प्रेग्नेंट नहीं होने के कारण | Pregnancy Na Hone Ki Wajah

Pregnancy Na Hone Ki Wajah

Image: Shutterstock

IN THIS ARTICLE

मां बनना हर महिला के लिए अहमियत रखता है। वैवाहिक जीवन में कदम रखने के बाद हर महिला गर्भधारण की प्रक्रिया से गुजरना चाहती है। इनमें से कुछ महिलाएं ऐसी हैं, जो गर्भधारण के लिए लगातार प्रयास तो करती हैं, लेकिन सफलता नहीं मिलती। ऐसे में आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। गर्भधारण न कर पाने के कई कारण हो सकते हैं, जिन पर गौर किया जाना जरूरी है। मॉमजंक्शन के इस लेख में हम आपको गर्भधारण न हो पाने के कुछ मुख्य कारणों के बारे में बताएंगे। साथ ही आपको उससे निजात पाने के तरीकों के बारे में भी जानकारी देंगे।

आइए, सबसे पहले हम उस सवाल का जवाब जानते हैं, जो गर्भधारण न कर पाने की स्थिति में हर महिला के मन में पनपता है।

गर्भवती होने के लिए एक महिला को कितना समय लगता है?

गर्भधारण में लगने वाले समय की बात करें, तो 30 साल से कम उम्र की स्वस्थ्य महिला (जिसके सभी प्रजनन अंग सही ढंग से काम कर रहे हैं) के गर्भवती होने की संभावना प्रत्येक मासिक चक्र के दौरान करीब 25 से 30 प्रतिशत तक होती है (1)। वहीं, इसके इतर यह संभावना महिला वजन, खानपान, संभोग के समय के आधार पर कम या ज्यादा हो सकती है। इन संभावित आंकड़ों को हम निम्न बिन्दुओं के जरिए समझने का प्रयास करते हैं (2) :

  • 35 साल से कम उम्र की 85 प्रतिशत महिलाएं एक साल यानी 12 मासिक चक्रों के अंदर गर्भधारण कर सकती हैं।
  • वहीं, 35 साल से कम उम्र की 90 प्रतिशत महिलाएं ऐसी भी हैं, जो एक साल का समय पूरा करने के बाद गर्भधारण कर पाती हैं।
  • अगर आपकी उम्र 35 से 39 साल के बीच है, तो 12 मासिक चक्रों के दौरान गर्भधारण की संभावना 70 से 75 प्रतिशत होती है।
  • 40 साल से 42 साल की उम्र पार करने वाली महिलाओं में 12 मासिक चक्रों के दौरान गर्भधारण का प्रतिशत महज 50 फीसदी ही रह जाता है।

आगे के लेख में हम गर्भवती न हो पाने के कारणों के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे।

गर्भवती नहीं होने के कारण? | Pregnant Na Hone Ke Karan

गर्भधारण न कर पाने के पीछे की वजह के बारे में बात करें, तो कई तरह की चिकित्सीय जटिलताओं के साथ दैनिक दिनचर्या भी इसके लिए जिम्मेदार हो सकती है। इसलिए, हम आपको लेख के माध्यम से सामान्य के साथ-साथ चिकित्सा संबंधी कारणों के बारे में भी विस्तार से बताएंगे।

आम कारण

  1. बहुत ज्यादा या बहुत कम संभोग : कई लोग ऐसा मानते हैं अधिक शारीरिक संबंध बनाने से गर्भधारण किया जा सकता है। वहीं, कुछ इसके लिए कम शारीरिक संबंध बनाने पर जोर देते हैं। उनका मानना होता है कि कम संभोग करने से वीर्य की गुणवत्ता बरकरार रहती है, जबकि वास्तव में ये दोनों ही स्थितियां महज एक भ्रम मात्र हैं। आइए, इन दोनों स्थितियों को थोड़ा बारीकी से समझते हैं।
    • अधिक शारीरिक संबंध- जानकारी के अभाव के चलते आज कई लोगों में गर्भधारण को लेकर बहुत प्रकार के भ्रम पनप गए हैं, जिनमें से एक है अधिक शारीरिक संबंध बनाना। आपको जानकार हैरानी होगी कि ऐसा करने से न केवल आप सामान्य के मुकाबले गर्भधारण के प्रयास में पिछड़ जाएंगे, बल्कि आपको कमजोरी, घुटनों में दर्द, पेशाब में जलन और चक्कर आना जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक अधिक संभोग करने से पुरुषों में वीर्य की मात्रा कम हो जाती है, जो गर्भधारण की प्रक्रिया को प्रभावित कर सकती है (1) (3)
    • बहुत कम संभोग- कुछ कम शारीरिक संबंध बनाने पर जोर देते हैं। ऐसे लोग मुख्य रूप से ओव्युलेशन (महिला में अंडों की सक्रियता का समय) के दिनों में ही शारीरिक संबंध बनाने को वरीयता देते हैं, ताकि उन्हें गर्भधारण में शत-प्रतिशत सफलता हासिल हो, जबकि यह सोच भी गर्भधारण में बाधा पैदा कर सकती है। कारण यह है कि प्रत्येक महिला में ओव्युलेशन की प्रक्रिया अलग-अलग समय पर शुरू होती है, जिसका अनुमान मात्र लगाया जा सकता है (4)। ऐसे में यौन सक्रियता की कमी आपको गर्भधारण के सुख से दूर कर सकती है।
  1. तनाव : विशेषज्ञों के मुताबिक तनाव गर्भधारण की प्रक्रिया को प्रभावित कर सकता है (5)। कारण यह है कि मानसिक दबाव आपकी शारीरिक गतिविधियों पर बुरा प्रभाव डालता है। इस कारण अगर महिला या पुरुष में से कोई एक भी तनाव की स्थिति में संभोग करता है, तो वह इस प्रक्रिया में प्राकृतिक रूप से शामिल नहीं हो पाता। नतीजतन, गर्भधारण न हो पाने की समस्या से जूझना पड़ता है।
  1. पुरुष में शुक्राणुओं की कमी : कई बार महिला के गर्भधारण में आ रही परेशानी का मुख्य कारण पुरुष साथी भी हो सकता है। कारण यह है कि जब पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या में कमी होती है, तो गर्भधारण में समस्या पैदा होती है (5)। इस संबंध के निदान और उपचार के लिए आपको चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।
  1. संभोग के बाद बाथरूम जाना : कई महिलाओं को संभोग के तुंरत बाद बाथरूम जाने की आदत होती है। वो अपने प्रजनन अंगों को अच्छी से साफ करती हैं, लेकिन ऐसा करना गलत है। विशेषज्ञों के मुताबिक, महिलाओं की यह आदत वीर्य को योनी में ठहरने नहीं देती। इस कारण गर्भधारण की प्रक्रिया प्रभावित होती है (6)। इसलिए, सलाह दी जाती है कि शारीरिक संबंध बनाने के बाद कुछ देर तक लेटे रहना चाहिए। ऐसा करने से गर्भधारण की संभावना बढ़ सकती है, लेकिन यहां हम स्पष्ट कर दें कि इसके पीछे कोई वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है।
  1. टाइट अंडर गारमेंट्स : टाइट अंडर गारमेंट का उपयोग गर्भधारण की प्रक्रिया में बाधा पैदा कर सकता है। जहां पुरुषों में यह आदत शुक्राणुओं की गुणवत्ता और मात्रा को प्रभावित करने का काम करती है (7), वहीं महिलाओं में इस आदत के कारण योनी संक्रमण होने का खतरा रहता है (8)। इन दोनों ही परिस्थितियों में गर्भधारण की प्रक्रिया प्रभावित होती है।
  1. अनिद्रा की समस्या : नींद न आने की समस्या महिला और पुरुष दोनों को शारीरिक और मानसिक रूप से प्रभावित करती है। महिलाओं में यह समस्या प्रजनन चक्र पर बुरा असर डालती है। इस कारण उनमें तनाव के साथ-साथ अनियमित मासिक चक्र की समस्या भी पैदा होती है, जो गर्भधारण न कर पाने का बड़ा जोखिम कारक है। वहीं, पुरुषों में यह समस्या उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करने का काम करती है। इस कारण वो संक्रमण (बुखार, फ्लू) का आसानी से शिकार हो जाते हैं। ऐसे में उनके शरीर में पैदा होने वाली गर्मी शुक्राणुओं की मात्रा को कम करने का काम कर सकती है (9)। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि महिला और पुरुष दोनों में अनिद्रा की समस्या गर्भधारण की प्रक्रिया को प्रभावित कर सकती है।
  1. अनियमित वजन : अनियमित वजन भी गर्भधारण की प्रक्रिया को प्रभावित करने का काम करता है। विशेषज्ञों के मुताबिक, अगर आपका वजन कम है, तो यह आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित करेगा। कारण यह है कि कम वजन कुपोषण की ओर इशारा करता है। इस कारण महिला ओव्युलेट नहीं कर पाती। फलस्वरूप गर्भधारण करने में उन्हें मुश्किल होती है। वहीं, इसके उलट अगर महिला का वजन बहुत ज्यादा है, तो भी गर्भधारण की संभावना काफी कम हो जाती है। चाहे आपका ओव्युलेशन चक्र नियमित क्यों न हो (10)
  1. चिकनाई का अधिक उपयोग : शारीरिक संबंध बनाने के दौरान अधिक चिकनाई का उपयोग भी गर्भधारण की प्रक्रिया को प्रभावित करने का काम कर सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक, बाजार में उपलब्ध चिकनाई वाले पदार्थ जैसे – जेल, तेल व क्रीम शुक्राणुओं की गतिशीलता पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। इस कारण निषेचन की प्रक्रिया में रुकावट पैदा होने की संभावना बनी रहती है, लेकिन इस विषय में अभी और शोध की आवश्यकता है (11)
  1. नशे की लत : धूम्रपान, शराब का सेवन व ड्रग्स लेने की आदत गर्भधारण न कर पाने की बड़ी वजह हो सकती है। माना जाता है कि जहां महिलाओं में यह आदत उनकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित करती है, वहीं पुरुषों में इस आदत की वजह से उनके शुक्राणुओं की गुणवत्ता और मात्रा पर असर पड़ता है। इस कारण यह कहा जा सकता है कि नशे की लत महिला और पुरुष दोनों में बांझपन या नपुंसकता के जोखिम कारकों को बढ़ाने का काम करती है (1) (12)
  1. प्रदूषण : प्रदूषित वातावरण भी गर्भधारण की प्रक्रिया में बाधा उत्पन्न करने का कारण बन सकता है। इस संबंध में किए गए शोध में पाया गया है कि वातावरण को प्रदूषित करने वाले पदार्थ जैसे – विषैले रसायन, कीटनाशक, सिगरेट का धुंआ व प्लास्टिक का प्रयोग आदि प्रजनन क्षमता पर बुरा असर डालते हैं (13)। इस प्रकार, प्रदूषित वातावरण गर्भधारण न कर पाने का एक कारण हो सकता है।
  1. अधिक उम्र : उम्र का ज्यादा होना भी गर्भधारण न कर पाने की एक बड़ी वजह हो सकती है। दरअसल, ऐसा माना जाता है कि 20 से 35 साल की उम्र में महिला गर्भधारण कर पाने में सबसे ज्यादा सक्षम होती है। वहीं, जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है प्राकृतिक रूप से उसकी प्रजनन क्षमता घटने लगती है। ऐसे में अगर आपकी उम्र 40 से अधिक है, तो गर्भधारण करने में परेशानी हो सकती है (1)
  1. ज्यादा व्यायाम : कई महिलाएं अपने शरीर को फिट रखने के लिए व्यायाम करना पसंद करती हैं। बेशक, यह स्वास्थ्य के लिए अच्छा है, लेकिन कहते हैं न कि किसी भी चीज की अति हमेशा बुरी होती है। यह बात व्यायाम पर भी लागू होती है। विशेषज्ञों के मुताबिक, ज्यादा व्यायाम करने वाली महिलाओं में प्रजनन प्रक्रिया अन्य के मुकाबले कम हो सकती है (1)
  1. स्मार्टफोन रखना : आज के समय में स्मार्टफोन और मोबाइल लोगों के जीवन का एक अहम हिस्सा है, लेकिन ऐसा करना आपके शुक्राणुओं की मात्रा को काफी हद तक नुकसान पहुंचा सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक, मोबाइल फोन से रेडिएशन निकलता रहता है, जो शुक्राणुओं को नुकसान पहुंचाता है। ऐसे में अगर आपके पति भी स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं, तो हो सकता है कि आपके गर्भधारण न कर पाने की वजह उनका स्मार्टफोन ही हो (14)
  1. बिसफिनोल ए (बीपीए) : शरीर में बिसफिनोल ए यानी बीपीए की उपस्थिति भी गर्भधारण न कर पाने का एक कारण हो सकती है। बता दें कि यह एक ऐसा तत्व है, जो खासकर प्लास्टिक पदार्थों में पाया जाता है। विशेषज्ञों के मुताबिक महिलाओं में इस तत्व की अधिक मात्रा उनकी प्रजनन क्षमता पर बुरा असर डालती है। कुछ मामलों में यह तत्व बांझपन का कारण भी बन सकता है (15)

मेडिकल कारण

सामान्य रूप से साल भर प्रयास करने के बाद भी अगर आपको सफलता हासिल नहीं होती है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लें। कारण यह है कि गर्भधारण न कर पाने के कुछ मेडिकल कारण भी हो सकते हैं। यहां हम आपको कुछ जरूरी मेडिकल कारणों के बारे में बताने जा रहे हैं।

  1. अनियमित मासिक चक्र : जिन महिलाओं को अनियमित मासिक चक्र की समस्या रहती है, उन्हें अनियमित ओव्युलेशन का सामना करना पड़ता है। इस कारण उन्हें गर्भधारण करने में अधिक समस्या होती है। जो महिला जितना कम ओव्युलेट करेगी उसके गर्भवती होने की संभावना उतनी ही कम होगी (16)
  1. एंडोमेट्रियोसिस : यह महिलाओं से संबंधी एक ऐसा विकार है, जो सीधे तौर पर उनकी प्रजनन क्षमता को बाधित करता है। कारण यह है कि इस समस्या में एंडोमेट्रियल कोशिकाएं (गर्भाशय की कोशिकाएं) गर्भाशय से बाहर की ओर बढ़ने लगती हैं, जो फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का कारण बनती है। इस कारण शुक्राणु और महिलाओं के सक्रिय अंडों का मिलन नहीं हो पाता। इस समस्या में महिलाओं को बार-बार पेशाब महसूस होना, संभोग के दौरान दर्द, मल त्याग में परेशानी जैसे लक्षण महसूस होते हैं (17)
  1. ओव्युलेशन की समस्या : कई महिलाओं में गर्भधारण न कर पाने का कारण ओव्युलेशन की समस्या होती है। माना जाता है कि कुछ खास आदतों, सर्जरी या फिर हार्मोनल समस्या की वजह से महिलाओं में ओव्युलेशन से संबंधित परेशानी पैदा होती है। जो पूर्ण रूप से बांझपन या गर्भधारण करने में मुश्किल का कारण बनती है (18)
  1. पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) : यह विकार महिलाओं में असंतुलित हार्मोन के कारण होता है। इस समस्या के कारण ओव्युलेशन की प्रक्रिया प्रभावित होती है। चूंकि ओव्युलेशन की प्रक्रिया गर्भधारण के लिए अत्यधिक जरूरी होती है। इस कारण पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम गर्भधारण में एक बड़ी बाधा का काम करता है (19)
  1. फैलोपियन ट्यूब में रुकावट : फैलोपियन ट्यूब में रुकावट गर्भधारण न कर पाने का एक बड़ा कारण होता है। इस स्थिति में निषेचन की प्रक्रिया यानी सक्रीय अंडों का शुक्राणुओं से मिलन नहीं हो पाता। यह समस्या एंडोमेट्रियोसिस, संक्रमण या अनियमित मासिक चक्र के कारण प्रजनन अंग में आने वाली सूजन की वजह से पैदा हो सकती है (16)
  1. अंडे संबंधी परेशानी : गर्भधारण की प्रक्रिया अंडों की गुणवत्ता पर भी निर्भर करती है। वहीं, महिलाओं में 35 से 40 की उम्र पार करने के बात अंडों की मात्रा और गुणवत्ता कम होने लगती हैं। वहीं, कुछ दैनिक आदतें और खानपान भी इस समस्या के लिए जिम्मेदार है। इस लिहाज से यह माना जा सकता है कि अगर अंडों की गुणवत्ता खराब होती है, तो इस कारण भी आपको मां बनने में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है (20)
  1. प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन की कमी : विशेषज्ञों के मुताबिक, महिलाओं में प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन की कमी गर्भधारण की प्रक्रिया को प्रभावित करती है। कारण यह है कि प्रोजेस्ट्रोन ऐसा हार्मोन है, जो महिलाओं में ओव्युलेशन की प्रक्रिया के लिए जिम्मेदार होता है। वहीं, इसकी कमी महिलाओं में इस प्रक्रिया को धीमा करने का काम करती है। ऐसे में महिला गर्भधारण न कर पाने की जटिलता से झूझती है (21)
  1. सर्विकल म्यूकस की समस्या : सर्विकल म्यूकस एक चिपचिपा पदार्थ है, जो संभोग के दौरान महिला की योनी में बनता है। गर्भधारण कि प्रक्रिया में यह शुक्राणुओं को अंदर आने में मदद करता है, लेकिन संक्रमण के कारण म्यूकस गाढ़ा हो जाता है। इस कारण यह शुक्राणुओं को आगे बढ़ने से रोकता है और गर्भधारण करने में परेशानी होती है (22)
  1. शुक्राणु संबंधी समस्याएं : गर्भधारण के लिए पुरुष के शुक्राणुओं की गुणवत्ता और मात्रा का होना भी अनिवार्य होता है। कुछ पुरुषों में शुक्राणु की मात्रा व गुणवत्ता कम होती है। ऐसे पुरुष को नपुंसकता की श्रेणी में गिना जाता है। इसका मुख्य कारण हार्मोन असंतुलन माना जाता है। ऐसी स्थिति में महिला साथी का गर्भधारण करना नामुमकिन होता है (23)
  1. थायराइड की समस्या : विशेषज्ञों के मुताबिक थायराइड की समस्या के कारण भी महिलाओं को गर्भधारण करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। कारण यह है कि थायराइड की समस्या महिला में मासिक चक्र अनियमितता और ओव्युलेशन की प्रक्रिया को प्रभावित करती है, जो बांझपन के जोखिम कारक हैं। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि थायराइड से पीड़ित महिलाओं को गर्भवती होने के लिए अधिक जटिलताओं का सामना करना पड़ता है (24)
  1. वीर्य नली में रुकावट : वीर्य नली में रुकावट भी गर्भधारण की समस्या का एक बड़ा कारण हो सकती है। दरअसल यह नली पुरुषों के वीर्य में शुक्राणुओं के मिलाने की प्रक्रिया का मुख्य स्रोत है। इसमें रुकावट आ जाने की स्थिति में वीर्य तो निकलता है, लेकिन उनमें शुक्राणु मौजूद नहीं होते। वहीं, गर्भधारण की प्रक्रिया महिला के सक्रीय अंडों और शुक्राणुओं के मिलन से ही पूर्ण होती है, इसलिए गर्भधारण न कर पाने का यह एक बड़ा कारण है। वीर्य नली में रुकावट के कई कारण हो सकते हैं जैसे – गोनोरिया और क्लेमाइडिया (पुरुष जननांग संबधी संक्रमण) या गुप्तांग में किसी प्रकार की अंदरुनी चोट के कारण (25)

अन्य कारण

  • अस्पष्टीकृत बांझपन- यह ऐसी समस्या है, जिसमें महिला किसी भी प्रकार की कोई समस्या न होने के बावजूद गर्भधारण करने में असमर्थ रहती है। इस संबंध में की गई जांच में भी किसी पुख्ता समस्या का पता नहीं चला है। कुछ शोध में पाया गया है कि बांझपन की इस अवस्था से पीड़ित लोगों ने विशेषज्ञों के सुझावों के साथ गर्भधारण में सफलता हासिल की है (26)
  • संयोजन बांझपन- बांझपन की वह स्थिति जिसमें महिला और पुरुष दोनों बांझपन/नपुंसकता के विकार से ग्रस्त हों। ऐसे में गर्भधारण के लिए इलाज के दौरान दोनों साथियों को जांच की सलाह दी जाती है (27)

गर्भधारण न कर पाने के सभी कारणों को जानने के बाद हम बात करेंगे इस समस्या के लक्षणों के बारे में।

प्रेग्नेंट न होने की समस्या के लक्षण

प्रेगनेंट न हो पाने की समस्या का एक मात्र लक्षण गर्भधारण करने की क्षमता का न होना है। इसे कुछ इस तरह से समझा जा सकता है कि अगर आपका मासिक चक्र अनियमित (35 दिन से अधिक या 21 दिन से कम) या अनुपस्थित हो, तो इसका मतलब यह है कि आप ओव्युलेट नहीं कर रही हैं। इसे गर्भधारण न कर पाने की समस्या के लक्षण के तौर पर देखा जा सकता है (16)

आगे के लेख में हम प्रेगनेंट न होने की समस्या के इलाज के बारे में जानेंगे।

प्रेग्नेंट न होने की समस्या का इलाज

गर्भधारण न कर पाने की समस्या का उपचार करने के लिए हम नीचे दिए गए सुझावों को अपना सकते हैं (1)

  • अपनी समस्या और स्थिति के बारे में चिकित्सक से परामर्श करें।
  • संक्रमण संबंधी विकारों का उपचार करवाएं।
  • डॉक्टर की सलाह से अंडाशय में अंडे की सक्रियता व गुणवत्ता बढ़ाने वाली दवाइयों का उपयोग कर सकते हैं।
  • सबसे बेहतरीन फर्टाइल दिनों की गणना कर ओव्युलेशन से ठीक पहले और उसके दौरान तीन दिन लगातार गर्भधारण के लिए प्रयास करें।
  • अगर तमाम तरह के उपचार से भी फायदा नहीं हो रहा है, तो चिकित्सक की सलाह पर अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान (Intrauterine insemination) और इन विट्रो निषेचन (In vitro fertilisation) जैसे प्रजनन उपचार का सहारा लिया जा सकता है।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या आप महीने के किसी भी समय गर्भवती हो सकती हैं?

महीने में किसी भी समय गर्भधारण करना संभव नहीं है। कारण यह है कि इसके लिए महिला का ओव्युलेट करना बहुत जरूरी है। ओव्युलेशन से तीन-चार पहले और उसके दौरान गर्भधारण के लिए बेहतर माने जाते हैं (1)

मैं दूसरी बार गर्भवती क्यों नहीं हो रही हूं?

दूसरी बार गर्भवती न हो पाने की समस्या के कुछ आम कारण हो सकते हैं। जैसे – आपकी या आपके साथी की उम्र अधिक हो गई हो, जिस कारण प्रजनन अंग ठीक से काम न कर पा रहे हों, कई बार गर्भपात भी इसकी वजह हो सकता है या फिर भ्रूण विकास संबंधी कोई विकार इसका कारण हो सकता है। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए चिकित्सक से संपर्क करें (28)

क्या नियमित मासिक धर्म चक्र होने का मतलब है, मेरी प्रजनन क्षमता सही है?

साधारण तौर पर नियमित मासिक चक्र सही प्रजनन क्षमता का इशारा देता है, लेकिन कुछ मामलों में अंडों की सक्रियता में कमी या उनसे संबंधित कोई अन्य विकार भी गर्भधारण में समस्या पैदा कर सकता है (20)

अब तो आप गर्भधारण न कर पाने की समस्या के बारे में अच्छे से जान ही गए होंगे। साथ ही आपको यह भी पता चल गया होगा कि किन-किन जोखिम कारकों के कारण यह समस्या हो सकती है। साथ ही लेख के माध्यम से हमने आपको इस समस्या के निदान और उपचार से संबधित जानकारी भी विस्तृत रूप से दी है। ऐसे में आप या आपकी कोई भी परिचित इस समस्या से गुजर रही हो, तो यह लेख आपकी परेशानी को काफी हद तक कम करने में मदद कर सकता है। इस संबंध में किसी अन्य सुझाव या जानकारी के लिए आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से आप हमसे जुड़ सकते हैं।

संदर्भ (References):

1. Infertility By Medlineplus
2. Before Your Pregnancy By Google Books
3. Analysis of semen parameters during 2 weeks of daily ejaculation: a first in humans study By Ncbi
4. Pregnancy – identifying fertile days By Medlineplus
5. The relationship between stress and infertility By Ncbi
6. How to Increase the Chances of Pregnancy By Sexinfo
7. Lifestyle factors and reproductive health: taking control of your fertility By Ncbi
8. Vaginal infections By Girlshealth
9. Sleep, Sleep Disturbance and Fertility in Women By Ncbi
10. Weight, fertility, and pregnancy By Womenshealth
11. The effects of vaginal lubricants on sperm function: an in vitro analysis By Ncbi
12. Many women undergoing fertility treatment make poor lifestyle choices that may affect treatment outcome. By Ncbi
13. Persistent Environmental Pollutants and Couple Fecundity: An Overview By Ncbi
14. Evaluation of the effect of using mobile phones on male fertility. By Ncbi
15. Evidence for bisphenol A-induced female infertility – Review (2007–2016) By Ncbi
16. Infertility By Obgyn
17. Treatment of Endometriosis in Women Desiring Fertility By Ncbi
18. What Causes Female Infertility? By Stanford
19. Polycystic ovary syndrome By Womenshealth
20. What age-related factors may be involved with infertility in females and males? By Nichd
21. Low progesterone levels and ovulation by ultrasound assessment in infertile patients. By Ncbi
22. Role of cervical mucus in human infertility. By Ncbi
23. How common is male infertility, and what are its causes? By Nichd
24. Infertility and thyroid disorders. By Ncbi
25. Male infertility: the role of imaging in diagnosis and management By Ncbi
26. Unexplained infertility: overall ongoing pregnancy rate and mode of conception. By Ncbi
27. Definition and causes of infertility. By Ncbi
28. Secondary infertility and the aging male, overview By Ncbi

 

Was this information helpful?

Comments are moderated by MomJunction editorial team to remove any personal, abusive, promotional, provocative or irrelevant observations. We may also remove the hyperlinks within comments.
The following two tabs change content below.

Latest posts by Ankit Rastogi (see all)

Ankit Rastogi