रिश्तों में विश्वास की डोर को मजबूत बनाने के 15 टिप्स | Tips To Build Trust In A Relationship In Hindi

Image: iStock

IN THIS ARTICLE

शक एक ऐसी बीमारी है, जो गहरे से गहरे रिश्ते को भी खोखला कर देती है। यही वजह भी है कि किसी भी रिश्ते की नींव को पक्का करने के लिए उसे विश्वास की मजबूत डोर से बांधें रखना जरूरी है। देखा जाए तो विश्वास किसी भी रिश्ते की बुनियाद होती है। इसलिए, लोग अक्सर अपने रिश्ते में विश्वास की डोर को कैसे मजबूत करें, इसके उपाय ढूंढते रहते हैं। ऐसे में मॉमजंक्शन के इस लेख में हम रिश्तों में विश्वास कायम रखने के सुझाव लेकर आए हैं। तो रिश्तों को मजबूत बनाने के टिप्स जानने के लिए लेख पूरा पढ़ें।

लेख में सबसे पहले यह समझते हैं कि रिश्ते में विश्वास क्या होता है।

एक रिश्ते में विश्वास क्या होता है?

विश्वास मन का एक अटूट डोर है, जो रिश्ते की नींव को मजबूत बनाए रख सकता है। अगर किसी रिश्ते में विश्वास होगा, तो व्यक्ति अपने साथी के साथ अपनी भावनाओं को लेकर काफी सहज महसूस कर सकता है। वह अपने मन की किसी भी उलझन को अपने पार्टनर के साथ निसंदेह साझा कर सकता है। देखा जाए, तो विश्वास न सिर्फ रिश्ते को मजबूत बना सकता है, बल्कि इसे सुरक्षित भी बना सकता है। यह कपल्स को एक-दूसरे के प्रति ईमादार बने रहने से लेकर उन्हें निस्वार्थ बने रहने की भी प्रेरणा देता है।

आगे पढ़ें रिश्ते में भरोसे का होना क्या अहमियत रखता है।

रिलेशनशिप में भरोसा होना क्यों जरूरी है?

रिश्ते में विश्वास का स्थान सबसे अहम और ऊंचा होता है। विश्वास की डोर रिश्तों को कठिन परिस्थियों में एकजुट रहने का साहस देती है। इसके अलावा भी ऐसी कई अहम भूमिकाएं हैं विश्वास की, जो यह साबित करती है कि किसी भी रिलेशनशिप में भरोसे का होना क्यों जरूरी होता है। इनके बारे में आप विस्तार से नीचे पढ़ें।

  1. रिश्ते को मजबूत बनाए : रिश्तों के टूटने का एक कारण विश्वास की कमी भी हो सकती है। यही कारण है कि रिश्तों में विश्वास का होना जरूरी है। अगर रिश्ते में भरोसा होगा, तो साथी एक-दूसरे को बिना किसी संकोच के अपने जीवनसाथी के रूप में स्वीकार करना पसंद कर सकते हैं और यही विश्वास उनके रिश्ते को मजबूत बना सकता है।
  1. प्यार बढ़ाए : बिना भरोसे के कपल्स के बीच प्यार का होना असंभव हो सकता है। हर कोई ऐसे रिश्ते में रहना पसंद करता है, जहां उसका साथी भी उसे उतना ही प्यार करे, जितना कि वह अपने पार्टनर से करता है। वहीं, अगर साथी को भरोसा हो कि उनका पार्टनर उनके जितना ही उनसे प्यार करते हैं, तो यही विश्वास उनके रिश्ते में प्यार बढ़ा सकता है। एक तरह से विश्वास रिश्ते में प्रेम की भावना को बढ़ावा देने की भूमिका भी निभा सकता है।
  1. गलतफहमी मिटाए : विश्वास की डोर रिश्ते में न सिर्फ प्यार बढ़ा सकता है, बल्कि यह रिश्ते में गलतफहमी के कारण पड़ने वाली दरार या किसी मतभेद को पनपने से भी रोक सकता है। इससे रिश्ते में आने वाली हर मुश्किल को दूर किया जा सकता है। जरूरत है तो बस एक पार्टनर को दूसरे पार्टनर पर भरोसा रखकर उनसे गलतफहमी से जुड़े बातों को साफ-साफ पूछने की और भरोसा दिखाकर उन बातों को दूर करने की।
  1. टूटे दिल को जोड़े : भरोसा, टूटे रिश्ते में मात खाए लोगों के लिए जीवन का नया सहारा भी बन सकता है। कहा जाता है कि अगर रिश्ते में भरोसा हो, तो व्यक्ति हर ठोकर और धोखे से खुद को उबार सकता है। अगर किसी को पुराने रिश्ते से धोखा मिला हो, तो नए रिश्ते में उसका विश्वासी पार्टनर उस दर्द को कम कर सकता है।
  1. रिश्ता सुरक्षित बनाए : आज भी ऐसे रिश्तों की कोई कमी नहीं है, जहां पर कपल्स साथी को शक भरी नजरों से देखते हैं। उनका यही शक मन में रिश्ते के टूटने से जुड़ी असुरक्षा की भावना बढ़ा सकता है। वहीं, अगर रिश्ते में भरोसा हो कि साथी कभी धोखा नहीं देगा या वह उन्हें छोड़कर नहीं जाएगा, तो इससे मन में रिश्ते के सुरक्षित होने की भावना बढ़ सकती है।
  1. मानिसक स्तर को अच्छा बनाए : रिश्ते में विश्वास का होना मानसिक स्थिरिता के लिए भी अहम माना जाता है। यह मन में उमड़ रही विभिन्न नकारात्मक भावनाओं को पनपने से रोक सकता है और रिश्ते के प्रति मन को शांत करने में मदद कर सकता है। इतना ही नहीं, रिश्ते में विश्वास होने पर साथी के गुस्सैल या विरोधी व्यवहार के पीछे छिपे कारणों का पता लगाने में भी मदद मिल सकती है। इसके अलावा, यह आश्वस्त भी करता है कि झगड़ा या बहस के बावजूद भी साथी के प्यार में कोई कमी नहीं होगी।
  1. रिश्ते को सकारात्मक ऊर्जा दे : अगर रिश्ते में भरोसा हो, तो साथी हर छोटी-छोटी बात पर खुद को सही साबित करने की होड़ से बच सकता है। भरोसे की डोर उन्हें एक-दूसरे की बातों पर सहमति जताने की सकारात्मक ऊर्जा दे सकता है। यह साथी के मन में इस भावना को बढ़ा सकता है कि उनके पार्टनर द्वारा लिए गए निर्णय व कार्य उनके रिश्ते के लिए अच्छे हो सकते हैं।
  1. अहमियत सिखाए : विश्वास की डोर कपल्स को व्यक्तिगत रूप से उनके जीवन का मोल सिखा सकता है। यह साथी को बताता है कि उनसे प्यार करने वाले शख्स के जीवन में उनका स्थान कितना खास है।

स्क्रॉल करें और पढ़ें रिश्तों को मजबूत बनाने के टिप्स।

रिश्तों में विश्वास की डोर को मजबूत बनाने के 15 उपयोगी टिप्स |  Tips to build trust in a relationship in hindi

आप अपने रिश्ते में विश्वास की डोर को कैसे करें मजबूत, इसके लिए लेख का यह भाग जरूर पढ़ें। यहां हमनें रिश्तों में विश्वास कायम रखने के सुझाव बताए हैं। यहां ऐसे 15 टिप्स दिए गए हैं, जो आपके रिश्ते में विश्वास का स्तर बढ़ाने में आपके लिए कारगर हो सकते हैं। तो रिश्तों को मजबूत बनाने के टिप्स कुछ इस प्रकार हैं :

  1. साथी को जानने की कोशिश करें : अगर पार्टनर की आदतें व उनका व्यवहार पता हो, तो उनपर भरोसा करना काफी आसान हो सकता है। इसी वजह से अपने साथी को जानने की पूरी कोशिश करें। भले ही रिश्ता नया हो या पुराना, जब भी मौका मिले साथी से उनके बारे में बात करें। एक-दूसरे से खुलकर अपनी पसंद-नापसंद जैसे मुद्दों को साझा करें।
  1. अपने वादें निभाएं : अगर पार्टनर से कोई वादा करते हैं, तो अपना वादा जरूर पूरा करें। ऐसा करने से कपल्स के बीच एक-दूसरे की कही बातों पर भरोसा करने का स्तर बढ़ सकता है।
  1. नजरें मिलाएं : साथी से जब भी कोई बात कहें, तो नजरें मिलाकर ही कहें। नजरें मिलाकर बात कहने पर साथी को बातों पर भरोसा करने में आसानी हो सकती है। वहीं, अगर बात करते समय पार्टनर नजरें चुराए, तो सामने वाले को ऐसा लग सकता है कि वह उनसे कोई बात छुपा रहा है या उनकी कही बातों में सच्चाई नहीं है। इसलिए, अगर चाहते हैं कि रिश्ते में भरोसा बढ़े, तो इस तरह की छोटी-छोटी सी आदतों का ध्यान रखें।
  1. भावनाओं का सम्मान है जरूरी : साथी की कही बातों का सम्मान करें। अगर वह किसी मुद्दें पर अपनी राय देते हैं या कोई फैसला लेते हैं, तो उसका सम्मान करें। उनकी बातों पर ध्यान दें, ताकि उन्हें लगे कि आप उन्हें अहमियत दे रहे हैं।
  1. अपनी गलती मानें : लाजमी है हर शख्स गलतियां कर सकता है, इसी वजह से रिश्तों में छोटी-मोटी तकरार होती रहती है। इसलिए, इस तरह की बातों को बड़ा मुद्दा न बनाएं। अपनी गलती का एहसास होने पर जल्द से जल्द साथी के सामने उसे स्वीकार करें।
  1. माफी मांगे माफ करना सीखें : एक माफी बड़े से बड़े झगड़े को सुलझा सकती है। इसलिए, अपनी गलतियों को न सिर्फ स्वीकार करें, बल्कि इसके लिए साथी से माफी मांगें और कोशिश करें कि भविष्य में ऐसी गलतियां दोहराए ना। इसके अलावा, अगर साथी अपनी किसी गलती का पछतावा करते हैं, तो उन्हें भी माफ करना सीखें। इस तरह की आदत रिश्ते में हो रहे मन-मुटाव को दूर कर सकता है और रिश्ते में भरोसा भी बढ़ा सकता है।
  1. छोटीछोटी खुशियों का ध्यान रखें : छोटी-छोटी खुशियों से मिलकर ही एक सुखी संसार बसाया जा सकता है। ऐसे में अपने साथी की छोटी-छोटी खुशियों का ध्यान रखें। उदाहरण के लिए अगर साथी को आईस्क्रीम या चॉकलेट खाना पसंद है, तो कभी-कभी बिना बताए उनके लिए आईस्क्रीम या चॉकलेट ला सकते हैं। इसके अलावा, जब भी मौका मिले बिना किसी प्लानिंग के पार्टनर को डेट, डिनर, लंच या मूवी पर ले जाएं। ऐसा करने से उनका प्यार पर भरोसा बढ़ेगा।
  1. पूरी बात कहें : अगर साथी से किसी गंभीर मुद्दों पर बात कर रहे हैं, तो हमेशा अपनी पूरी बात कहें और मुद्दे को खत्म करें। आधी-अधूरी बातों से साथी के मन में रिश्ते के प्रति संदेह हो सकता है, जो रिश्ते को कमजोर कर सकता है। इसी वजह से जब भी साथी से कोई बात कहें, तो उसे पूरी करें और स्पष्ट तरीके से उन्हें बताएं। इसके अलावा, सच को भी पूरा शेयर करें, क्योंकि आधा सच पूरे झूठ से भी बुरा होता है, इसलिए अपनी कोई भी बात आधा बोलकर न छोड़ें।
  1. मन में बातें रखें : पार्टनर के सामने अपनी बातों व विचारों को पारदर्शी तरीके से जाहिर करें। हमेशा उनके साथ व अपने रिश्ते के प्रति ईमानदार बनें रहें। इससे रिश्ते में संदेह की सुई नहीं घूमेगी और रिश्ते में विश्वास भी बढ़ सकता है।
  1. हर फैसले में उन्हें हिस्सा दें : व्यक्तिगत तौर पर कोई भी फैसला लेने की गलती न करें। ऐसा करने से साथी का भरोसा कम हो सकता है। इसी वजह से निजी पारिवारिक मामलों से लेकर सामाजिक मामलों में भी अपने साथी को शामिल करें। कोई भी फैसला लेने से पहले पार्टनर की राय लें और दोनों की भावनाओं का सम्मान करते हुए मिल-जुलकर फैसला लें। इससे पार्टनर के मन में रिश्ते के लिए भरोसा बढ़ सकता है।
  1. परिवार दोस्तों से मेल बनाए : किसी भी रिश्ते में परिवार व दोस्तों की एक अहम भूमिका होती है। ये न सिर्फ शुभचिंतक होते हैं, बल्कि मुश्किल वक्त में सबसे बड़े मददगार भी होते हैं। इसलिए, कपल्स को एक-दूसरे के दोस्तों व परिवार के सदस्यों के साथ भी अपने रिश्ते को अच्छा बनाना चाहिए। अगर उनके साथ वक्त गुजराने का समय नहीं भी मिलता है, तो बातचीत के जरिए उनसे दोस्ताना व्यवहार बनाए रखना चाहिए। साथ ही अगर पार्टनर भी आपके दोस्तों व परिवार से मिलना चाहता है तो उन्हें भी अपने परिवार या दोस्तों से मिलाएं। ऐसा करने से उन्हें भरोसा होगा कि आप उन्हें और अपने रिश्ते को लेकर गंभीर हैं।
  1. एकदूसरे का साथ दें : सपोर्टिव होना भी रिश्ते में भरोसे का स्तर बढ़ा सकता है। किसी भी बात या फैसले में अपने साथी का समर्थन करें। उदाहरण के लिए, अगर साथी कोई नया बिजनेस या कोई आर्थिक नुकसान से जुड़ा कुछ नया जोखिम लेना चाहते हैं, तो उनके इस फैसले में उनके साथ रहें। उनका समर्थन करने के साथ ही उनकी मदद भी करें। वहीं, अगर पार्टनर कोई गलत फैसला ले रहा है, तो उसमें उन्हें प्यार से समझाएं और उन्हें सही फैसला लेने के लिए गाइड करें।
  1. साथी को प्राथमिकता दें : जब भी कोई फैसला लें, कोई नया विचार बनाएं तो उसमें सबसे पहले अपने पार्टनर को शामिल करें। साथ ही उन्हें फैमिली इवेंट्स में भी साथ लेकर जाएं और मेहमानों से सम्मान के साथ उनका व अपने रिश्ते का परिचय कराएं। ऐसा करने से साथी के मन में भरोसा बढ़ सकता है। वह रिश्ते के प्रति अधिक गंभीर भी हो सकते हैं। हालांकि, ऐसा भी पार्टनर के रजामंदी के बाद ही करें। अगर पार्टनर परिवार व दोस्तों से मिलने में सहज महसूस करे तभी उन्हें उनसे मिलवाएं।
  1. आर्थिक स्थिति साझा करें : हर कोई अपना आर्थिक जीवन निजी व व्यक्तिगत रखना चाहता है, लेकिन अगर रिश्ते में भरोसा बढ़ाना है, तो पार्टनर के साथ अपनी आर्थिक स्थिति साझा कर सकते हैं। अपने खर्चों और सेविंग्स के बारे में उनसे खुलकर बात करें। कभी भी झूठा दिखावा न करें या पार्टनर अगर किसी चीज की मांग करे तो उसे दिखावे के लिए पूरा करने की कोशिश न करें। अगर शुरुआत में ऐसा करते हैं व अपनी आर्थिक स्थिति को छुपाते हैं और आगे चलकर अगर ऐसा नहीं कर पाते हैं तो यह मन-मुटाव का कारण हो सकता है। इसलिए, रिश्ते में भरोसे के लिए अपनी आर्थिक स्थिति को लेकर पारदर्शिता रखें।
  1. केयर करें : केयर करना भी रिश्ते में विश्वास की डोर को मजबूत कर सकता है। ऐसा करने से साथी को यह एहसास होगा कि इस रिश्ते में उनका स्थान कितना खास है। इससे साथी के मन में न सिर्फ प्यार व समर्पण बढ़ेगा, बल्कि रिश्ते के प्रति उनका भरोसा भी बढ़ सकता है।

बिना प्यार या विश्वास के रिश्ते खोखले होकर टूट जाते हैं। यह एक ऐसी ढाल है, जो रिश्ते को मजबूत बनाता है और उसमें प्यार, समर्पण, ईमानदारी व निष्ठा भी बढ़ाता है। इसी वजह से रिश्ते में प्यार के साथ-साथ विश्वास की डोर को मजूबत बनाने का हर संभव प्रयास करना जरूरी है। रिश्ते में विश्वास की डोर को कैसे करें मजबूत, इस संबंध में हमने यहां रिश्तों को मजबूत बनाने के टिप्स दिए हैं। अगर आपको लगता है कि यहां बताए गए कोई भी टिप्स आपके रिश्ते में नहीं है, तो आज से ही इनको अपनी आदत में शामिल करें और अपने रिश्ते की डोर को मजबूत बनाएं। साथ ही रिश्तों में विश्वास कायम रखने के सुझाव को हर किसी के साथ साझा करें।