओं को हर मौसम में योग करना चाहिए। योग शरीर और मन को शांत रखने का काम कर सकता है। इससे गर्भावस्था में मानसिक तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है। साथ ही यह ब्लड सर्कुलेशन को भी दुरुस्त रखता है। ऐसे में ठंड के दिनों में योग प्रशिक्षक की देखरेख में गर्भवती नियमित रूप से योग कर अपनी देखभाल कर सकती है (2)
  1. साफ-सफाई बनाए रखें : सर्दियों में गर्भवती खुद को साफ-सुथरा रखे। समय-समय पर हाथों को साबुन से धोते रहें। साथ ही नहाने के लिए गुनगुने पानी का उपयोग करें और उस पानी में एंटी-सेप्टिक की कुछ बूंदें भी डालें। इसके अलावा, गर्भवती के कमरे की साफ-सफाई भी होती रहनी चाहिए।
  1. त्वचा को मॉइस्चराइज रखें : ठंड के दिनों में त्वचा में रूखापन आ जाता है, जिस कारण त्वचा फटने लगती है। ऐसे में सर्दियों में त्वचा को मॉइस्चराइज रखने के लिए अच्छे किस्म के मॉइस्चराइजर का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे त्वचा में नमी बनाए रखने में मदद मिल सकती है।
  1. नियमित मालिश : गर्भवती को सर्दी के दौरान नियमित रूप से शरीर की मालिश करवानी चाहिए। शरीर की मालिश करने पर ब्लड सर्कुलेशन बेहतर हो सकता है। साथ ही यह शरीर को गर्म रखने में भी मदद कर सकता है। मालिश के लिए अच्छे तेल का इस्तेमाल करना चाहिए, जो त्वचा को कई तरह के लाभ पहुंचा सकता है।
  1. धूप में सनक्रीम लगाएं : सर्दी के समय सूरज की रोशनी बहुत सुकून देती है और शरीर मे विटामिन डी के मात्रा को पूरा करती है। ऐसे में लोग ठंड में धूप लेने के लिए घर से बाहर आते हैं। इस समय अगर कोई गर्भवती धूप में निकलती है, तो उसे सनक्रीम लगाना चाहिए। इससे त्वचा को सूरज की नुकसानदायक किरणों से होने वाले क्षति से बचाया जा सकता है।
  1. कमरे में ह्यूमिडिफायर लगाएं : सर्दी में हवा से नमी की मौजूदगी कम हो जाती है। इससे रात में सोते समय गले और नाक में सूखापन महसूस हो सकता है। सोते समय सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। सर्दियों में गर्भवती को इस समस्या से बचाने के लिए कमरे में ह्यूमिडिफायर लगा सकते हैं। ह्यूमिडिफायर हवा में नमी को बनाए रखने का काम कर सकता है।
  1. ताजा आहार का सेवन : ताजे आहार के सेवन से ही शरीर को सही मायने में लाभ होता है। ऐसे में सर्दियों में गर्भवती को स्वस्थ और ताजे खाद्य पदार्थों का ही सेवन करना चाहिए। खासकर हरी पत्तेदार सब्जियों व फलों को अपने आहार में शामिल करना चाहिए।
  1. विटामिन-सी युक्त आहार : गर्भावस्था के दौरान शरीर को अधिक मात्रा में विटामिन-सी की आवश्यकता होती है। ऐसे में सर्दियों में गर्भवती को अधिक मात्रा में विटामिन-सी युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। इसके लिए खट्टे फल, लाल और हरी मिर्च, टमाटर, ब्रोकली और साग ले सकते हैं (3)
  1. डॉक्टर से नियमित चेकअप : सर्दी के मौसम में गर्भवती को समय-समय पर डॉक्टर से चेकअप कराना चाहिए। नियमित चेकअप से गर्भवती के स्वास्थ्य में आए किसी भी परिवर्तन के बारे में जाना जा सकता है। साथ ही उस परिवर्तन का सही इलाज भी किया जा सकता है।
  1. जंक फूड परहेज करें : ठंड के दिनों में गर्भवती को जंक फूड के सेवन से बचना चाहिए। जंक फूड का स्वास्थ्य पर बुरा असर हो सकता है, जो गर्भावस्था के लिए उचित नहीं होता है। इस दौरान अधिक तले हुए, डिब्बाबंद और नूडल्स जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन करने से परहेज करें।
  1. शरीर को पर्याप्त आराम दें : एक गर्भवती महिला को हमेशा समय का पाबंद रहना चाहिए। पर्याप्त नींद लें। गर्भवती को कम से कम 8 से 9 घंटे की नींद लेनी चाहिए। इससे शरीर को पर्याप्त आराम मिल जाता है। नींद पूरी होने से कई समस्याओं से बचने में सहायता मिल सकती है।

इस लेख के अगले भाग में हम गर्भवती को सर्दी में होने वाली परेशानियों के बारे में बताने जा रहे हैं।

गर्भवती महिला को सर्दी में होने वाली परेशानियां

सर्दी के मौसम में गर्भवती को कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। सर्दियों में गर्भवती महिलाओं को ऐसी समस्याएं होने पर कई वैज्ञानिक शोध उपलब्ध नहीं है:

  • ठंड के दिन में गर्भवती को रूखी त्वचा की समस्या हो सकती है।
  • गर्भावस्था में विंटर के समय पोषक तत्वों की कमी हो सकती है।
  • नाक बंद होने की समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  • इस दौरान गले में खराश हो सकती है।
  • शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो सकती है।

चलिए अब जानते हैं कि सर्दियों में गर्भावस्था के दौरान क्या खाना चाहिए।

गर्भवती महिला को सर्दी में क्या खाना चाहिए? | Sardi Ke Mausam Me Pregnancy Kya Khaye

सर्दियों के दिनों में गर्भवती महिलाओं को खानपान में बहुत से बदलाव करने की जरूरत होती है। इस दौरान खाए जाने वाले आहार कुछ इस प्रकार हैं (4):

  • इस समय सब्जी के तौर पर ब्रोकली, पालक, पत्ता गोभी, फूलगोभी और तुरई का सेवन कर सकते हैं।
  • प्रेगनेंसी में ठंड के दिनों में ड्राइड बीन्स और नट्स खा सकते हैं।
  • सर्दी के मौसम में कम वसा वाले दूध को गर्म करके पी सकते हैं।
  • इस समय कॉर्न सूप बनाकर पिया जा सकता है।
  • ठंड में गर्भवती गर्म रोटी और चावल का सेवन कर सकती है।

सर्दी के मौसम में गर्भवती महिलाएं अपना ध्यान आसानी से रख सकती हैं। उन्हें बस सही सलाह की जरूरत होती है, जिसके बारे में हमने इस लेख में बताने की कोशिश की है। इससे गर्भावस्था में सर्दी के मौसम का बिना किसी तरह की परेशानी के सामना किया जा सकता है। सर्दी के दिनों में सही खानपान की जानकारी भी इस लेख में दी गई है, जो गर्भवती के लिए मददगार साबित हो सकती है। हम उम्मीद करते हैं कि हमारे इस लेख में दी गई सभी जानकारियां पाठक के काम आएंगी।

संदर्भ (Reference):