Fact Checked

क्या गर्भावस्था के दौरान काला मल त्यागना सामान्य है? | Pregnancy Mein Black (Dark) Potty Ana

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

गर्भावस्था में कई प्रकार के शारीरिक परिवर्तन देखने को मिलते हैं। इनमें से कुछ परिवर्तन तो सामान्य होते हैं और कुछ ऐसे होते हैं, जो किसी गंभीर बीमारी का लक्षण हो सकते हैं। उन्हीं लक्षणों में से एक है, गर्भावस्था में काला मल होना। गर्भावस्था में काला मल होने के कई कारण हो सकते हैं और यह कई समस्याओं का लक्षण भी हो सकता है, जिसकी जानकारी होना जरूरी है। यही वजह है कि मॉमजंक्शन के इस लेख में हम गर्भावस्था में काला मल होने के कारण, निदान और उपचार के बारे में विस्तार से बता रहे हैं।

तो आइए सबसे पहले प्रेगनेंसी में काला मल होना सामान्य है या नहीं, यह जान लेते हैं।

गर्भावस्था में काला मल आना सामान्य है? | Pregnancy Mein Black Potty Ana

आमतौर पर गर्भावस्था में महिलाओं को आयरन की पूर्ति के लिए आयरन सप्लीमेंट लेने की सलाह दी जाती है। ऐसे में इन आयरन सप्लीमेंट की वजह से मल का रंग काला दिख सकता है (1)। वहीं गहरे रंग के खाद्य (जैसे :- काली मुलेठी, ब्लूबेरी और लाल सॉसेज) का सेवन भी मल को काला बना सकता है (2)। ऐसे में गर्भावस्था में काला मल आना सामान्य माना जा सकता है। इसके अलावा गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ब्लीडिंग (आंत में रक्तस्त्राव) के कारण भी गर्भावस्था में काला मल दिखाई दे सकता है, जो कि एक असामान्य स्थिति है (3)। इस मामले में बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

आगे पढ़ें काले मल के साथ दिखाई देने वाले कुछ अन्य लक्षणों के बारे में।

कुछ अन्य लक्षण जो काले माल के साथ-साथ दिख सकते हैं

कारण के आधार पर काले मल के साथ कुछ अन्य लक्षण दिखाई दे सकते हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं (2):

यहां अब हम गर्भावस्था में काला मल होने के कारणों के बारे में बताएंगे।

गर्भावस्था के दौरान काला मल होने के कारण

प्रेगनेंसी में काला मल होने के कई कारण माने जाते हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं :

1. दवाओं का सेवन

कुछ विशेष दवाओं (बिस्मथ सबसालिलेट युक्त) का उपयोग गर्भावस्था के दौरान गहरे रंग के मल का कारण बन सकता है (4)। वहीं डायरिया की गंभीर स्थिति को देखते हुए डॉक्टर कम मात्रा में बिस्मथ सबसालिलेट युक्त दवा का सेवन करने की सलाह दे सकते हैं (5)। ऐसे में मल का रंग काला दिखाई दे सकता है।

2. खाद्य पदार्थों का सेवन

गहरे रंग के खाद्य पदार्थ जैसे :- काली मुलेठी, ब्लूबेरी और लाल सॉसेज के सेवन से मल का रंग काला दिखाई दे सकता है। वहीं चुकंदर और कृत्रिम लाल रंग युक्त खाद्य के सेवन के कारण मल लाल रंग का दिखाई दे सकता है, जो करीब-करीब काले मल के जैसा ही जान पड़ता है (2)। साथ ही यह समझना भी जरूरी है कि गर्भावस्था में कृतिम रंग युक्त खाद्यों का सेवन हानिकारक साबित हो सकता है (6)

3. आयरन सप्लीमेंट्स के कारण

आयरन सप्लीमेंट लेने के कारण भी मल का रंग काला हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान आयरन सप्लीमेंट्स का सेवन जरूरी माना जाता है। वहीं आयरन युक्त सप्लीमेंट्स का अधिक सेवन शरीर में आयरन की मात्रा को बढ़ा देता है, जिससे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (आंत संबंधी) साइड-इफेक्ट्स देखने को मिल सकते हैं, जिनमें सीने में जलन, मतली और उल्टी के साथ मल का काला होना भी शामिल है (1)

4. रक्तस्राव की वजह से

गर्भावस्था में रक्तस्राव के कारण भी काला मल आने की शिकायत हो सकती है। यह बात एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध से स्पष्ट होती है। शोध में जिक्र मिलता है कि आंत में घाव की स्थिति में होने वाले रक्तस्राव के कारण भी मल का रंग काला नजर आ सकता है। इसलिए इस स्थिति का आभास होते ही बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। नहीं तो, मां और होने वाले बच्चे दोनों को खतरा हो सकता है (3) (7)

आर्टिकल के इस हिस्से में हम गर्भावस्था में काले मल के निदान के बारे में जानेंगे।

काला मल होने के पीछे के कारणों का पता कैसे लगेगा?

गर्भावस्था के दौरान होने वाली काले मल की स्थिति के पीछे की असामान्य वजह का पता लगाने के लिए डॉक्टर निम्न जांच प्रक्रियाओं को उपयोग में ला सकता है (8)

  • सबसे पहले डॉक्टर शारीरिक परीक्षण करने के साथ ही गर्भवती की मेडिकल हिस्ट्री के बारे में पूछ सकता है।
  • संदेह होने पर डॉक्टर रक्त परीक्षण या मल परीक्षण कराने की सलाह दे सकता है।
  • लैक्टोज इंटॉलरेंस (दुग्ध उत्पादों में मौजूद शुगर को न पचा पाना) की स्थिति में डॉक्टर बायोप्सी (प्रभावित हिस्से का नमूना लेकर की जाने वाली जांच) कराने की सलाह दे सकते हैं।
  • इसके अलावा डॉक्टर आंत में घाव या रक्तस्त्राव की बारीकी से जांच के लिए कोलोनोस्कोपी या सिग्मायोडोस्कोपी जैसी जांच भी करा सकता है। बता दें, यह दोनों जांच प्रक्रिया कैमरे युक्त उपकरण के माध्यम से की जाती हैं, ताकि आंत की आंतरिक स्थिति को अच्छी तरह से देखा जा सके।

आगे अब हम प्रेगनेंसी में काला मल होने पर किए जाने वाले उपचार के बारे में जानेंगे।

गर्भावस्था के दौरान काला मल होने पर उपचार

गर्भावस्था में काला मल आने की असामान्य स्थिति के सामने आने पर डॉक्टर निम्न उपचार की प्रक्रियाओं को इस्तेमाल में ला सकता है।

  • लेख में आपको पहले ही बताया जा चुका है कि गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ब्लीडिंग के कारण भी काले मल की समस्या हो सकती है (3)। ऐसे में अगर किसी को अधिक रक्तस्राव हो रहा है, तो इस दौरान अपर जीआई एंडोस्कोपी के माध्यम से इलाज (सर्जरी) कर समस्या को ठीक करने का प्रयास किया जा सकता है (9)
  • एसिडिटी के कारण होने वाली हल्की गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ब्लीडिंग की समस्या में कैल्शियम और मैग्नीशियम युक्त एंटासिड का इस्तेमाल किया जा सकता है (10)
  • इसके साथ ही एंडोस्कोपिक हेमोस्टैसिस (रक्तस्राव को रोकने के लिए आंतों में अन्दर से दिए जाने वाले इन्जेशन की प्रक्रिया) ऊपरी जीआई रक्तस्राव के उपचार में एक प्रभावी तकनीक हो सकती है (11)

यहां जानकारी दी जा रही है कि किस प्रकार से गर्भावस्था में काले मल से बचाव किया जा सकता है।

गर्भावस्था के दौरान काला मल होने से जुड़े बचाव

कुछ उपायों को अपनाकर कर गर्भावस्था में काले मल की समस्या से बचा जा सकता है। यहां हम बता रहे हैं प्रेगनेंसी में काले मल होने से बचाव के उपायों को।

1. धूम्रपान को करें ना

रिसर्च में पाया गया कि अधिक मात्रा में धूम्रपान करने पर यह गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल की समस्या का कारण बन सकता है जिससे मल में रक्त आ सकता है और यह काले मल का कारण बन सकता है। इसलिए धूम्रपान करने से बचना चाहिए (12)

2. लम्बा दौड़ने से बचें

माना जाता है कि गर्भावस्था में कुछ योग और व्यायाम गर्भवती और उसके बच्चे के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। वहीं अधिक दूरी तक दौड़ना काले मल की समस्या कारण भी बन सकता है। इसलिए अधिक दूरी तक दौड़ने से बचना चाहिए (13)

3. खानपान का रखें ध्यान

बैक्टीरिया या वायरस युक्त दूषित खानपान गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल की समस्या का कारण बन सकता है, जिससे मल में रक्त आ सकता है (14)। यही मल के काले होने की वजह भी बन सकता है। गर्भावस्था में अधिक पानी पीना और फाइबर युक्त खाद्य का सेवन समस्या से बचाव कर सकता है (15)

4. ओवर द काउंटर दवाओं के सेवन से बचें

कभी-कभी ओवर द काउंटर दवाओं (बिस्मथ सबसालिलेट युक्त दवा) का सेवन काले मल का कारण बन सकता है (4)। इसलिए कोशिश करें कि किसी भी प्रकार की दवा का सेवन बिना डॉक्टर की सलाह से न करें।

आगे जानते हैं कि काला मल होने की समस्या में डाॅक्टर की सलाह कब लेना चाहिए।

डॉक्टर से कब परामर्श करें

काला मल होने के साथ ही अगर आपको नीचे दिए गए लक्षण भी नजर आते हैं तो बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए (2)

  • मल के रंग में रक्त या कुछ भी परिवर्तन दिखे।
  • यदि काले मल के साथ ही खून की उल्टी हो।
  • चक्कर या बेहोशी जैसी स्थिति लगे।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

1. क्या प्रसवपूर्व विटामिन काला मल होने का कारण बन सकते हैं?

हां, काले मल का एक कारण विटामिन भी हो सकते हैं, दरअसल, गर्भावस्था में विटामिन डी सप्लीमेंट लेने की सलाह भी दी जाती है (16)। वहीं, एक अन्य रिसर्च में यह बात स्पष्ट हुई है कि विटामिन डी3 की अधिक मात्रा का सेवन काले मल का कारण बन सकता है (17)

2. क्या काला मल होना गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों में से एक है?

हां, काले मल का होना गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों में से एक हो सकता है। दरअसल, इस दौरान लिए जाने वाले आयरन सप्लीमेंट्स के कारण मल का रंग काला हो सकता है (18) (1)

3. क्या काला मल गर्भपात का संकेत है?

इस प्रकार का कोई शोध नहीं मिलता है कि काला मल होने के कारण गर्भपात हो सकता है।

गर्भावस्था के दौरान काला मल का होना सामान्य है और इसके कई कारण हो सकते हैं। इस बारे में आर्टिकल में विस्तार से बताया गया है। हालांकि, कुछ मामलों में यह किसी गंभीर समस्या का भी इशारा हो सकता है। इसलिए गर्भावस्था में काला मल होने के असामान्य कारणों पर भी जरूर गौर करें और जरा सा भी संदेह होने पर डॉक्टर से परामर्श करें। उम्मीद है, स्वस्थ गर्भावस्था को बनाए रखने में यह लेख काफी हद तक उपयोगी साबित होगा। गर्भावस्था से जुड़े ऐसे ही अन्य विषयों के बारे में जानने के लिए पढ़ते रहें मॉमजंक्शन

संदर्भ (References):

1. Efficacy and tolerability of low-dose iron supplements during pregnancy: a randomized controlled trial By citeseerx
2. Black or tarry stools By MedlinePlus
3. Life-threatening bleeding from gastric dieulafoy’s lesion in a pregnant woman with hellp syndrome: a case report and literature review By NCBI
4. ACG Clinical Guideline: Diagnosis, Treatment, and Prevention of Acute Diarrheal Infections in Adults By SPG
5. STATEMENT ON PREGNANCY AND TRAVEL By NCBI
6. DNA damage induced by red food dyes orally administered to pregnant and male mice By PubMed
7. Gastric and duodenal ulcers during pregnancy By PubMed
8. Bowel motions By BetterHealth
9. Endoscopic management and outcomes of pregnant women hospitalized for nonvariceal upper GI bleeding: a nationwide analysis By PubMed
10. Gastrointestinal diseases during pregnancy: what does the gastroenterologist need to know? By NCBI
11. Pharmacologic Treatment of Upper Gastrointestinal Bleeding By  NCBI
12. Impact of Cigarette Smoking on the Gastrointestinal Tract Inflammation: Opposing Effects in Crohn’s Disease and Ulcerative Colitis By NCBI
13. Effects of Exercise and Heat on Gastrointestinal Function By NCBI
14. Symptoms & Causes of Viral Gastroenteritis (“Stomach Flu”) By NIH
15. Water, Hydration and Health By NCBI
16. Vitamin D supplementation in pregnancy By NCBI
17. Effects of high doses of vitamin D3 on mucosa-associated gut microbiome vary between regions of the human gastrointestinal tract By NCBI
18. Recommended Guidelines For Preventing And Treating Iron Deficiency Anemia In Pregnant Women By NCBI

The following two tabs change content below.

Saral Jain