✔ Fact Checked

मैटरनिटी बैग में क्या-क्या रखना चाहिए? | Maternity Bag Me Kya Saman Rakhe

महिला हो या पुरुष, अपनी जरूरत की चीजों के बिना रह पाना मुश्किल होता है। वहीं, बात अगर गर्भवती महिला की हो, तो काम की चीजों को एक जगह इकट्ठा रखना और भी जरूरी हो जाता है। खासकर, डिलीवरी से पहले ही सभी जरूरी चीजों का एक बैग बना लेना चाहिए। अब इस बैग में क्या-क्या सामान होना चाहिए और किस सामान को कैसे रखना है, मॉमजंक्शन के इस आर्टिकल में हम इसी बारे में बताएंगे।

आर्टिकल के सबसे पहले भाग में हम इस बारे में बताएंगे कि बैग पैक करने की शुरुआत कब से की जाए।

In This Article

अस्पताल बैग कब पैक करें?

डिलीवरी के दिन नजदीक आने पर गर्भवती को किसी भी समय प्रसव का दर्द हो सकता है, जिससे उसे तत्काल अस्पताल में भर्ती करना पड़ सकता है। ऐसे में गर्भवती और उसके साथ अस्पताल में रहने वालों के लिए जरूरी सामान पहले ही पैक कर लेना ज्यादा उचित होगा। अस्पताल बैग पैक करने का अच्छा समय गर्भावस्था के 34वें और 35वें सप्ताह के दौरान का होता है, जिसके बाद डिलीवरी का समय शुरू हो जाता है। इसलिए, अस्पताल जाने से पहले ही सारी पैकिंग हो जाए, तो अस्पताल में किसी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

अगर आप यह सोचकर परेशान हैं कि अस्पताल बैग में क्या-क्या रखें, तो हम आपकी इसी उलझन को दूर किए देते हैं।

हॉस्पिटल बैग में क्या रखें? | Delivery Ke Liye Hospital Me Kya Leke Jaye

अस्पताल बैग में रोजाना इस्तेमाल होने वाली चीजों को रखा जाता है। डिलीवरी के लिए अस्पताल जाने से पहले तीन तरह के बैग तैयार किए जाते हैं, जिनके बारे में हम यहां विस्तार से बता रहे हैं :

नई मां के लिए

  1. डाक्यूमेंट्स– अस्पताल जाने से पहले जरूरी डाक्यूमेंट्स को साथ रखना न भूलें। इनमें, पहचान पत्र, बीमा कार्ड और गर्भवती के मेडिकल जांच से जुड़ी रिपोर्ट्स शामिल होती हैं।
  1. कपड़ेमैटरनिटी बैग में ढीले और आरामदायक कपड़े रखें। इसके लिए आपको अलग से नए कपड़े खरीदने की जरूरत नहीं है। रोजाना उपयोग वाले साफ कपड़े ही इस्तेमाल करें, क्योंकि प्रसव के समय कपड़ों पर रक्त लग सकता है। साथ ही ध्यान रहे कपड़े में सामने बटन होना चाहिए, जिससे शिशु को दूध पिलाने में आसानी हो। इसके अलावा, कंबल और शॉल भी साथ रखें।
  1. चप्पल– अस्पताल में पहनने के लिए आरामदायक चप्पल रखें। साथ ही कुछ जोड़ी मोजे भी रख लें, ताकि पैर गंदगी से दूर रहें।
  1. तकिया (Pillows)– हॉस्पिटल बैग में सॉफ्ट और आरामदायक तकिया रखें, जो अच्छी नींद लेने में सहायक होगा।
  1. सैनिटरी पैड्स– अस्पताल बैग में अतिरिक्त सैनिटरी पैड्स रखना आपके लिए सुविधाजनक हो सकता है, क्योंकि प्रसव से पहले और बाद में इसकी जरूरत पड़ सकती है।
  1. चश्मा और लेंस– अगर आप चश्मा या लेंस का इस्तेमाल करते हैं, तो बैग में इन्हें भी रखें।
  1. गैजेट्स– ज्यादातर लोग मोबाइल तो रख लेते हैं, लेकिन चार्जर रखना भूल जाते हैं। ऐसे में आप अपना मोबाइल, चार्जर और पोर्टेबल एमपी 3 प्लेयर को भी पैक कर सकते हैं।
  1. किताबें– अगर आप किताब पढ़ने के शौकीन हैं, तो अपने साथ कुछ मनपसंद किताब पैक कर लें। डिलीवरी से पहले और बाद में कुछ दिन अस्पताल में रहना होता है, जिस कारण आप उब सकते हैं। ऐसे में किताब आपके समय को अच्छे से बिताने में सहायक हो सकती हैं।
  1. मसाज ऑयल प्रसव के बाद हाथ और पैर के दर्द और थकान से राहत पाने के लिए उच्च किस्म का मसाज ऑयल भी रख लें। ध्यान रहे कि आप डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही मालिश करें (1)
  1. स्नैक्स– अस्पताल में आपको हफ्तों रहना पड़ सकता है। ऐसे में आप कुछ स्नैक्स भी पैक कर लें। इसके लिए आप एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।
  1. नर्सिंग एड्स– अस्पताल बैग में मैटरनिटी नर्सिंग ब्रा भी ले जा सकते हैं, जो स्तनपान के दौरान सहायक होंगी।
  1. स्तनपान संबंधी सामान– स्तनपान के लिए ब्रेस्ट पंप की आवश्यकता पड़ सकती है। वैसे यह कई अस्पताल द्वारा भी दिया जाता है। इसलिए, बैग पैक करने से पहले अस्पताल में इसके बारे में पता कर लें।
  1. एब्डोमिनल कम्प्रेशन बाइंडर– अगर डिलीवरी सिजेरियन हुई है, तो इसे सर्जरी के बाद पेट में लगे चीरे से राहत पहुंचाने में सहायक माना जाता है। इसकी सहायता से उठने-बैठने और चलने-फिरने में मदद मिल सकती है।
  1. अन्य सामान– प्रतिदिन उपयोग किए जाने वाले सामान रखें। जैसे तौलिया, साबुन, शैंपू, कंडीशनर, लिप बाम, टूथब्रश, टूथपेस्ट, हेयर क्लिप, हेयर बैंड और मॉइस्चराइजर आदि।

गर्भवती के लिए बैग पैक की लिस्ट के बाद अब शिशु के बैग की बात कर लेते हैं।

बच्चे के लिए

  1. कपड़े– नवजात शिशु के लिए हमेशा सुविधाजनक कपड़े ही पैक करें, ताकि उसके त्वचा पर किसी तरह की समस्या उत्पन्न न हो। साथ ही शिशु के शरीर को साफ करने के लिए मलमल के कपड़े भी रखें।
  1. डायपर– शिशु को जन्म के बाद से ही डायपर की आवश्यकता पड़ सकती है। इसलिए, क्लाथ डाइपर, घर में बनी तिकोनी या बाजार के बने अधिक पानी सोखने वाले डाइपर रख सकते हैं।
  1. बोतल– आप शिशु के लिए दूध की बोतल भी रख सकते हैं। कुछ मामलों में सिजेरियन डिलीवरी के बाद मां इस अवस्था में नहीं होती है कि शिशु को स्तनपान करा सके, ऐसे में बोतल की जरूरत पड़ सकती है।
  1. मोजा– अस्पताल से घर लाते समय शिशु को पहनने के लिए मोजा भी रख सकते हैं।
  1. कंबल– शिशु को ठंड से बचाने के लिए मुलायम कंबल भी पैक कर लें, जो नींद के समय शिशु को गर्माहट देने का काम करेगा।

अपने साथी के लिए

  1. स्नैक्स– गर्भवती के साथ जाने वाले को अपने लिए अतिरिक्त स्नैक्स लेकर जाना चाहिए, क्योंकि वह गर्भवती को अकेले छोड़कर बार-बार खाने पीने की वस्तु लेने नहीं जा सकता।
  1. कैश और कार्ड– अस्पताल और दवाई के लिए कैश की जरूरत पड़ सकती है। ऐसे में गर्भवती के साथ आने वाले की यह जिम्मेदारी होती है कि जरूरत के अनुसार कैश या फिर कार्ड मनी साथ रखे।
  1. जरूरी गैजेट्स– गर्भवती के साथ आए व्यक्ति को भी कुछ दिन अस्पताल में रहना पड़ सकता है। ऐसे में अपना मोबाइल, चार्जर, ईयरफोन और अगर ऑफिस का काम करना है, तो लैपटॉप भी पैक कर लें।
  1. अन्य जरूरी सामानकपड़े, कंबल, शॉल, तकिया, चप्पल, तौलिया, साबुन, शैंपू, कंडीशनर, टूथब्रश व टूथपेस्ट आदि पैक कर लें।

ऊपर हमने आपको क्या पैक करना चाहिए बात दिया, आगे क्या पैक नहीं करना चाहिए यह बताएंगे।

ऐसी चीजें जो आपको अस्पताल बैग में नहीं ले जानी चाहिए

अस्पताल के लिए बैग पैक करते समय ध्यान रहे कि नीचे बताएं जाने वाले किसी तरह के सामान को पैक न करें।

  • अगर आप ज्वेलरी पहन कर अस्पताल जाती हैं, तो आपके चेक-अप के दौरान उन्हें निकालना पड़ सकता है। इससे ज्वेलरी चोरी भी हो सकती हैं। साथ ही इस प्रकार की वस्तुएं बिस्तर से उठने या सोने के दौरान शरीर को चोट पहुंचा सकती हैं।
  • ऐसी दवाइयां, जिनका डॉक्टर ने इस्तेमाल करने से मना किया हो।
  • अनावश्यक कपड़ों को पैक न करें।
  • कैमरा या कैमकॉर्डर न रखें।

कई अस्पतालों में गर्भवती महिला को अपने यहां से ही अस्पताल में पहनने के कपड़े, स्लीपर व नवजात बच्चे के कपड़े आदि दिए जाते हैं। साथ ही बाहर की खाद्य सामग्री लाने के लिए भी मनाही होती है। आप पूरा बैग बनाएं भी और सामान फिर साथ ले जाने न दिया जाए, तो चिड़चिड़ाहट हो ही जाती है। इस परिस्थिति से बचने के लिए एक बार अपने चयनित अस्पताल या मैटरनिटी सैंटर के मैनजमेंट स्टाफ से भर्ती के समय के नियमों (एडमिशन रूल्स/पॉलिसी) के बारे में पहले ही बात कर लें।

नोट : आपको बैग पैक में कोई परेशानी न हो, उसके लिए हम यहां चेकलिस्ट दे रहे हैं। हालांकि, यह लिस्ट सी-सेक्शन के लिए है, लेकिन इसमें दी गई कई चीजें नॉर्मल डिलीवरी में भी काम आती हैं

उम्मीद है कि इस लेख को पढ़कर अस्पताल बैग पैक करने के संबंध में आपकी सभी शंकाएं दूर हो गई होंगी। साथ ही कब से पैकिंग शुरू करनी चाहिए, यह भी आप अच्छे से समझ गए होंगे। इसलिए, अगर आपकी डिलीवरी नजदीक है, तो बैग पैक करते समय छोटी से छोटी बात का ध्यान रखें। कोई भी जरूरी सामान छूटना नहीं चाहिए, अन्यथा आपको व होने वाले शिशु को समस्या हो सकती है। समय रहते बैग पैक करने से अंतिम समय में हड़बड़ाहट की स्थिति पैदा नहीं होती।

References

MomJunction's articles are written after analyzing the research works of expert authors and institutions. Our references consist of resources established by authorities in their respective fields. You can learn more about the authenticity of the information we present in our editorial policy.
  1. Effect of foot and hand massage in post-cesarean section pain control: a randomized control trial By NCBI
Was this article helpful?
Like buttonDislike button
The following two tabs change content below.